afp header code ends here -->

ताज़ा खबरें



होम >> BSF के बाद CRPF का ये जवान बयां कर रहा है अपना दर्द, देखें वीडियो

BSF के बाद CRPF का ये जवान बयां कर रहा है अपना दर्द, देखें वीडियो

 कपिल तिवारी 2017-01-12 11:36:39

साझा करें




नई दिल्ली: अभी तक जम्मू-कश्मीर में तैनात BSF जवान तेज बहादुर यादव के वायरल वीडियो का मामला थमा भी नहीं था कि छत्तीसगढ़ में तैनात CRPF के एक जवान का भी वीडियो सामने आया है जिसमें वीडियो के जरिए एक मैसेज शेयर किया है।

इस विडियो में उसने सीआरपीएफ जवानों की अनदेखी होने का आरोप लगाते हुए पीएम मोदी से मदद मांगी है। इस मामले पर गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर ने कहा कि उन्हें इस बारे में लिखित शिकायत तो नहीं मिली है, लेकिन सरकार जवानों के साथ भेदभाव नहीं होने देगी। जरूरी कदम उठाए जाएंगे।

CRPF के जिस जवान ने ये वीडियो शेयर किया है उसका नाम कॉन्स्टेबल जीत सिंह है। जवान ने आरोप लगाया है कि एक जैसी ड्यूटी होने के बावजूद सेना और सीआरपीएफ को दी जाने वाली सुविधाओं में काफी फर्क है। जवान का कहना है कि सीआरपीएफ वालों को न तो पेंशन मिलती है और न कोई दूसरी सुविधा। अपने भावुक अपील में जवान ने सवाल उठाया है कि उनके दर्द को आखिर कौन समझेगा।

और क्या-क्या कहा

अपने वीडियो में जवान कह रहा है कि 'मैं कान्स्टेबल जीत सिंह सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स (सीआरपीएफ) का जवान हूं। मैं आप लोगों के जरिए हमारे देश के प्रधानमंत्री श्री माननीय नरेंद्र मोदी तक एक संदेश पहुंचाना चाहता हूं। मुझे पूरा भरोसा है कि आप लोग मेरा सहयोग करेंगे। मेरा कहना यह है कि हम लोग सीआरपीएफ वाले इस देश के अंदर कौन सी ड्यूटी है, जो नहीं करते। लोकसभा चुनाव, राज्यसभा चुनाव, यहां तक कि छोटे मोटे ग्राम पंचायत चुनाव में काम करते हैं। इसके अलावा, वीआईपी सिक्यॉरिटी, वीवीआईपी सिक्यॉरिटी, संसद भवन, एयरपोर्ट, मंदिर, मस्जिद कोई भी ऐसी जगह नहीं, जहां सीआरपीएफ के जवान अपना योगदान न देते हों।'


जीत सिंह ने आगे कहा, 'इतना कुछ करने के बावजूद भी भारतीय आर्मी, सीआरपीएफ और बाकी अर्धसैनिक बलों के बीच फैसिलिटीज के बीच इतना अंतर है कि आप लोग सुनोगे तो हैरान रह जाओगे। सबसे पहले मैं माननीय मोदी जी से कहना चाहूंगा कि हमारे देश के अंदर न जाने कितने ही सरकारी स्कूल और कॉलेज हैं, जिनके अंदर बैठे आप टीचरों को पचास पचास साठ हजार महीने की पे दे रहे हो। और साल में वो न जाने कितने दिन हर त्योहार घर पर छुट्टियां मनाते हैं। और हम लोग कोई छत्तीसगढ़, कोई झारखंड के जंगलों में तो कोई जम्मू-कश्मीर के वादियों में पड़ा रहता है। हम लोगों को न कोई वेलफेयर मिलता है और न ही समय से छुट्टियां मिलती हैं।'


आखिर में जीत सिंह ने वीडियो में कहा है कि इस वीडियो को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और मेरी मदद करें। अगर मेरी बात से आप सहमत हों तो इस विडियो को जितना हो सके, आगे बढ़ाइए।'



ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें। हर पल अपडेट रहने के लिए ANDROID पर India Voice APP डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें। 

साझा करें



वीडियो

बड़ी खबरें



Live Streaming

IndiaVoice © Copyright 2016, All Rights Reserved Design and develop by DataLogic Tricks