1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. कोविड-19 से मई 2021 तक 80000 से 1,80,000 स्वास्थ्यकर्मियों की मौत हुई- WHO

कोविड-19 से मई 2021 तक 80000 से 1,80,000 स्वास्थ्यकर्मियों की मौत हुई- WHO

कोरोना महामारी से ये साफ हुआ है कि हम स्वास्थ्यकर्मियों पर कितने निर्भर हैं। ये भी साफ हुआ है कि जब हमारे स्वास्थ्य की रक्षा करने वाले लोग असुरक्षित हैं तो हम सब कितने असुरक्षित हैं।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

जिनेवा, 22 अक्टूबर। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की रिपोर्ट में खुलासा किया गया है कि कोरोना महामारी की शुरुआत जनवरी 2020 से मई 2021 तक 80,000 से 1,80,000 स्वास्थ्यकर्मियों की मौत हुई है। WHO के डायरेक्टर जनरल टेड्रोस अधानोम ने कहा कि हर स्वास्थ्य प्रणाली की रीढ़ उसका कार्यबल (वर्कफोर्स) होता है। कोरोना महामारी से ये साफ हुआ है कि हम स्वास्थ्यकर्मियों पर कितने निर्भर हैं। ये भी साफ हुआ है कि जब हमारे स्वास्थ्य की रक्षा करने वाले लोग असुरक्षित हैं तो हम सब कितने असुरक्षित हैं।

पढ़ें :- गाम्बिया में 66 बच्चों की मौत पर डब्ल्यूएचओ अलर्ट के बाद केंद्र ने 4 खांसी की दवाई की जांच की

रिपोर्ट में कहा गया है कि 119 देशों के आकड़ों के मुताबिक सितंबर 2021 तक 5 में से 2 स्वास्थ्यकर्मियों को औसतन पूरी वैक्सीन लगाई गई। अफ्रीकी और पश्चिमी प्रशांत क्षेत्रों में 10 में से एक स्वास्थ्यकर्मी को वैक्सीन की पूरी डोज दी गई है। ज्यादातर उच्च आय वाले 22 देशों ने बताया कि उनके 80 प्रतिशत से अधिक स्वास्थ्य कर्मियों को वैक्सीन की सभी डोज लग चुकी है।

पढ़ें :- WHO ने कहा- यूरोप में समाप्ति की ओर बढ़ रहा कोरोना, सीमाओं को खोलने की तैयारी में न्यूजीलैंड

WHO वर्क फोर्स विभाग के डायरेक्टर जिम कैंपबेल ने बताया कि सभी स्वास्थ्य और देखभाल कर्मचारियों की रक्षा करना, उनके अधिकारों को सुनिश्चित करना और उन्हें एक सुरक्षित वातावरण में अच्छा काम प्रदान करना हमारा नैतिक दायित्व है। इसमें वैक्सीन तक पहुंच शामिल होनी चाहिए।

स्वास्थ्य कर्मियों की मौत के अलावा WHO इस बात से भी चिंतित है कि इस क्षेत्र से जुड़े अधिकतर लोग तनाव, चिंता और थकान से ग्रस्त हैं। वैश्विक स्वास्थ्य निकाय ने नेताओं और नीति निर्माताओं से टीकों की समान पहुंच सुनिश्चित करने का आह्वान किया है, ताकि स्वास्थ्य और देखभाल कर्मियों को प्राथमिकता दी जा सके। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने ये भी कहा है कि कोरोना का प्रभाव 2022 तक रहेगा। इसका एक बड़ा कारण ये है कि गरीब देशों तक अब तक वैक्सीन नहीं पहुंची है।

टेड्रोस अधानोम ने कहा है कि पहली वैक्सीन को मंजूरी मिले 10 महीने से अधिक का समय हो गया है, पर सच्चाई है कि लाखों स्वास्थ्य कर्मचारियों को अभी तक टीका नहीं लगाया गया है। ये उन देशों और कंपनियों के लिए बहुत ही हताश करने वाली बात है जो वैक्सीन की वैश्विक आपूर्ति को नियंत्रित करते हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...