1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Possitive News : एक अनोखा अस्पताल जहां बेजुबां पक्षियों का होता है मुफ्त इलाज !

Possitive News : एक अनोखा अस्पताल जहां बेजुबां पक्षियों का होता है मुफ्त इलाज !

ओपीडी से लेकर आईसीयू और जनरल वार्ड की मिलती है सुविधा

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

गाजियाबाद, 28 अक्टूबर। दिल्ली से सटे गाजियाबाद के कविनगर में बेजुबान पक्षियों के लिए एक ऐसा अस्पताल चल रहा है, जहां पर इंसानों की तरह बेजुबां पशुओं का इलाज किया जाता है। फ़र्क़ इतना है कि इंसानों के अस्पतालों में इलाज के नाम पर अनाप-शनाप धन वसूला जाता है जबकि इस अस्पताल में पक्षियों की बीमारी के हिसाब से ओपीडी से लेकर आईसीयू व जनरल वार्ड जैसी सुविधाएं बिल्कुल मुफ्त में उपलब्ध कराई जाती हैं। अस्पताल में न केवल गाजियाबाद बल्कि आसपास के जिलों गौतमबुद्ध नगर, हापुड़ और बुलन्दशहर जिले से भी पक्षियों को इलाज के लिए लाया व भर्ती किया जाता है और स्वस्थ होने पर उन्हें वापस भेज दिया जाता है।

पढ़ें :- ई-रिक्शा और 5 मोटर साइकिलों के साथ 6 वाहन चोर गिरफ्तार

जैन पक्षी चिकित्सालय में होता है पक्षियों का इलाज 

कवि नगर में संचालित श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन पक्षी चिकित्सालय में पक्षियों की हर बीमारी का इलाज किया जाता है। स्वस्थ होने के बाद उन्हें वापस छोड़ दिया जाता है। वर्तमान में 434 पक्षियों आईसीयू या जनरल वार्ड में उपचाराधीन हैं। पक्षियों के चिकित्सक डॉ. दीपक चौधरी यहाँ लगातार विजिट करते हैं तथा बीमार पक्षियों का इलाज करते हैं।

फार्मासिस्ट सोमप्रकाश बताते हैं कि इस अस्पताल में न केवल पालतू पक्षी लाये जाते हैं बल्कि जंगली पक्षी जो दुर्घटना ने घायल हो जाते हैं या बीमार हो जाते हैं, उनका इलाज किया जाता है। ज्यादा बीमार पक्षी को पहले आईसीयू में रखा जाता है। ठीक होने पर उसे जनरल वार्ड में शिफ्ट कर दिया जाता है और पूरी तरह से ठीक होने पर उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी जाती है। जो पक्षी कम बीमार होते हैं, उन्हें ओपीडी से प्राथमिक इलाज के बाद भेज दिया जाता है।

सभी प्रजातियों के पक्षियों का होता है इलाज

पढ़ें :- UP TET पेपर लीक मामले में औरैया से गैंग के सरगना समेत 11 सदस्य गिरफ्तार, खोले कई राज

अस्पताल में पक्षियों की बीमारियों के हिसाब से इलाज चलता है और उनकी सेहत में सुधार होने पर आसमान में छोड़ दिया जाता है। फॉर्मासिस्ट सोमप्रकाश ने बताया कि पक्षियों की पहचान के लिए कोड और पर्ची दी जाती है, जिसमें पक्षी और उसके मालिक का पूरा ब्योरा दर्ज किया जाता है। हालांकि, इलाज के बाद ठीक होते ही परिंदों को आजाद कर दिया जाता है।

जैन समाज के सहयोग से पिछले 22 वर्षों से चल रहा है अस्पताल

सोम प्रकाश बताते हैं कि यह अस्पताल जैन समाज द्वारा 29 मार्च, 1999 से संचालित किया जा रहा है। यहां लाए जाने वाले पक्षियों के इलाज की एवज में कोई फीस नहीं वसूली जाती बल्कि अस्पताल को चलाने के लिए जैन समाज के साथ-साथ अन्य समाज के लोग भी दान करते हैं। यहां पर दो आईसीयू तथा 9 जनरल वार्ड है। पक्षियों को उनकी सेहत में सुधार के हिसाब से शिफ्ट किया जाता है। पक्षियों को खांसी, जुकाम, नजला, आंख में इंफेक्शन, उल्टी-दस्त जैसी बीमारियां होती हैं। उन्होंने बताया कि मांसाहारी पक्षियों को अस्पताल में भर्ती नहीं किया जाता है बल्कि उन्हें प्राथमिक उपचार के बाद भेज दिया जाता है, क्योंकि इस अस्पताल में मांसाहार पूरी तरह से प्रतिबंधित है लेकिन फिर भी उनका इलाज किया जाता है ।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...