1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. सरकारी आयुर्वेदिक कॉलेज को सेंटर ऑफ एक्सीलेंस के रूप में विकसित किया जाएगा : सोनोवाल

सरकारी आयुर्वेदिक कॉलेज को सेंटर ऑफ एक्सीलेंस के रूप में विकसित किया जाएगा : सोनोवाल

-मुख्यमंत्री डॉ सरमा ने पूर्वोत्तर में आयुष क्षेत्र के व्यवस्थित विकास का किया आह्वान

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

गुवाहाटी, 28 अगस्त । केंद्रीय आयुष और बंदरगाह, जहाजरानी और जलमार्ग मंत्री सर्वानंद सोनोवाल और असम के मुख्यमंत्री डॉ. हिमंत बिस्व सरमा “आपकी सेवा में आयुष” विषय पर चिकित्सा की आयुष प्रणाली को बढ़ावा देने के लिए पूर्वोत्तर राज्यों के स्वास्थ्य मंत्रियों के सम्मेलन में शामिल हुए। यह सम्मेलन शनिवार को गुवाहाटी में असम प्रशासनिक स्टाफ कॉलेज में आयोजित किया गया था।

पढ़ें :- असम: रैगिंग से बचने के लिए छात्र ने हॉस्टल की दूसरी मंजिल से छलांग लगाई, 5 गिरफ्तार

केंद्रीय मंत्री सोनोवाल ने अपने संबोधन में देश के विकास केंद्र के रूप में पूर्वोत्तर की क्षमता पर प्रकाश डाला। क्षेत्र में औषधीय पौधों की प्रचुरता के साथ-साथ पारंपरिक दवाओं की लोकप्रियता सहित प्राकृतिक संसाधनों की उपलब्धता पर विचार करते हुए केंद्रीय मंत्री ने बताया कि आयुष क्षेत्र में पूर्वोत्तर की क्षमता का उपयोग करने के लिए उनके मंत्रालय द्वारा पर्याप्त जोर दिया गया है।

सोनोवाल ने बताया कि आयुष मंत्रालय राष्ट्रीय आयुष मिशन के तहत असम के ग्वालपाड़ा में एक आयुर्वेदिक कॉलेज के साथ पूर्वोत्तर में 100 आयुष औषधालय, 1000 स्वास्थ्य और कल्याण केंद्र स्थापित करेगा। आयुर्वेदिक कॉलेज की स्थापना की परियोजना पर 70 करोड़ रुपये खर्च किये जाएंगे। केंद्रीय मंत्री ने यह भी घोषणा की कि गुवाहाटी में सरकारी आयुर्वेदिक कॉलेज को उत्कृष्टता केंद्र के रूप में विकसित किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय औषधीय पादप बोर्ड (एनएमपीबी) क्षेत्र में कच्चे उत्पादों के प्रसंस्करण के लिए एक सुविधा केंद्र स्थापित करेगा। इसके अलावा आयुष स्वास्थ्य प्रबंधन प्रणाली के कार्यान्वयन और इनवेस्ट इंडिया स्ट्रैटेजिक सेंटर और फैसिलिटेशन ब्यूरो की स्थापना के लिए पूर्वोत्तर में कदम उठाए जाएंगे।

सम्मेलन में प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए असम के मुख्यमंत्री डॉ सरमा ने कहा, “आयुष हमारी विरासत है और आंतरिक रूप से हमारी सभ्यता से जुड़ी हुई है। हम जिस तरह से भी आयुष प्रणाली में योगदान करते हैं, वह हमारी सभ्यता को और समृद्ध करेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्वीत्तर राज्यों में आयुष क्षेत्र में अपार संभावनाएं हैं। क्योंकि, इस क्षेत्र में जैव-विविधता समृद्ध है। उन्होंने कहा कि अगर इस क्षमता को व्यवस्थित तरीके से विकसित किया जाए तो पूर्वोत्तर भविष्य में आयुष हब बन सकता है।

पढ़ें :- असम के कार्बी आंगलोंग में भीषण आग; कई घर, दुकानें जलकर खाक

मुख्यमंत्री ने कोरोना काल के दौरान आयुर्वेदिक दवा की भूमिका को भी रेखांकित किया। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार ने आयुष प्रणाली को बढ़ावा देने के लिए दुधनै और माजुली में आयुष अस्पतालों का निर्माण शुरू किया है। दुधनै में आयुष अस्पताल का निर्माण पहले ही पूरा हो चुका है, माजुली में अस्पताल जल्द ही पूरा हो जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान में असम में एक सरकारी आयुर्वेदिक कॉलेज है। इस क्षेत्र की क्षमता को ध्यान में रखते हुए, उन्होंने केंद्रीय आयुष मंत्री से असम में एक और आयुर्वेदिक कॉलेज देने का आग्रह किया और बताया कि इसके लिए दुधनै में जमीन की पहचान की जा चुकी है। उन्होंने कॉलेज की स्थापना के लिए सभी आवश्यक स्टाफ की तैनाती के साथ ही रिकॉर्ड समय में कॉलेज का निर्माण पूरा करने का भी आश्वासन दिया।

इस अवसर पर केंद्रीय आयुष राज्य मंत्री डॉ मुंजपारा महेंद्रभाई कालूभाई, असम के स्वास्थ्य मंत्री केशब महंत, सिक्किम के स्वास्थ्य मंत्री डॉ मणि कुमार सरमा और नगालैंड के स्वास्थ्य मंत्री एस पांगन्यू फोम ने भी अपने-अपने विचार रखे।

इससे पहले, सेंट्रल काउंसिल फॉर रिसर्च इन आयुर्वेदिक साइंसेज (सीसीआरएएस) के महानिदेशक डॉ. एन श्रीकांत, एनएमपीबी के उप मुख्य कार्यकारी अधिकारी शेखर सानवाल, इन्वेस्ट इंडिया के सहायक उपाध्यक्ष आस्था त्यागी, डाबर रिसर्च एंड डेवलपमेंट सेंटर के डॉ गुडविन न्यूटन और संयुक्त आयुष के सलाहकार डॉ ए रघु ने पूर्वोत्तर में आयुष क्षेत्र की क्षमता और संभावनाओं और क्षेत्र में मंत्रालय द्वारा कार्यान्वित की जा रही गतिविधियों पर प्रकाश डालते हुए विस्तृत प्रस्तुति दी।

इस अवसर पर सम्मानित व्यक्तियों द्वारा सीसीआरएएस द्वारा प्रकाशित कई प्रकाशनों का भी विमोचन किया गया। जबकि वीडी आयुष मंत्रालय के भारत सरकार के सचिव राजेश कोटेचा ने स्वागत भाषण दिया। आयुष मंत्रालय के विशेष सचिव प्रमोद कुमार पाठक ने धन्यवाद ज्ञापन किया। सम्मेलन में आयुष मंत्रालय के कई वरिष्ठ अधिकारी और पूर्वोत्तर राज्यों की सरकारों के प्रतिनिधि मौजूद थे।

पढ़ें :- Assam News:असम में अवैध निर्माण पर बड़ी कारवाही,कड़ी सुरक्षा के बीच 330 एकड़ भूमि होगी खाली

हिन्दुस्थान समाचार

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...