1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. झारखंड के बिजली उपभोक्ताओं को लग सकता है बड़ा झटका, 30% तक बढ़ सकती हैं दरें

झारखंड के बिजली उपभोक्ताओं को लग सकता है बड़ा झटका, 30% तक बढ़ सकती हैं दरें

यदि आयोग का यह प्रस्ताव स्वीकार होता है तो झारखंड के बिजली उपभोक्‍ताओं को इससे झटका लग सकता है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

रांची : झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड के प्रस्‍ताव के अनुसार प्रदेश के 40 लाख से ज्‍यादा घरेलू उपभोक्‍ताओं को बिजली बिल भरने के लिए ज्‍यादा जेब ढीली करनी पड़ेगी। जेबीवीएनएल ने बिजली टैरिफ में 30 फीसद तक की वृद्धि करने का प्रस्‍ताव रखा है। जेबीवीएनएल ने वित्‍तीय वर्ष 2022-23 के वार्षिक राजस्‍व जरूरत के तहत यह प्रस्‍ताव रखा है। यदि आयोग का यह प्रस्ताव स्वीकार होता है तो झारखंड के बिजली उपभोक्‍ताओं को इससे झटका लग सकता है।

पढ़ें :- MP News: रेलवे पटरी के पास सॉफ्टवेयर इंजीनियर की लाश मिलने से सनसनी,जांच में जुटी पुलिस

आपको बता दें झारखंड राज्‍य विद्युत नियामक आयोग में अध्यक्ष के साथ दोनों सदस्यों का पद खाली होने के कारण इस प्रस्ताव पर कार्रवाई नहीं हो रही है। इस वजह से मौजूदा वित्तीय वर्ष में भी बिजली की दर में वृद्धि नहीं हो सकी।, कहा जा रहा है कि कोरोना की वजह से इस वर्ष बिजली की दरों में कोई बढ़ोत्तरी नहीं की गई थी। हालांकि यह कहा जा रहा है कि जनवरी माह से सभी नियुक्तियां कर दी जायेंगी और प्रस्ताव पर विचार किया जाएगा। इसके बाद माना जा रहा है कि झारखंड के बिजली उपभोक्‍ताओं को बढ़ी हुई बिजली बिल के रूप में झटका लग सकता है।

जेबीवीएनएल की ओर से दिए गए प्रस्ताव में बिजली खरीद और आपूर्ति में करीब 6500 करोड़ का अंतर दिखाया गया है। मौजूदा वित्तीय वर्ष में करीब 1800 करोड़ का नुकसान दर्शाया गया है। इस प्रकार जेबीवीएनएल ने अपनी रिपोर्ट में वित्तीय वर्ष 2022-23 में 9000 करोड़ रुपये के खर्च का अनुमान लगाया है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...