1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. भारतीय तटीय सीमाओं का सफल प्रहरी बनेगा ‘विग्रह’ : राजनाथ सिंह

भारतीय तटीय सीमाओं का सफल प्रहरी बनेगा ‘विग्रह’ : राजनाथ सिंह

भारतीय समुद्र के तटों की रक्षा के लिए तटरक्ष बल में आज रक्षा मंत्री द्वारा विग्रह पोत को शामिल किया गया।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 28 अगस्त। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत की तटीय सुरक्षा इस कदर मजबूत कर दी गई है कि अब समुद्री मार्ग से 2008 के मुंबई हमले जैसी आतंकवादी घटना नहीं हो सकती। तटरक्षक बल के बेड़े में शामिल किया गया पोत ‘विग्रह’ किसी भी प्रकार की चुनौतियों से पूरी तरह मुक्त है और भारतीय तटीय सीमाओं का एक सफल प्रहरी बनेगा। उन्होंने कहा कि वैश्विक सुरक्षा कारणों, सीमा विवादों और समुद्री प्रभुत्व के कारण दुनियाभर के देश अपनी सैन्य शक्ति का आधुनिकीकरण करके मजबूती की ओर बढ़ रहे हैं।

पढ़ें :- Chennai News:अंधविश्वास के वजह से मुर्गे की बलि देने जा रहे शख्स की खुली लिफ्ट से गिरने से मौत

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह शनिवार को चेन्नई में अत्याधुनिक तटरक्षक पोत ‘विग्रह’ के कमीशनिंग समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि यह जहाज किसी भी प्रकार की चुनौतियों में हमारे देश की तटीय सीमाओं का एक सफल प्रहरी बनेगा। रक्षा मंत्रालय, तटरक्षक बल और एलएंडटी के बीच ‘विक्रम’ से शुरू हुआ सफर आज ‘विजय’, ‘वीर’, ‘वराह’, ‘वरद’ और ‘वज्र’ से होते हुए आज ‘विग्रह’ जैसे अत्याधुनिक पोत तक पहुंच चुका है।

रक्षा मंत्री ने कहा कि हमारे ग्रंथों में ‘विग्रह’ शब्द की बहुत ही सुंदर व्याख्या की गई है। एक ओर इसका अर्थ ‘किसी भी प्रकार के बंधन से मुक्त’ बताया गया है तो दूसरी ओर इसका अर्थ ‘किसी के कर्तव्य और दायित्वों का बंधन’ भी समझा गया है। आज जब हम अपनी स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ मना रहे हैं तो यह हमारे राष्ट्रीय नायकों और पूर्वजों, महापुरुषों के सपनों को पूरा करने की दिशा में आगे बढ़ने की हमारी प्रतिबद्धता है।

रक्षा मंत्री ने कहा कि पूरी तरह से स्वदेशी इस जहाज को तटरक्षक के बेड़े में शामिल किया जाना हमारी तटीय रक्षा क्षमता में महत्वपूर्ण सुधार के साथ-साथ रक्षा क्षेत्र में हमारी लगातार बढ़ती ‘आत्मनिर्भरता’ को दर्शाता है। यह जहाज 100 मीटर लंबा है और नवीनतम तकनीकों से लैस है। नेविगेशन सिस्टम हो या संचार उपकरण, सेंसर या अन्य स्थापित उपकरण, ये सभी न केवल आज की बल्कि आने वाले लंबे समय के लिए भविष्य की जरूरतों को पूरा करने वाले हैं। इस जहाज पर एचएएल निर्मित ‘एएलएच’ का भी संचालन किया जा सकता है। मैं इसे इस बात के प्रतीक के रूप में देखता हूं कि कैसे सरकार, तट रक्षक और सार्वजनिक-निजी क्षेत्र मिलकर इस देश की अखंडता और संप्रभुता की रक्षा कर सकते हैं।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने महासागर और समुद्र के कानून पर 2008 की रिपोर्ट का उल्लेख करते हुए कहा कि तत्कालीन संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने समुद्री सुरक्षा के लिए सात खतरों को रेखांकित किया था जिसमें समुद्री डकैती, आतंकवाद, हथियारों और नशीले पदार्थों की तस्करी, मानव तस्करी, अवैध मछली पकड़ने और पर्यावरण को नुकसान शामिल थे। हिन्द महासागर क्षेत्र दुनिया के दो-तिहाई से अधिक तेल शिपमेंट के साथ एक तिहाई कार्गो और आधे से अधिक कंटेनर यातायात के साथ दुनिया के अपने हितों को प्राप्त करने में एक महत्वपूर्ण मार्ग के रूप में कार्य करता है। दोस्तों, दुनियाभर में हो रहे बदलाव अक्सर हमारे लिए चिंता का विषय बन जाते हैं। हमें एक राष्ट्र के रूप में दुनियाभर में अनिश्चितताओं और उथल-पुथल के इस समय के दौरान अपने पहरेदारों को ऊंचा रखना चाहिए।

पढ़ें :- IAF LC Helicopter:भारतीय वायुसेना(IAF)की ताकत होगी अब सुपर से भी ऊपर, 'मेड इन इंड‍िया' हेलीकॉप्‍टर किया जाएगा शामिल

उन्होंने कहा कि भारतीय तटरक्षक बल की यात्रा 5-7 छोटी नावों के साथ शुरू हुई थी लेकिन आज 20 हजार से अधिक सक्रिय कर्मियों, 150 से अधिक जहाजों और 65 से अधिक विमानों के साथ आईसीजी का तटीय सुरक्षा बेड़ा बढ़ गया है। अपनी स्थापना के बाद से भारतीय तटरक्षक बल ने पिछले 40-45 वर्षों में तटीय सुरक्षा के साथ-साथ समुद्री संकटों और आपदाओं में अग्रणी भूमिका निभाकर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनाई है।

रक्षा मंत्री ने कहा कि आईसीजी हमेशा हमारे पड़ोसी देशों को समावेश की भावना के अनुरूप मदद करने के लिए तैयार रहा है। पिछले साल टैंकर ‘न्यू डायमंड’ और इस साल मालवाहक जहाज ‘एक्सप्रेस पर्ल’ में आग लगने के दौरान श्रीलंका को सक्रिय और समय पर सहायता प्रदान की है। पिछले दो वर्षों में पड़ोसी देशों के सहयोग से तटरक्षक बल ने तस्करी गतिविधियों से निपटने के दौरान दस हजार करोड़ रुपये से अधिक का माल बरामद किया है। ये सभी गतिविधियां हमारे समुद्री क्षेत्र को प्रतिकूल रूप से प्रभावित करने के लिए जिम्मेदार हैं। इसी तरह आज के परस्पर जुड़े हुए विश्व में दुनिया के किसी भी हिस्से में चल रही गतिविधियों का दुनिया के अन्य हिस्सों पर अनिवार्य रूप से प्रभाव पड़ता है।

हिन्दुस्थान समाचार

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...