1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. फिनटेक कंपनियां डेटा प्राइवेसी से ना करें समझौता- निर्मला सीतारमण

फिनटेक कंपनियां डेटा प्राइवेसी से ना करें समझौता- निर्मला सीतारमण

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि डिजिटल माध्यम से भुगतान करने वालों की संख्या लगातार बढ़ रही है। वित्तीय प्रौद्योगिकी (फिनटेक) का इस्तेमाल करने में लोगों के डेटा को सुरक्षित रखने के लिए डेटा की निजता के साथ कोई समझौता नहीं होना चाहिए।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 28 सितंबर। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने मंगलवार को कहा कि डिजिटल माध्यम से भुगतान करने वालों की संख्या लगातार बढ़ रही है। वित्तीय प्रौद्योगिकी (फिनटेक) का इस्तेमाल करने में लोगों के डेटा को सुरक्षित रखने के लिए डेटा की निजता के साथ कोई समझौता नहीं होना चाहिए।

पढ़ें :- ABG Shipyard Scam : एबीजी शिपयार्ड घोटाला को बैंकों ने कम समय में पकड़ा- वित्त मंत्री

फिनटेक उद्योग को संबोधित करते हुए निर्मला सीतारमण ने कहा कि जनवरी-अगस्त, 2021 के दौरान मूल्य के हिसाब से डिजिटल लेन-देन 6 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गया है, जबकि साल 2020 में ये 4 लाख करोड़ रुपये और 2019 में 2 लाख करोड़ रुपये था।

वित्त मंत्री ने ‘ग्लोबल फिनटेक फेस्ट-2021’ को संबोधित करते हुए कहा कि डेटा की निजता ऐसी चीज है, जो बहुत जरुरी है। इस मसले पर कई तरह-तरह के विचार हो सकते हैं। लेकिन निजता का सम्मान जरूरी है। निर्मला सीतारमण ने कहा कि भारत में फिनटेक की स्वीकार्यता की दर 87 % है, जबकि इसका वैश्विक औसत 64 % है। उन्होंने कहा, ‘मेरा मानना है कि भारत डिजिटल गतिविधियों, डिजिटल भुगतान के लिए प्रमुख गंतव्य है।’

निर्मला सीतारमण ने कहा कि भारत वित्तीय समावेशन के मामले में SGD लक्ष्यों को हासिल करने की दिशा में अग्रसर है। साथ ही डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर से देश में वित्तीय समावेशन और वित्तीय सेवाओं को बढ़ाने में मदद मिली है। कार्यक्रम के दौरान ‘जिम्मेदार डिजिटल भुगतान के लिए संयुक्त राष्ट्र सिद्धान्तों’ पर आधारित एक रिपोर्ट भी जारी की गई। रिपोर्ट में सरकार, प्रयोगकर्ताओं, उद्योग और कंपनियों को निर्देशित करने वाले सिद्धान्तों के बारे में बताया गया। इस रिपोर्ट में वित्तीय प्रौद्योगिकी में महिलाओं की भागीदारी पर भी जोर दिया गया है।

हिन्दुस्थान समाचार

पढ़ें :- GST Collecton : वित्त मंत्रालय ने जारी किया आकड़ा, नवंबर में GST रिकॉर्ड 1,31 लाख करोड़ रुपये के पार

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...