1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. जजों की सुरक्षा का ऑडिट कर रही दिल्ली पुलिस

जजों की सुरक्षा का ऑडिट कर रही दिल्ली पुलिस

बीते दिनों रोहिणी कोर्ट में हुई गोलीबारी के बाद न्यायधीशों की सुरक्षा पर सवाल खड़े हो गए हैं। अब पुलिस न्यायधीशों की सुरक्षा का ऑडिट कर रही है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 29 सितंबर। रोहिणी कोर्ट में जज के समक्ष हुई गैंगस्टर जितेंद्र गोगी की हत्या के बाद न केवल कोर्ट की सुरक्षा बल्कि जजों की सुरक्षा को लेकर भी प्रश्न खड़े हो रहे हैं। हथियार लेकर बदमाश उस कोर्ट रूम तक जा पहुंचे, जहां पर जज बैठे हुए थे। इसी को ध्यान में रखते हुए दिल्ली पुलिस की सिक्योरिटी यूनिट को सभी अदालत और जजों की सुरक्षा को लेकर ऑडिट करने के निर्देश दिए गए हैं। इस रिपोर्ट के आधार पर यह तय किया जाएगा कि किस प्रकार की सुरक्षा व्यवस्था भविष्य में होनी चाहिए।

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि बीते 24 सितंबर को रोहिणी कोर्ट में गैंगस्टर जितेंद्र गोगी को पेशी के लिए ले जाया गया था। उसे जैसे ही कोर्ट संख्या 207 में पेश किया गया। वहां पहले से मौजूद दो बदमाशों ने कई राउंड फायरिंग कर, उसकी हत्या कर दी। वहां मौजूद सुरक्षाकर्मियों द्वारा दोनों हमलावरों को मौके पर ही मार दिया गया था।

इस मामले में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने साजिश में शामिल रहे दो आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है। जबकि, वारदात का मास्टरमाइंड सुनील मान उर्फ टिल्लू पहले से ही मंडोली जेल में बंद है। इस घटना के बाद से जिला अदालतों में सुरक्षा व्यवस्था को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं। इसके चलते दिल्ली पुलिस कमिश्नर राकेश अस्थाना की तरफ से सिक्योरिटी यूनिट को निर्देश दिए गए हैं कि वह सभी अदालतों और जजों की सुरक्षा का ऑडिट करें।

पुलिस सूत्रों की माने तो दिल्ली पुलिस की सिक्योरिटी यूनिट के वरिष्ठ अधिकारी सभी जिला अदालतों का सुरक्षा ऑडिट करवा रहे हैं। वहां से यह जानकारी जुटाई जा रही है कि कितने सुरक्षाकर्मी और किस तरीके से सुरक्षा में तैनात रहते हैं। इसके आंकलन के बाद यह तय किया जाएगा कि वहां सुरक्षा को चाक-चौबंद करने के लिए किस तरह के बंदोबस्त किए जाने चाहिए।

अदालत के अलावा जजों की सुरक्षा भी एक बड़ी चुनौती बनकर उभरी है। इसलिए जजों की सुरक्षा को लेकर भी दिल्ली पुलिस द्वारा ऑडिट किया जा रहा है। इस बात की जानकारी जुटाई जा रही है कि किन जजों को सुरक्षा दिए जाने की आवश्यकता है और किन जजों की सुरक्षा को बढ़ाया या घटाया जा सकता है। इसे लेकर सिक्योरिटी यूनिट द्वारा ऑडिट किया जा रहा है। इसकी रिपोर्ट जल्द ही पुलिस कमिश्नर को सौंपी जाएगी।

हिन्दुस्थान समाचार

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
India Voice Ads
X