1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. Covovax-Corbevax: कोरोना की दो वैक्सीन को आपात इस्तेमाल के लिए भारत में मिली मंजूरी, पढ़ें इनके बारे में

Covovax-Corbevax: कोरोना की दो वैक्सीन को आपात इस्तेमाल के लिए भारत में मिली मंजूरी, पढ़ें इनके बारे में

भारत में कोरोना के लिए दो वैक्सीन को आपात इस्तेमाल के लिए मंजूरी मिल गई है। ड्रग्स कंटोलर की ओर से कोवोवैक्स (COVOVAX ) और कोर्बीवैक्स (CORBEVAX ) को इमरजेंसी उपयोग के लिए मंजूरी दे दी गई है। इसके अलावा खाने वाली दवा में मोलनूपिरावीर (Molnupiravir) को भी कंटोलर ने अपनी हरी झंडी दिखा दी है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

कोरोना के ओमिक्रॉन मामलों में तेजी से इजाफा हो रहा है, वहीं दूसरी ओर सरकार ने कोरोना से लड़ने के लिए दो वैक्सीन व एक दवा को आपात स्थितियों में उपयोग के लिए मंजूरी दे दी है। इस मंजूरी के बाद देश में करोना की वैक्सीन की लिस्ट में इजाफा हो गया है। इस मंजूरी के बाद कोरोना की मौजूद वैक्सीन की संख्या 8 हो गई है। जिन दोनों वैक्सीन को मंजूरी मिली है उनमें से एक भारत द्वारा बनाई गई है, जबकि दूसरी भी भारत में ही बन रही है।

पढ़ें :- देश में 12-18 आय़ुवर्ग के बच्चों को लग सकेगा टीका, स्वदेशी वैक्सीन कोर्बेवैक्स को डीसीजीआई ने दी मंजूरी

कोरोना की किन वैक्सीन को मिली मंजूरी?

1. कोवोवैक्स (Covovax)

इस वैक्सीन को अमेरिका की कंपनी नोवावैक्स ने बनाया है। इसे विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना की इमरजेंसी यूज में इस्तेमाल होने वाली वैक्सीन्स की लिस्ट में शामिल किया है। पिछले वर्ष भारत की सीरम इंस्टीट्यूट ने नोवावैक्स के साथ एक डील की थी। इस डील के अंतर्गत कोवोवैक्स का सीरम इंस्टीट्यूट बना रही है। सीरम इंस्टीट्यूट के सीईओ ने बताया कि कोवोवैक्स ट्रायल के दौरान 90 फीसदी असरदार साबित हुई है।

2. कोर्बीवैक्स

कोर्बीवैक्स को भारत की ही कंपनी बायोलॉजिक्ल ई द्वारा बनाया गया है। जायकोव डी और कोवैक्सीन के बाद ये भारत में बनी तीसर वैक्सीन है। सरकार ने पहले ही इस कंपनी को 30 करोड़ डोज बनाने का ऑर्डर दे दिया था।

3. Molnupiravir को बनाएंगी भारत की 13 कंपनियां

कोरोना की दवा Molnupiravir को भी इस्तेमाल इमरजेंसी यूज की मंजूरी दे दी गई है। इसे दवा को अमेरिकी की दवा बनाने वाली कंपनी Merck ने बनाया है। अमेरिका के एफडीए के द्वारा हाल ही में इस दवा को आपात स्थिति में इस्तेमाल की जाने वाली दवा की लिस्ट में शामिल किया है।

अब भारत में भी इस दवा के उपयोग को मंजूरी दे दी गई है। भारतीय फार्मा इंडस्ट्री की कई कंपनियां जैसे सिप्ला, सन फार्मा व टोरंट आदि इस दवा का निर्माण करेंगी। फिलहाल ये दवा केवल वयस्कों को ही दी जाएगी और गंभीर लक्षण वाले मरीजों को ही दी जाएगी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...