1. हिन्दी समाचार
  2. ख़बरें जरा हटके
  3. सरदार बल्लभ भाई पटेल के निधन पर राष्ट्रपति के प्रोटोकोल को दरकिनार कर मुबंई पहुंचे थे डॉ. राजेन्द्र प्रसाद

सरदार बल्लभ भाई पटेल के निधन पर राष्ट्रपति के प्रोटोकोल को दरकिनार कर मुबंई पहुंचे थे डॉ. राजेन्द्र प्रसाद

आज के इतिहास में जानें किस तरह हुआ था सरदार वल्लभ भाई पटेल का निधन।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

सरदार को सलामः ‘सरदार के शरीर को अग्नि जला रही है लेकिन उनकी प्रसिद्धि को दुनिया की कोई अग्नि नहीं जला सकती।’

पढ़ें :- सरदार पटेल के आग्रह पर पंजाब के पहले मुख्यमंत्री बनने वाले डॉ. गोपीचंद भार्गव का आज ही के दिन हुआ था जन्म

लौहपुरुष (Iron Man of India) सरदार वल्लभ भाई पटेल (Sardar Vallabhbhai Patel) के निधन के बाद तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद (Dr. Rajendra Prasad) ने भाव विह्वल होकर अपने उद्गार प्रकट किये। डॉ. प्रसाद कैबिनेट मंत्री की अंत्येष्टि में राष्ट्रपति के शामिल नहीं होने की परंपरा दरकिनार कर सरदार पटेल की अंत्येष्टि में शामिल होने मुंबई पहुंचे थे।

 

दिल का दौरा पड़ने से हुआ था सरदार पटेल का निधन

15 दिसंबर 1950 को सरदार वल्लभ भाई पटेल का मुंबई में निधन हो गया। सुबह तीन बजे दिल का दौरा पड़ा और वे बेहोश हो गए। चार घंटे बाद कुछ देर के लिए होश आया तो उन्होंने पानी मांगा। पुत्री मणिबेन ने गंगाजल में शहद मिलाकर चम्मच से उन्हें दिया। 9 बजकर 37 मिनट पर सरदार पटेल ने आखिरी सांसें लीं।

31 अक्टूबर 1875 को गुजरात के खेड़ा में पैदा हुए देश के पहले उप प्रधानमंत्री और गृहमंत्री सरदार पटेल को भारत को एकजुट रखने में उनके अद्वितीय योगदान के लिये याद किया जाता है। देश की आजादी के बाद उन्होंने अपनी चट्टानी इच्छाशक्ति और बेजोड़ रणनीतिक कौशल के दम पर छोटी-बड़ी 562 रियासतों का भारत में विलय कराया।

पढ़ें :- Valentine's Day के अलावा भी क्यों जानना चाहिए 14 फ़रवरी के बारे में, जानिये कई वजहें

देश की आजादी के बाद कई रियासतें भारत में शामिल होने को तैयार नहीं थी। ऐसी रियासतों के सामने मोहम्मद अली जिन्ना रियायतों का टुकड़ा फेंक रहे थे। खासतौर पर हैदराबाद और जूनागढ़।

हैदराबाद में सेना के ऑपरेशन पोलो ने निजाम के हौसले ध्वस्त कर दिये तो जूनागढ़ में जनता के विद्रोह से भयभीत वहां का नवाब पाकिस्तान भाग गया। सरदार पटेल भारत के समक्ष पैदा हुई कई दूसरी चुनौतियों का भी बखूबी समाधान कर सकते थे लेकिन जीवन ने उन्हें वक्त नहीं दिया।

अन्य अहम घटनाएंः

1892ः मध्य प्रदेश के दूसरे मुख्यमंत्री रहे भगवंतराव मंडलोइ का जन्म।

1908ः रामकृष्ण संघ के हिंदू संन्यासी शंकरन कुट्टी उर्फ स्वामी रंगनाथ नंद का जन्म।

पढ़ें :- आज ही के दिन हुआ था आज़ादी के क्रांतिकारी और 80 किताबों के लेखक मन्मथनाथ गुप्त का जन्म

1952ः स्वतंत्रता सेनानी और गांधीवादी पोट्टि श्रीरामुलु का निधन।

1970ः पश्चिम बंगाल में भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी का जन्म।

1970ः भारतीय पार्श्वगायक और सांसद बाबुल सुप्रियो का जन्म।

1776ः सुप्रसिद्ध फुटबॉल खिलाड़ी बाइचुंग भूटिया का जन्म।

1985ः मॉरिशस के गवर्नर रहे शिवसागर रामगुलाम का निधन।

1988ः भारतीय महिला पहलवान गीता फोगाट का जन्म।

पढ़ें :- आज ही के दिन दुर्घटनाग्रस्त हुआ था अंतरिक्ष से धरती पर आ रहा कल्पना चावला का स्पेस शिप

हिन्दुस्थान समाचार

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...