1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. Corona Booster Dose: दिल्ली हाई कोर्ट ने केंद्र से पूछा- क्या कोरोना से बचाव के लिए बूस्टर डोज लेना जरूरी है?

Corona Booster Dose: दिल्ली हाई कोर्ट ने केंद्र से पूछा- क्या कोरोना से बचाव के लिए बूस्टर डोज लेना जरूरी है?

कोर्ट ने डॉक्टर्स की इस राय को नोट किया कि धीरे-धीरे रोग प्रतिरोधक क्षमता खत्म हो रही है। ये आम लोगों के लिए चिंता का विषय है, खासकर बुजुर्गों या उन्हें जिन्हें दूसरी बीमारियां हैं। वो ये जानना चाहते हैं कि उनके लिए बूस्टर डोज जरूरी है कि नहीं।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 25 नवंबर। दिल्ली हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार से सवाल पूछा है कि क्या कोरोना से बचाव के लिए बूस्टर डोज लेना जरूरी है। जस्टिस विपिन सांघी की अध्यक्षता वाली बेंच ने केंद्र से पूछा कि अगर बूस्टर डोज जरूरी है तो उसकी टाइमलाइन क्या है?।

पढ़ें :- Commonwealth Games : हाईकोर्ट का आग्रह- कॉमनवेल्थ गेम्स के लिए कोटा बढ़ाए इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन

हाईकोर्ट का सरकार से सवाल

दिल्ली हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार को निर्देश दिया है कि वो इस मामले में हलफनामा दाखिल करें कि कोरोना से बचाने के लिए बूस्टर डोज जरूरी है या नहीं?। अगर बूस्टर डोज की जरूरत है तो उसे Aarogya Setu App पर कब से शुरू किया जाएगा। कोर्ट ने कहा कि पश्चिमी देशों में बूस्टर डोज की वकालत जोरों पर की जा रही है। कोर्ट ने पूछा कि क्या जिन लोगों ने कोरोना की दोनों वैक्सीन लगवा रखी है उन्हें बूस्टर डोज की जरूरत है?।

कोर्ट ने डॉक्टर्स की इस राय को भी नोट किया है कि धीरे-धीरे रोग प्रतिरोधक क्षमता खत्म हो रही है। ये आम लोगों के लिए चिंता का विषय है, खासकर बुजुर्गों या उन्हें जिन्हें दूसरी बीमारियां हैं। वो ये जानना चाहते हैं कि उनके लिए बूस्टर डोज जरूरी है कि नहीं। कोर्ट ने इस तथ्य पर भी ध्यान दिया है कि वैक्सीन का बड़ी संख्या में इस्तेमाल नहीं हो पा रहा है। सुनवाई के दौरान एमिकस क्युरी राजशेखर राव ने दिल्ली सरकार की वेबसाइट (delhifightscorona.in) की कार्यप्रणाली के बारे में कोर्ट को बताया। कोर्ट ने इस वेबसाइट के काम को लेकर दिल्ली सरकार से स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करने का निर्देश दिया है।

हिन्दुस्थान समाचार

ये भी पढ़ें:

पढ़ें :- Gyanvapi Case : ज्ञानवापी हिन्दुओं को सौंपे केंद्र सरकार, काशी में ज्ञानवापी मस्जिद है ही नहीं- अखाड़ा परिषद

कोरोना संक्रमितों की संख्या में कमी, 24 घंटों में 9 हजार मरीज

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...