1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. कोरोना काल में 37 हजार मरीजों तक सेवा पहुंचने वाले 108 एंबुलेंस का राज्य सरकार पर आठ करोड़ का बकाया

कोरोना काल में 37 हजार मरीजों तक सेवा पहुंचने वाले 108 एंबुलेंस का राज्य सरकार पर आठ करोड़ का बकाया

कोरोना काल में राज्य सरकार द्वारा संचालित 108 एम्बुलेंस सेवा लोगों के लिए वरदान साबित हुआ है। एम्बुलेंस चालक और एंबुलेंस में मौजूद ईएमटी( टेक्नीशियन) ने बिना डरे राज्य भर के 37 हजार कोरोना के मरीजों को अस्पताल पहुंचाने का काम किया है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

रांची- कोरोना काल में राज्य सरकार द्वारा संचालित 108 एम्बुलेंस सेवा लोगों के लिए वरदान साबित हुआ है। एम्बुलेंस चालक और एंबुलेंस में मौजूद ईएमटी( टेक्नीशियन) ने बिना डरे राज्य भर के 37 हजार कोरोना के मरीजों को अस्पताल पहुंचाने का काम किया है। कोरोना की लहर अब खत्म जरूर हो गयी है, लेकिन 108 एंबुलेंस सेवा सड़क दुर्घटना में घायल और बीमार मरीजों को अस्पताल पहुंचाने का काम बखूबी निभा रहा है। लेकिन पिछले 2 महीने से राज्य सरकार द्वारा 108 एंबुलेंस सेवा का संचालन कर रही है कंपनी जिकितजा हेल्थ केयर लिमिटेड को पैसे का भुगतान नहीं किया गया है। कंपनी का सरकार पर 7 करोड़ 88 लाख 58 हजार रुपए का बकाया हो गया है।

पढ़ें :- IAS Pooja Singhal Case : झारखंड और बिहार में 7 ठिकानों पर ED का छापा, पूजा के करीबी विशाल चौधरी के ठिकानों पर रेड, जानें और किस के ठिकानों पर हुई छापेमारी

आर्थिक तंगी का करना पड़ रहा है सामना

पलामू सीएचसी से मरीज लेकर रिम्स आए 108 एंबुलेंस के चालक राकेश ने कहा कि दो माह से वेतन नहीं मिलने के कारण परिवार की स्थिति दयनीय होते जा रही है। उन्होंने कहा कि मेरे कंधे पर घर चलाने की जिम्मेवारी है। बच्चों के पढ़ाई का खर्च के साथ घर का किराया भी देना पड़ता है। ऐसे में अब आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ रहा है।

मरीजों की जान बचाने की जिम्मेदारी हमारे कंधे के ऊपर

वही रामगढ़ सीएचसी से मरीज लेकर रिम्स आए 108 एंबुलेंस के ड्राइवर दीपक और टेक्नीशियन धनराज ने कहा कि कोरोना काल में जान जोखिम में डालकर हम लोगों ने मरीजों की सेवा की है। हमारे ऊपर मरीजों की जान बचाने की पूरी जिम्मेदारी होती है, लेकिन राज्य सरकार द्वारा हमारी कंपनी को पैसे का भुगतान नहीं किया गया है। जिस कारण 2 महीने से वेतन नहीं मिला है।

पढ़ें :- Jharkhand : अवैध खनन को लेकर एक्शन में सोरेन सरकार, 2 खदान सील, 2 को नोटिस, एक क्रशर प्लांट नष्ट

मरीजों को वक्त पर अस्पताल पहुंचाने के बाद भी नहीं मिला वेतन

वहीं धनबाद से रिम्स आए 108 एम्बुलेंस के चालक संजय शर्मा ने कहा की मरीजों को समय पर अस्पताल पहुंचाने की जिम्मेदारी होती है। मरीजों की जान हमारे हांथों में है, लेकिन हमारी जान का परवाह राज्य सरकार नहीं कर रही है। 2 माह से वेतन नहीं मिला है। ऐसे में पेट कैसे भरें और घर को कैसे चलाएं यह समझ नहीं आ रहा है।

राज्य भर में 337 एंबुलेंस का हो रहा है संचालन

झारखंड में 108 एंबुलेंस योजना के तहत राज्य भर में 337 एंबुलेंस का संचालन हो रहा है। इनमें एडवांस लाइफ सेविंग(ALS) और बेसिक लाइफ सेविंग(BLS) एंबुलेंस है। राज्य सरकार प्रति एंबुलेंस 1,17,000 प्रति महीना जिकितजा हेल्थ केयर लिमिटेड कंपनी को भुगतान करती है।

जुलाई-अगस्त माह का राज्य सरकार पर बकाया

पढ़ें :- Jharkhand : अवैध कार्यों पर अधिकारी लगाएं लगाम, नहीं तो होगी कठोर कार्रवाई- डीजीपी

वहीं 108 एंबुलेंस के सेंटर हेड मिल्टन सिंह ने कहा कि जुलाई और अगस्त महीने के पैसे का बकाया राज्य सरकार के ऊपर है। हमारी कोशिश है कि जल्द ही राज्य सरकार हमें पैसे का भुगतान करें ताकि हम अपने कर्मचारियों को वेतन दे सके। उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से विलंब हुआ है, लेकिन उम्मीद करता हूँ जल्द ही सरकार हमे पैसे का भुगतान करेगी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...