1. हिन्दी समाचार
  2. गैलरी
  3. जब नाटक करते रजनीकांत पर पड़ी थी फिल्म निर्देशक बाला चंद्रा की नजर

जब नाटक करते रजनीकांत पर पड़ी थी फिल्म निर्देशक बाला चंद्रा की नजर

रजनीकांत का असली नाम शिवाजी राव गायकवाड़ है। रजनीकांत ने कुली से लेकर बस कंडक्टर तक का काम किया है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

साउथ फिल्म इंडस्ट्री में थलाइवा यानि ‘बॉस’ के नाम से मशहूर दिग्गज फिल्म अभिनेता रजनीकांत का जन्म 12 दिसंबर, 1950 को बंगलुरू में हुआ था। रजनीकांत का असली नाम शिवाजी राव गायकवाड़ था। रजनीकांत ने कुली से लेकर बस कंडक्टर तक का काम किया है।

पढ़ें :- Birthday Special Abhishek Bachchan: मंजिलें किसी की भी आसान नहीं होती, अभिषेक बच्चन ने एलआईसी एजेंट के तौर पर की थी करियर की शुरुआत

 

 रजनीकांत को पहला फिल्म फिल्म निर्देशक के.बाला चंद्र ने दिया 

rajnikant 1st film, Apoorva Raagangal
साल 1973 में रजनीकांत ने अपने शौक को पूरा करने के उद्देश्य से मद्रास फिल्म इंस्टीट्यूट से एक्टिंग में डिप्लोमा किया और साथ ही वो नाटकों में हिस्सा लेने लगे। इस दौरान फिल्म निर्देशक के. बाला चंद्र की नजर की उन पर पड़ी और वह उनसे बहुत प्रभावित हुए। बाला ने रजनीकांत को पहली बार तमिल फिल्म ‘अपूर्वा रागंगल’ में अभिनय करने का मौका दिया। इस फिल्म में वह छोटी भूमिका में रहने के बावजूद अपने अभनय से सबका दिल जीत लिया।

 

फिल्मों में मिलता था विलेन का रोल

billa film , rajnikant

पढ़ें :- इमरान हाशमी ने बेटे अयान के जन्मदिन पर तस्वीर सांझा कर लिखा-जैसा बाप वैसा बेटा

शुरुआती दौर में रजनीकांत ज्यादातर फिल्मों में विलेन का किरदार निभाते नजर आये।साल 1977 में तेलुगु फिल्म ‘छिलाकाम्मा चेप्पिनडी’ में उन्हें पहली बार मुख्य अभिनेता के रूप में काम करने का मौका मिला और फिर इनके फिल्मो का सिलसिला जारी रहा। फिल्मों में अपने अलग अंदाज और स्टाइल से रजनीकांत ने हर किसी को अपना दीवाना बना लिया। फिल्म ‘बिल्ला’ उनकी पहली व्यावसायिक रूप से सफल फिल्म थी।

 

अमिताभ बच्चन और रजनीकांत दिखे पर्दे पर एक साथ 

AMITABH AND RAJNIKANT, Andha kanoon
रजनीकांत की पहली बॉलीवुड फिल्म ‘अंधा कानून’ साल 1983 में रिलीज हुई थी, इस फिल्म में उनके साथ हेमा मालिनी और अमिताभ बच्चन थे। इसके बाद उन्होंने तमिल-तेलगु जैसे कई अन्य भाषाओं में भी काम किया। फिल्मों में उनके अभूतपूर्ण योगदान के लिए भारत सरकार ने उन्हें 2000 में पद्म भूषण और 2016 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया। हाल ही में उन्हें दादा साहब फाल्के पुरस्कार से नवाज़ा गया है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...