1. हिन्दी समाचार
  2. ख़बरें जरा हटके
  3. व्यंग्य को नई रंगत देने वाले श्रीलाल शुक्ल ने आज के दिन दुनिया को कहा था अलविदा

व्यंग्य को नई रंगत देने वाले श्रीलाल शुक्ल ने आज के दिन दुनिया को कहा था अलविदा

साहित्य की दुनिया में व्यंग्य को नई रंगत देने वाले श्रीलाल शुक्ल आईएएस और ज्ञानपीठ पुस्कार से नवाजे गए। इसके साथ ही राग दरबारी ने कैसे उनके जीवन को नई दिशा प्रदान की।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

राग दरबारी का रचयिताः कालजयी व्यंग्य उपन्यास ‘राग दरबारी’ के रचयिता श्रीलाल शुक्ल का 28 अक्टूबर 2011 में निधन हो गया। व्यंग्य लेखन से हिंदी साहित्य को नयी रंगत देने वाले श्रीलाल शुक्ल ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित थे। बेबाक बयानी के लिए मशहूर श्रीलाल शुक्ल उद्देश्यपूर्ण व्यंग्य लेखन के लिए मशहूर थे।

31 दिसंबर 1925 को लखनऊ के मोहनलालगंज के पास अतरौली गांव में पैदा हुए श्रीलाल शुक्ल पीसीएस बने और बाद में प्रोन्नत होकर आईएएस बने। संस्कृत, हिंदी, उर्दू और अंग्रेजी के विद्वान श्रीलाल शुक्ल सरकारी सेवा में रहते हुए अपने लेखन को वे समृद्ध करते रहे। उनका पहला उपन्यास 1957 में ‘सूनी घाटी का सूरज’ और सबसे लोकप्रिय उपन्यास ‘राग दरबारी’ 1968 में प्रकाशित हुआ।

चुटीले अंदाज में व्यवस्था पर चोट करने वाले उपन्यास ‘राग दरबारी’ ऐसा लोकप्रिय हुआ कि पंद्रह भारतीय भाषाओं के साथ अंग्रेजी में भी इसका प्रकाशन हुआ। हिंदी साहित्य की कई पीढ़ियों ने इस उपन्यास को बेहद पसंद किया। 1969 में उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला। उन्होंने हिंदी साहित्य को कुल 25 कृतियां दीं जिनमें राग विराग, मकान, विश्रामपुर का संत शामिल हैं।

अन्य अहम घटनाएं:

1867: स्वामी विवेकानंद की सहयोगी एवं समाजसेवी सिस्टर निवेदिता का जन्म।
1900: प्रसिद्ध जर्मन संस्कृतवेत्ता एवं प्राच्य विद्या विशारद मैक्स मूलर का निधन।
1930: भारतीय फिल्मों के मशहूर गीतकार अनजान का जन्म।
1955: माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स का जन्म।
1963: भारतीय रिजर्व बैंक के 24वें गवर्नर रहे उर्जित पटेल का जन्म।
2013: मशहूर साहित्यकार व संपादक राजेंद्र यादव का निधन।
हिन्दुस्थान समाचार

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
India Voice Ads
X