1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. चमोली में तेजी से सड़क निर्माण के लिए डीएम हुए सख्त 

चमोली में तेजी से सड़क निर्माण के लिए डीएम हुए सख्त 

चमोली के विकास के लिए अभी कई सड़के बनाई जानी है। इसके लिए जिला अधिकारी ने अन्य विभागों के साथ बैठक कर भूमि हंस्तातरण आदि मामलो को जल्द निपाटने को कहा।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

गोपेश्वर, 27 अगस्त (हि.स.)। चमोली के जिलाधिकारी हिमांशु खुराना ने शुक्रवार को लोनिवि, पीएमजीएसवाई तथा वन विभाग के अधिकारियों की बैठक लेते हुए सड़क निर्माण के लिए वन भूमि हंस्तातरण के लंबित मामलों समीक्षा की। उन्होंने सभी डिवीजनों को वन भूमि हस्तांतरण मामलों में तेजी लाने के सख्त निर्देश दिए। हिदायत दी कि सड़कों का कोई भी प्रकरण विभागीय स्तर पर लंबित न रहे।

पढ़ें :- उत्तराखंड में महसूस किए गए भूकंप के झटके, पढ़ें पूरी खबर

जिलाधिकारी ने निर्देश दिए कि सड़कों के जो भी प्रकरण ऑनलाइन किए जाने हैं उनको तत्काल ऑनलाइन करें तथा जिन सड़कों की स्वीकृति मिल चुकी है उनमें तत्काल वनभूमि हंस्तातरण की कार्रवाई करना सुनिश्चित करें। विभिन्न स्तरों से जिन प्रकरणों पर आपत्तियां लगी है उनका संबंधित डिविजन स्थानीय जनप्रतिनिधियों के सहयोग से शीघ्र निराकरण करें। वन विभाग की ओर से रिजेक्ट किए गए सीए लैंड के मामलों में भी त्वरित कार्रवाई की जाए।

जिन सड़कों की सैद्धान्तिक स्वीकृत मिल चुकी है, उनकी वित्तीय स्वीकृति के लिए शासन स्तर पर व्यक्तिगत प्रयास करें। जिन सड़कों में विधिवत स्वीकृति मिल चुकी है उन पर शीघ्र निर्माण कार्य शुरू कराया जाए। ताकि जल्द से जल्द सड़कों का निर्माण हो सके। विभागीय स्तर पर लंबित क्षतिपूरक वृक्षारोपण के लिए चयनित स्थल का म्यूटेशन, वेरिफिकेशन आदि लंबित कार्यो का भी शीघ्र निराकरण करना सुनिश्चित करें। जिलाधिकारी ने सभी डिवीजनों के अधिशासी अभियंताओं को सख्त हिदायत दी कि सड़कों का कोई भी प्रकरण किसी भी दशा में विभागीय स्तर पर लंबित न रहे। वन भूमि हंस्तातरण की समीक्षा के दौरान पीएमजीएसवाई पोखरी के अधिशासी अभियंता के उपस्थित न रहने पर जिलाधिकारी ने संबधित अधिकारी को शो काॅज नोटिस जारी करने के निर्देश दिए।

लोनिवि, पीएमजीएसवाई, बिडकुल के पास स्टेज-1 की स्वीकृति के लिए 35 प्रकरण विभिन्न स्तरों पर लंबित है। जिसमें विभागीय स्तर पर 20, प्रभाग में दो, वन संरक्षक स्तर पर पांच, नोडल स्तर पर एक, शासन स्तर पर एक तथा भारत सरकार के पास चार सड़कों के प्रकरण लंबित है। जबकि 66 सड़कों पर सैद्धान्तिक स्वीकृति मिल चुकी है। बैठक में डीएफओ केदारनाथ अमित कंवर, अपर जिलाधिकारी हेमंत वर्मा आदि मौजूद रहे।

हिन्दुस्थान समाचार

पढ़ें :- उत्तराखंड में नए नामों से जाने जाएंगे ये शहर और जिला, कहा: सरकार को चाहिए कि ठेट पहाड़ों में बेहतर सुविधा मुहैया करवाएं

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...