1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. नाटो का रहेगा काबुल एयरपोर्ट पर नियंत्रण, 18 हजार लोगों को बाहर निकाला

नाटो का रहेगा काबुल एयरपोर्ट पर नियंत्रण, 18 हजार लोगों को बाहर निकाला

काबुल एयरपोर्ट को अपने कब्जे में बनाए रखेगा। यह फैसला सदस्य देशों के विदेशमंत्रियों ने वर्चुअल मीटिंग में किया है। काबुल पर तालिबान के कब्जे के बाद अभी तक नाटो देशों के 18 हजार से ज्यादा नागरिक वहां से बाहर निकाले जा चुके हैं।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

अमेरिका के नेतृत्व वाले सैन्य गठबंधन नाटो (उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन) काबुल एयरपोर्ट को अपने कब्जे में बनाए रखेगा। यह फैसला सदस्य देशों के विदेशमंत्रियों ने वर्चुअल मीटिंग में किया है। काबुल पर तालिबान के कब्जे के बाद अभी तक नाटो देशों के 18 हजार से ज्यादा नागरिक वहां से बाहर निकाले जा चुके हैं। इससे कई गुना विदेशी नागरिक अभी काबुल और बडे़ शहरों में मौजूद हैं।

पढ़ें :- अफगानिस्तान के हेरात शहर की मस्जिद में भीषण विस्फोट, शीर्ष मौलवी की मौत, 200 से ज्यादा घायल

नाटो ने तालिबान से विदेशी नागरिकों की सुरक्षित वापसी में सहयोग देने का अनुरोध किया है। अफगानिस्तान के 95 प्रतिशत इलाके पर कब्जा करने के बाद तालिबान ने देश की जमीनी सीमाओं से आवाजाही पर रोक लगा दी है। इसलिए देश से बाहर जाने के लिए काबुल हवाई अड्डा ही एकमात्र जरिया बचा है।

काबुल हवाई अड्डे पर अमेरिका, ब्रिटेन और तुर्की के सैनिकों का नियंत्रण है। इनमें सर्वाधिक 5,800 सैनिक अमेरिका के हैं। नाटो के महासचिव जेंस स्टोटेनबर्ग ने काबुल हवाई अड्डे पर कब्जा बनाए रखने के लिए तीनों देशों का शुक्रिया अदा किया है।
हवाई अड्डे के बाहर पूरे काबुल पर तालिबान का नियंत्रण है। बताया गया है कि काबुल एयरपोर्ट के बाहर अफगानिस्तान छोड़कर जाने के इच्छुक लोगों की भीड़ लगी हुई है। तालिबान लड़ाके उसे हटाने की कोशिश में जब-तब हवाई फायरिंग भी करते रहते हैं।

अब तक 12 लोगों की मौत

फायरिंग और भगदड़ में रविवार से अब तक 12 लोगों के मारे जाने की सूचना है। पता चला है कि तालिबान विदेशी लोगों को देश से बाहर जाने से नहीं रोक रहे, लेकिन अफगान नागरिकों को वे रोक रहे हैं। तालिबान इसे अपनी स्वीकार्यता से जोड़कर दिखाना चाहते हैं। वे यह दिखाना चाहते हैं कि अधिकांश अफगान उनके साथ हैं।

पढ़ें :- NATO : स्वीडन और फिनलैंड को नाटो सदस्यता के लिए 30 देशों की हरी झंडी, एक्सेशन प्रोटोकॉल पर हस्ताक्षर

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...