1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. राजधानी दिल्ली में बढते प्रदूषण पर पर्यावरण मंत्री ने दिया बड़ा बयान

राजधानी दिल्ली में बढते प्रदूषण पर पर्यावरण मंत्री ने दिया बड़ा बयान

प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए की गई कार्रवाई और हवा के रूख में बदलाव होने से प्रदूषण के स्तर में लगातार गिरावट देखी जा रही है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 22 नवंबर :  दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय (Gopal Rai) ने सोमवार को प्रेस वार्ता कर कहा कि दिल्ली के अंदर चार नवंबर के बाद से प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ रहा था। कुछ समय तक (AQI) एयर क्वालिटी इंडेक्स 600 पर पहुंच गया था। दिल्ली के अंदर प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए की गई कार्रवाई और हवा के रूख में बदलाव होने से प्रदूषण के स्तर में लगातार गिरावट देखी जा रही है।

 

प्रदूषण के स्तर में हो रहा है सुधार 

रविवार से प्रदूषण का स्तर तेजी के साथ सुधरना शुरू हुआ है। कल 10 बजे आनंद विहार में एक्यूआर का स्तर 430 था और आज सुबह 329 हो गया है। इसमें लगभग 101 की कमी आई है। अशोक विहार में कल 10 बजे 394 था और आज सुबह 10 बजे 309 हो गया है और करीब 85 अंक की गिरावट आई है।

इसी तरह, बवाना में कल 399 था और आज सुबह 10 बजे 330 है और इसमें 69 अंक की गिरावट आई है। मुंडका में कल 406 था और आज 326 हो गया है। लगभग 80 अंक कम हुआ है। ओखला फेस दो में कल 397 था और आज 283 हो गया है। इसमें 114 अंक नीचे गया है। इस तरह दिल्ली के अंदर आज कई जगहों पर एक्यूआई का स्तर लगभग 300 से नीचे जाने का ट्रैंड दिख रहा है और धीरे-धीरे सुधार हो रहा है।

 

निर्माण कार्यों पर सख्त पहरेदारी रहेगी

 

पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि इसे देखते हुए दिल्ली के अंदर निर्माण और ध्वस्तीकरण गतिविधियों पर लगे प्रतिबंध को खोलने का निर्णय लिया गया है, लेकिन निर्माण एजेंसी चाहे वह सरकारी हो या प्राइवेट हो या फिर कोई व्यक्तिगत रूप से कोई निर्माण कार्य करा रहा हो, उस पर निगरानी सख्त रखेंगे। धूल को नियंत्रित करने को लेकर 14 बिंदुओं पर निर्माण एजेंसियों को जारी किए गए दिशा निर्देशों का निर्माण और ध्वस्तीकरण कार्य करने वाले सभी लोगों को सख्ती से पालन करना पड़ेगा।

दिल्ली के अंदर 585 निगरानी टीमें बनाई गई हैं। यह टीमें डीपीसीसी, रेवेन्यू और एमसीडी की संयुक्त टीमें हैं, जो पूरे दिल्ली के अंदर निगरानी का काम करेंगी। निर्माण साइट पर टिन की दीवार खड़ा करना, कोई भी निर्माण कार्य हो रहा है, तो धूल मिट्टी को ढंक कर रखना होगा। पानी का छिड़काव करना होगा। 20 हजार वर्ग फीट से अधिक की निर्माण साइट पर स्मॉग गन लगाना होगा। इस तरह सभी 14 बिंदुओं के दिशा निर्देशों का उल्लंघन करते हुए कोई भी निर्माण साइट पाई गई, तो बिना नोटिस जारी किए तत्काल प्रभाव से उसके काम को बंद करा दिया जाएगा। साथ ही, उस पर तत्काल जुर्माना भी लगाया जाएगा।

 

आवश्यक सेवाओं को छोड़कर अन्य ट्रकों के प्रवेश पर रोक

पर्यावरण मंत्री ने कहा कि अभी दिल्ली सरकार (Delhi Government) के अधीन विभागों के कर्मचारियों का वर्क फ्रॉम होम (Work From Home) 26 नवंबर तक जारी रहेगा। दिल्ली के अंदर बाहर से आने वाले आवश्यक सेवाओं को छोड़कर बाकी ट्रकों के प्रवेश पर भी 26 नवंबर तक रोक जारी रहेगी।

अभी प्रदूषण के स्तर में थोड़ा सुधार हो रहा है। इसलिए अभी हम इस पर विचार कर रहे हैं कि जो सीएनजी के ट्रक हैं, उनको दिल्ली में प्रवेश की छूट दे सकते हैं। इस पर मंगलवार को विचार-विमर्श करेंगे। 24 नवंबर को 12 बजे सभी विभागों की संयुक्त बैठक बुलाई गई है। पर्यावरण मंत्री आगे कहा कि पिछली बैठक में पब्लिक ट्रांसपोर्ट को बढ़ाने का निर्णय लिया था।

 

खड़े होकर यात्रा करने की भी मिली अनुमति

अभी दिल्ली के अंदर डीटीसी और क्लस्टर्स की बसों में खड़े होकर यात्रा करने की अनुमति दे दी गई है। प्रति बस में 17 लोग खड़े होकर सफर कर सकते हैं। इसी तरह मेट्रो में प्रति कोच में 30 लोगों को खड़े होकर सफर करने की अनुमति दी गई है। अभी तक मेट्रो और बसों में सिर्फ बैठ कर सफर करने की अनुमति थी। इससे मेट्रो और बसों में यात्री क्षमता में बृद्धि हो जाएगी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
India Voice Ads
X