1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. दिल्ली महिला आयोग ने तीन बच्चियों को देह व्यापार से करवाया मुक्त

दिल्ली महिला आयोग ने तीन बच्चियों को देह व्यापार से करवाया मुक्त

दिल्ली में तीन बच्चियों को बहाकर उन्हें देह व्यापार में जबरन लाया गया। इस मामले पर महिला आयोग की टीम ने तीनों बच्चियों को मुक्त करवाया और उन्हें बाल कल्याण समिति के शेल्टर पर भेज दिया।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 23 अगस्त। दिल्ली महिला आयोग ने नरेला इलाके में रहने वाली तीन नाबालिग लड़कियों को देह व्यापार और मानव तस्करी के रैकेट से मुक्त करवाया है।

पढ़ें :- दिल्ली के पालम में एक ही परिवार के चार सदस्यों की चाकू मारकर हत्या, आरोपी गिरफ्तार

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने सोमवार को कहा, “हमारी टीम ने इस मामले में मुस्तैदी दिखाते हुए बच्चियों को रेस्क्यू करवाया। छोटी-छोटी बच्चियों को पैसे का लालच देकर जिस्मफरोशी में धकेला जा रहा था। मामले में पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है और मैं आशा करती हूं जल्द आरोपितों को गिरफ्तार किया जाएगा। आयोग ऐसे ही मुस्तैदी से महिलाओं और बच्चों की रक्षा करते रहेगा।”

तीन बच्चियों में से एक लड़की रेशमा (बदला हुआ नाम) ने 181 पर कॉल करके बताया कि गांजे का व्यापार करने वाली हलीमा नामक महिला ने उसे बहकाया कि वह उसे काम दिलवाएगी। काम के बहाने उसने जिस्मफरोशी के व्यापार में झोंक दिया।

रेशमा ने बताया कि एक दिन हलीमा उसे घुमाने के बहाने एक जंगल में ले गई और वहां जबरन कुछ लड़कों के साथ संबंध बनाने को कहा। मना करने पर उसे जान से मारने की धमकी दी। रेशमा ने बताया कि हलीमा इसी तरह गरीब लड़कियों को निशाना बनाती है और उनसे जबरन देह व्यापार करवाती है।

रेशमा से कई बार इसी तरह जंगल में ले जाकर जबरदस्ती जिस्मफरोशी करवाई गई। आयोग की टीम रेशमा से पुलिस चौकी के पास मिलने पहुंची तो वहां टीम ने पाया कि रेशमा के साथ दो नाबालिग लड़कियां और मौजूद थीं। बात करने पर पता चला कि उन दोनों बच्चियों को भी इसी तरह हलीमा द्वारा फंसाया गया था और वो किसी तरह वहां से बचकर निकली थीं। इन तीनों लड़कियों का परिवार बेहद गरीब है।

पढ़ें :- इंदौर: दो साल की बेटी के साथ दुष्कर्म, पिता के दोस्त ने अपहरण कर किया रेप; गिरफ्तार

दिल्ली महिला आयोग की टीम ने मामले में कर्रवाई करते हुए एसीपी के साथ मिलकर मामले में कार्यवाही शुरू की। बच्चियों ने बताया कि उनमें से एक लड़की की उम्र 15 वर्ष है तो वहीं दो की उम्र 14 वर्ष है। आयोग की टीम ने एसीपी के साथ मिलकर बच्चियों द्वारा बताई गई जगह पर छापेमारी की लेकिन जब तक टीम वहां पहुंची तब तक आरोपित हलीमा वहां से फरार हो चुकी थी।

आयोग ने मामले में सेक्शन 506/363/366(ए)/368/370(ए)/376डी/34 आईपीसी के तहत एफआईआर दर्ज करवाई। आयोग की टीम ने बच्चियों को बाल कल्याण समिति के सामने पेश किया जिसके बाद समिति ने उन्हें एक शेल्टर होम में रखवाया गया। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालिवाल ने पुलिस को नोटिस जारी करके आरोपित को तुरंत गिरफ्तार करने के लिए कहा है।

हिन्दुस्थान समाचार

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...