1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. दिल्ली हिंसा मामला: पिछले 10 महिनों से दिल्ली पुलिस के सरकारी वकील के पेश न होने पर, कोर्ट ने पुलिस पर लगाया जुर्माना

दिल्ली हिंसा मामला: पिछले 10 महिनों से दिल्ली पुलिस के सरकारी वकील के पेश न होने पर, कोर्ट ने पुलिस पर लगाया जुर्माना

दिल्ली हिंसा की सुनवाई के दौरान विशेष सरकारी वकील के पेश न होने पर कोर्ट ने दिल्ली पुलिस पर जुर्माना लगाया है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 13 दिसंबर। दिल्ली की कड़कड़डूमा कोर्ट (District Court Karkardooma) ने दिल्ली हिंसा (Delhi Violence) के मामले में पिछले दस महीनों से स्पेशल पब्लिक प्रोसिक्यूटर के पेश नहीं होने पर दिल्ली पुलिस पर जुर्माना लगाया है। चीफ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट अरुण कुमार गर्ग ने दिल्ली पुलिस आयुक्त (Police Commissioner of Delhi) को निर्देश दिया कि इस मामले में जिम्मेदार व्यक्ति की सैलरी से जुर्माने की रकम काटी जाए।

पढ़ें :- दिल्ली: दो समुदायों के बीच तनाव, 20 लोग हिरासत में लिए गए

सुनवाई के दौरान दिल्ली पुलिस ने स्पेशल पब्लिक प्रोसिक्यूटर की अनुपलब्धता का हवाला देते हुए सुनवाई टालने की मांग की। मामले में आरोप तय करने को लेकर दलीलें रखी जानी थी। कोर्ट ने पाया कि इस मामले में पिछले 30 जनवरी से स्पेशल पब्लिक प्रोसिक्यूटर पेश नहीं हुए हैं। कोर्ट ने तीन हजार रुपये के जुर्माने का आदेश जारी करते हुए कहा कि जुर्माने का बोझ सार्वजनिक कोष पर नहीं हो। इसलिए इस मामले की जांच कर जिम्मेदार व्यक्ति की सैलरी से जुर्माने की रकम काटी जाए।

 

दिल्ली दंगे की सुनवाई में पेश ना होने पर लगाया गया जुर्माना

कोर्ट ने जुर्माने के आदेश की प्रति उत्तर-पूर्वी दिल्ली के डीसीपी को भेजने का आदेश दिया और डीसीपी को निर्देश दिया कि वो अगली सुनवाई की तिथि को पब्लिक प्रोसिक्यूटर की उपस्थिति सुनिश्चित करें। ज्ञातव्य है कि हाल ही में कड़कड़डूमा कोर्ट के एडिशनल सेशंस जज वीरेंद्र भट्ट ने दिल्ली दंगों की सुनवाई के दौरान स्पेशल पब्लिक प्रोसिक्यूटर अमित प्रसाद के लगातार पेश नहीं होने पर चिंता व्यक्त करते हुए उत्तर-पूर्वी दिल्ली के डीसीपी से मामले को गंभीरता से लेने और स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करने का आदेश दिया था।

और पढ़ें – Rajyasabha: हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के जजों की पेंशन बढ़ाने को लेकर विधेयक राज्यसभा में पेश

पढ़ें :- दिल्ली हिंसाः आरोपित शिफा उर्रहमान की जमानत याचिका खारिज

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...