1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. उत्तराखंड : अयोध्या से लौटे मुख्यमंत्री धामी, एयरपोर्ट पर दी शहीदों को श्रधांजलि !

उत्तराखंड : अयोध्या से लौटे मुख्यमंत्री धामी, एयरपोर्ट पर दी शहीदों को श्रधांजलि !

आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हुए सूबेदार अजय सिंह और नायक हरेंद्र सिंह के पार्थिव शरीर पर पुष्प चक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

देहरादून,17 अक्टूबर : प्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी अपने दो दिवसीय अयोध्या दौरे के बाद आज पुनः उत्तराखंड पहुँचे। जहाँ मुख्यमंत्री धामी ने जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर कश्मीर में आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हुए सूबेदार अजय सिंह और नायक हरेंद्र सिंह के पार्थिव शरीर पर पुष्प चक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। वहीं आपको बता दें कि मुख्यमंत्री के साथ कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल, गणेश जोशी, स्वामी यतीश्वरानंद ने भी शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की।

पढ़ें :- Uttarakhand : चहुंमुखी विकास की ओर अग्रसर है उत्तराखंड, लोगों का हो रहा है री-वेरिफिकेशन- CM पुष्कर सिंह धामी

इस मौके पर मुख्यमंत्री धामी ने उनकी शहादत को नमन करते हुए कहा कि राज्य सरकार शहीदों के परिजनों के साथ हर समय खड़ी है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि अमर शहीदों के बलिदान को अपनी स्मृतियों में सदैव जीवंत रखकर देश सेवा के प्रति अपना जीवन समर्पित करना ही सच्ची श्रद्धांजलि है।

आपको बता दें कि शहीद सूबेदार अजय सिंह टिहरी जनपद के, जबकि नायक हरेंद्र सिंह पौड़ी जिले के निवासी हैं। ख़बरों के मताबिक सूबेदार अजय सिंह और नायक हरेंद्र सिंह जंगलों में छिपे आतंकवादियों को खदेड़ने के लिए सुरक्षा बलों की ओर से शुरू किए गए तलाशी अभियान का हिस्सा थे। बताया गया कि 14 अक्टूबर 2021 को आतंकवादियों के साथ भीषण गोलाबारी के बाद सूबेदार अजय सिंह और नायक हरेंद्र सिंह के साथ कम्युनिकेशन नेटवर्क बंद हो गया था।

आतंकवादियों को ढेर करने और सैनिकों के साथ कम्युनिकेशन बहाल करने के बाद तलाशी अभियान जारी रहा। इस दौरान शनिवार शाम को सूबेदार अजय सिंह और नायक हरेंद्र सिंह के शव बरामद किए गए। सूबेदार अजय सिंह, रामपुर ग्राम, तहसील नरेंद्र नगर, टिहरी के और शहीद नायक हरेंद्र सिंह ग्राम पीपलसारी, पोस्ट रिखनीखाल तहसील लैंसडाउन, पौड़ी गढ़वाल के रहने वाले थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि अमर शहीदों ने देश सेवा के लिए अपने प्राणों का सर्वाेच्च बलिदान दिया है जिसको कभी भुलाया नहीं जा सकता है।

उत्तराखण्ड वीरों की धरती है। राज्य के वीर सपूत अपनी जान देकर कर भी भारत माता की रक्षा के अपने प्रण को निभाहते हैं। हमारी सरकार वीर सपूतों की अमर शहादत को नमन करती है। शहीदों के परिवारजन हमारी जिम्मेदारी हैं। हालांकि परिवारजनों की इस क्षति को पूरा नहीं किया जा सकता परंतु राज्य सरकार शहीदों के परिवार से एक व्यक्ति को सरकारी नौकरी सहित हर सम्भव सहायता के लिए प्राथमिकता से कार्य कर रही है।

पढ़ें :- Uttarakhand : चुनाव प्रचार का अंतिम दिन आज, सभी पार्टियों ने झोंकी ताकत

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...