1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. उत्तराखंड चुनाव – बुजुर्ग, दिव्यांग और कोरोना से संक्रमित व्यक्तियों के लिए निर्वाचन आयोग का क्या है नया प्लान ? जानने के लिए पढ़ें पूरी खबर !

उत्तराखंड चुनाव – बुजुर्ग, दिव्यांग और कोरोना से संक्रमित व्यक्तियों के लिए निर्वाचन आयोग का क्या है नया प्लान ? जानने के लिए पढ़ें पूरी खबर !

बता दें कि निर्वाचन आयोग इस बात को लेकर अपनी तरफ से पूरी तैयारी कर रहा है। 

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

उत्तराखंड,26 अक्टूबर – प्रदेश में अगले साल यानी 2022 में विधानसभा का चुनाव होना है। ऐसे में चुनाव को ध्यान में रखते हुए निर्वाचन आयोग ने एक बहुत ही अहम फैसला लिया है। खबर आ रही है कि आगामी विधान सभा चुनाव में दिव्यांग जन, बुजुर्ग, और कोरोना से संक्रमित व्यक्तियों को मतदान के लिए मतदान केन्द्रों पर जाने की कोई जरूरत नहीं है। जी हाँ बुजुर्ग, दिव्यांग जन और कोरोना से संक्रमित लोग आगामी विधानसभा चुनाव में अपने घर से ही अपने मतों का प्रयोग कर सकेंगे। उसके लिए उन्हें अब मतदान केन्द्रों के बाहर लगी लाइन में खड़े होने की जरूरत नहीं होगी। बता दें कि निर्वाचन आयोग इस बात को लेकर अपनी तरफ से पूरी तैयारी कर रहा है।

पढ़ें :- Jharkhand : ऊफान पर झारखंड की सियासत, निशिकांत का दावा- मिथिलेश ठाकुर की विधायकी पर लटकी चुनाव आयोग की तलवार

पहली बार होगा पोस्टल वैलेट का उपयोग 

विधानसभा चुनाव को लेकर निर्वाचन आयोग अपने अंतिम दौर की तैयारियों में जुटा हुआ है। वोटर लिस्ट को अपडेट करने के आलावा अपने चुनाव अधिकारियों को प्रशिक्षण देने की तैयारी के साथ साथ पोस्टल वैलेट की सुविधाओं को सुनियोजित ढंग से जारी करने के काम में निर्वाचन आयोग लगा हुआ है। इसके आलावा आपको बता दें कि प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव में पहली बार पोस्टल वैलेट का उपयोग किया जायेगा। इस बार निर्वाचन आयोग की तरफ से सबसे अहम फैसला लिया गया है जिसमें अब पोस्टल वैलेट का उपयोग दिव्यांग, बुजुर्ग और कोरोना से संक्रमित लोगों के लिए किया जायेगा। आज से पहले पोस्टल वैलेट की सुविधा सिर्फ या तो सीमा पर तैनात जवानों के लिए किया जाता था या फिर अपने राज्य से दूर किसी अन्य राज्य में सेवा दे रहे अधिकारियों के लिए इस सुविधा का उपयोग किया जाता था।

12D का फॉर्म भरना होगा अनिवार्य 

आपको बता दें कि पोस्टल वैलेट का उपयोग करने के लिए सबसे पहले निर्वाचन आयोग द्वारा जारी एक 12D का फॉर्म भरना होगा। निर्वाचन आयोग द्वारा इस आयोजन को सफल बनाने के लिए निर्वाचन आयोग द्वारा बड़े स्तर पर प्रचार प्रसार का काम भी किया जायेगा। इसके आलावा बीएलओ को बकायदा प्रशिक्षित करने का भी काम किया जायेगा। पूरे प्रशिक्षण के बाद बीएलओ निर्वाचन क्षेत्रों में जाकर 12D का फॉर्म भरवाने का काम करेंगे। आपको बता दें कि पोस्टल वैलेट के लिए फॉर्म 12D ऑनलाइन भी भरा जा सकता है।

पढ़ें :- Mine Lease Case : जवाब देने के लिए सीएम हेमंत सोरेन ने निर्वाचन आयोग से मांगा समय, बीमार मां की तबीयत का दिया हवाला

फॉर्म भरने के उपरांत ही सभी दिव्यांग, बुजुर्ग या फिर कोरोना संक्रमित लोग इस सुविधा का उपयोग कर सकेंगे। निर्वाचन आयोग का कहना है कि इस सुविधा से मतदान के प्रतिशत में बढ़ोतरी भी दर्ज की जायेगी। अक्सर ऐसा होता है कि मतदान केंद्र दूर होने के कारण बुजुर्ग व्यक्ति मतदान केंद्र पर नहीं आ पते जिसके कारण वोट प्रतिशत में भी कमी देखी जाती है। परन्तु इस बार विधानसभा चुनाव में इस तरह के उपाय से कहीं न कहीं निर्वाचन आयोग को यह यकीन है कि पोस्टल वैलेट की सुविधा से मतदान प्रतिशत में वृद्धि दर्ज की जायेगी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...