1. हिन्दी समाचार
  2. बिहार
  3. Air Fuel : बिहार और नेपाल को नहीं होना होगा परेशान जल्द होने जा रहा है यह काम

Air Fuel : बिहार और नेपाल को नहीं होना होगा परेशान जल्द होने जा रहा है यह काम

संभावना है कि ट्रायल के बाद अप्रैल से बरौनी 'रिफाइनरी एटीएफ' की आपूर्ति शुरू कर दे।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

बिहार, 03 दिसंबर। बिहार और बिहार से सटे पड़ोसी देश नेपाल को अब ‘हवाई ईंधन‘ यानी (ATF) के लिए अब दूसरे राज्यों के भरोसे रहने की जरूरत नहीं पड़ेगी। आपको बता दें कि बिहार के इकलौते (Oil Purifier) ‘इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन’ (Indian Oil Corporation) के बरौनी रिफाइनरी से अगले साल 2022 से ‘एविएशन टर्बाइन फ्यूल‘ (ATF) का उत्पादन शुरू हो जाएगा। बता दें कि ‘मेक इन इंडिया’ (Make In India) स्कीम को स्वदेशी शोधन तकनीक से मजबूत करने के उद्देश्य से बिहार और नेपाल के हवाई तेल जरूरतों को पूरा करने वाले ‘हाइड्रो इंडजेट यूनिट‘ के कमिशनिंग का कार्य बेहद ही तेजी से चल रहा है।

पढ़ें :- Bihar News:पुलिसवाले ने पत्नी को मिट्टी तेल डालकर जिंदा जलाया,आरोपी जवान बक्सर में है पोस्टेड

 

दिसंबर महीने के अंत तक परियोजना का कार्य पूरा होना की उम्मीद 

हालांकि आपको बता दें कि इस परियोजना को अक्टूबर में ही पूरा करने का प्रस्ताव था पर कोरोना महामारी के कारण इसके कार्य में विलंब हुआ। पर उम्मीद जताई जा रही है कि इसी महीने दिसंबर के अंत तक यूनिट कमिशनिंंग द्वारा इस कार्य को पूरा कर लिया जाएगा। परियोजना के पूरा होते ही अगलेे वर्ष यानी 2022 में उत्पादन और आपूर्ति भी शुरू कर दी जाएगी। साथ ही संभावना है कि ट्रायल के बाद अप्रैल से बरौनी ‘रिफाइनरी एटीएफ’ की आपूर्ति शुरू कर दे। आपको बता दें कि पीएम मोदी द्वारा 17 फरवरी 2019 को शिलान्यास किए गए ‘इंडजेट यूनिट‘ से हवाई ईंधन (ATF या विमान टर्बाइन ईंधन) के उत्पादन के लिए उर्जा कौशल और किफायत की दृष्टि से करीब 189 करोड़ की लागत से स्थापित किया जा रहा है।

 

वर्तमान समय में ATF की आपूर्ति बिहार के बाहर से होती है 

बता दें कि इस परियोजना में ‘इंडियन ऑयल’ के अनुसंधान एवं विकास केंद्र द्वारा विकसित ‘स्वदेशी तकनीक’ का उपयोग किया जा रहा है, जो कि भारत सरकार के ‘मेक इन इंडिया पहल’ को मजबूत करती है। यह यूनिट नागरिक तथा सैन्य विमानन ईंधन की आवश्यकताओं को पूरा करेगा साथ इससे 250 किलो टन KTPA एटीएफ प्रतिवर्ष के उत्पादन की योजना है। बिहार की औद्योगिक राजधानी बेगूसराय में लग रहा यह यूनिट बिहार एवं आस-पास के क्षेत्रों के साथ-साथ ‘नेपाल ऑयल कॉरपोरेशन’ के एटीएफ आवश्यकता को भी पूरा करेगा। दरअसल वर्तमान समय में ATF का बिहार से बाहर के ‘इंडियन ऑयल रिफाइनरी’ द्वारा आपूर्ति की जाती है।

पढ़ें :- Bihar News: गोपालगंज में ठेकेदार की हत्या, हाईवे किनारे मिली लावारिस हालत में बाइक और लाश

 

1965 में हुआ था बरौनी रिफाइनरी का उद्घाटन 

उल्लेखनीय है कि ’15 जनवरी 1965′ को तत्कालीन ‘केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री प्रो. हुमायूं कबीर’ द्वारा 1M मैट्रिक टन शोधन क्षमता के बरौनी रिफाइनरी का उद्घाटन किया गया था। 1969 में इसकी क्षमता 1 से बढ़ाकर 3 MMTPA कर दिया गया। इसके बाद 1999 में रिफाइनरी की क्षमता का नवीकरण कर तीन से छह MMTPA किया गया था। अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के नेतृत्व वाली सरकार में इसकी क्षमता 6से बढ़ाकर 9 MMTPA किया जा रहा है। इसके साथ ही हवाई ईंधन बनाने और पेट्रोकेमिकल की स्थापना का काम भी काफी तेजी से चल रहा है। इंडजेट यूनिट जहां हवाई तेल के मांग पूर्ति में सहायक होगा, वहीं पेट्रोकेमिकल बिहार के औद्योगिक विकास का नया आयाम रचेगा।

 

पढ़ें अन्य खबरें –

News Bulletin : पढ़ें सुबह की 10 बड़ी ख़बरें, जिन पर होंगी हमारी ख़ास नजर

पढ़ें :- तेजस्वी यादव ने जनसभा को किया संबोधित, कहा: हमारा गठबंधन ए टू जेड वाला है...

UPTET Paper Leak : यूपी एसटीएफ का बड़ा खुलासा, स्कूली बच्चों से टाइप कराया गया था पेपर

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...