1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. उत्तराखंड : आगामी चुनाव को देखते हुए कांग्रेस पार्टी ने बागी नेताओं के लिए खोले अपने दरवाजे

उत्तराखंड : आगामी चुनाव को देखते हुए कांग्रेस पार्टी ने बागी नेताओं के लिए खोले अपने दरवाजे

प्रदेश में अगले वर्ष होने वाले विधान सभा चुनाव से पहले सियासी उठापटक जोर शोर से जारी है. पार्टी छोड़ दूसरी पार्टी में जाने का सिलसिला अभी थमता नज़र नहीं आ रहा है. ऐसे में कांग्रेस पार्टी ने एक बार फिर अपने बागी नेताओं को वापस से कांग्रेस पार्टी में ज्वाइन कराने का मन बना चुकी है.

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

उत्तराखंड,27 अक्टूबर : कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव एवं पूर्व सीएम हरीश रावत ने कहा कि जो भी बागी नेता कांग्रेस पार्टी में दोबारा आना चाहते हैं उन सभी का स्वागत है। भाजपा पर प्रहार करते हुए रावत ने कहा कि बीजेपी में मंत्रियों-विधायकों में असंतोष है। अगर भाजपा से भी कोई विधायक या मंत्री कांग्रेस को ज्वाइन करना चाहता है तो पार्टी में उनका भी स्वागत है। उन्होंने आगे कहा कि विधानसभा चुनाव-2022 से पहले भाजपा से भारी संख्या में लोग कांग्रेस को ज्वाइन करना चाहते हैं, लेकिन सभी को पार्टी ज्वाइन कराना संभव नहीं पर कुछ नामों पर जरूर विचार किया जा सकता है।

पढ़ें :- उत्तराखंडः नए कांग्रेस अध्यक्ष के स्वागत की तैयारियां तेज

2016 में पार्टी छोड़ने वाले नेताओं को मंगनी होगी माफ़ी

इससे पहले, पूर्व सीएम रावत ने एक बार फिर दोहराया था कि साल 2016 में पार्टी छोड़ने वाले लोगों की वापसी पर तब तक विचार नहीं होना चाहिए, जब तक वो सार्वजनिक रूप से माफी न मांग लें। बकौल हरीश रावत, लोकतांत्रिक तरीके से चुनी गई सरकार को अस्थिर करने वाले लोग लोकतंत्र के अपराधी हैं और उत्तराखंड के भी। साल 2016 में अस्थिरता से राज्य को विकास के मोर्चे पर बड़ा नुकसान उठाना पड़ा। रावत ने कहा था कि सभी विधायक अपनी गलती स्वीकार करें, माफी मांगं तो ही उनकी वापसी पर विचार किया जा सकता है।

बकौल रावत यह विषय मेरे लिए मेरी सरकार गिराने से संबंधित नहीं है, बल्कि लोकतांत्रिक मूल्य, उत्तराखंड की संस्कृति पर कलंक है। ऐसे लोग जो वापस से कांग्रेस पार्टी ज्वाइन करना चाहते हैं उन्हें कम से कम एक बार तो माफ़ी जरुर मांगनी होगी। उन्होंने आगे कहा कि अगर वो लोग माफ़ी मांग लेते हैं तो मैं कभी उनके रास्ते में नहीं आऊंगा। सिर्फ इतना ही नहीं पुरानी बातों को याद करते हुए हरीश रावत ने आगे कहा कि वर्ष 2016 में कांग्रेस से गए लोगों में एक-दो लोग ऐसे थे जो काफी लाचार थे और मजबूरी में गए थे।

भाजपा पर किया प्रहार

पढ़ें :- Uttarakhand : पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत सहित कई कांग्रेस उम्मीदवार नहीं कर पाए मतदान, जानें क्या है वजह ?

पर कुछ ऐसे लोग थे जो सरकार गिराने के लिए पार्टी के साथ दगाबाजी कर के गए। ऐसे लोगों को सबसे पहले माफ़ी मांगनी होगी उसके बाद ही कांग्रेस में वापसी संभव है। भाजपा को दलबदल व जोड़तोड़ करने वाली पार्टी बताकर हरीश ने जमकर बीजेपी पर प्रहार किया था। उन्होंने साफ कहा कि भाजपा ने दलबदल का खेल जारी रखा तो कांग्रेस भी इसका जवाब दलबदल से ही देगी। उन्होंने कहा कि भाजपा के भी विधायक हमारे संपर्क में हैं। यह भी कहा कि भाजपा, अपने कार्यकर्ताओं को साथ लेकर कांग्रेस से चुनाव लड़ने की हिम्मत रखे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...