1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. अब से बाइक पर 4 साल तक के बच्चों को पहनना होगा क्रैश हेलमेट, स्पीड होगी 40 किमी प्रति घंटे से कम…पढ़ें पूरी ख़बर

अब से बाइक पर 4 साल तक के बच्चों को पहनना होगा क्रैश हेलमेट, स्पीड होगी 40 किमी प्रति घंटे से कम…पढ़ें पूरी ख़बर

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने मंगलवार को मोटर साइकिल पर ले जाए जा रहे बच्चे के सुरक्षा प्रावधानों के लिए मसौदा नियम साझा करते हुए कहा कि मोटर वाहन अधिनियम की धारा-129 को मोटर वाहन (संशोधन) अधिनियम 2019, दिनांक 09.08.2019 द्वारा संशोधित किया गया है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 26 अक्टूबर। केंद्र सरकार ने मोटर साइकिल पर ले जाए जा रहे 4 साल से छोटे बच्चों की सुरक्षा के मद्देनजर नियम तैयार किए हैं। इसके तहत अब 9 महीने से लेकर 4 साल तक के छोटे बच्चों को मोटरसाइकिल पर यात्रा के लिए क्रैश हेलमेट पहनना जरूरी होगा। इस दौरान मोटरसाइकिल को 40 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक की रफ्तार से चलाने की मंजूरी नहीं होगी।

पढ़ें :- Jharkhand : झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन को माइनिंग लीज मामले में सुप्रीम कोर्ट से राहत

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने मंगलवार को मोटर साइकिल पर ले जाए जा रहे बच्चे के सुरक्षा प्रावधानों के लिए मसौदा नियम साझा करते हुए कहा कि मोटर वाहन अधिनियम की धारा-129 को मोटर वाहन (संशोधन) अधिनियम 2019, दिनांक 09.08.2019 द्वारा संशोधित किया गया है। इस धारा में दूसरा प्रावधान ये है कि केन्द्र सरकार नियमों द्वारा मोटर साइकिल पर सवारी करने वाले या ले जाये जा रहे 4 साल से कम उम्र के बच्चों की सुरक्षा के उपाय मुहैया करा सकती है।

पढ़ें :- News Bulletin : रहना चाहते हैं 'अप टू डेट' तो कम शब्दों में पढ़ें सुबह की 5 बड़ी ख़बरें

मंत्रालय ने जीएसआर 758(ई) दिनांक 21 अक्टूबर, 2021 के तहत मसौदा नियम बनाए हैं, जिसमें कई सिफारिशें की गई हैं। पहला, चार साल से कम आयु के बच्चों को मोटरसाइकिल चालक के साथ अटैच करने के लिए सुरक्षा उपकरण का इस्तेमाल किया जाएगा। चालक ये सुनिश्चित करेगा कि उसके पीछे बैठे 9 महीने से 4 साल तक की आयु के बच्चे अपना क्रैश हेलमेट पहने हो जो उसके सिर पर फिट बैठता हो या उन्होंने ऐसा मोटरसाइकिल हेलमेट पहना हो जो भारतीय मानक ब्यूरो द्वारा भारतीय मानक ब्यूरो अधिनियम 2016 के तहत निर्धारित निर्देशों का अनुपालन करता हो। 4 साल तक की आयु के बच्चे को पिलियन के रूप में ले जाने वाली मोटरसाइकिल की गति 40 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक नहीं होनी चाहिए।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...