1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. हिन्दी सहित अन्य भारतीय भाषायें सह अस्तित्व के साथ आगे बढ़ें: अमित शाह

हिन्दी सहित अन्य भारतीय भाषायें सह अस्तित्व के साथ आगे बढ़ें: अमित शाह

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने हिंदी दिवस के अवसर पर कहा कि हिंदी देश की अन्य भाषाओं की सखी है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 14 सितंबर। केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने मंगलवार को कहा कि हिन्दी भाषा अन्य भारतीय भाषाओं की ‘सखी’ है और इनके बीच कोई अंतर-विरोध नहीं है। सह अस्तित्व के साथ सभी भारतीय भाषायें आगे बढ़ें और इस दिशा किये गये प्रयासों का निरंतर मूल्यांकन हो। इस कार्य में ‘हिन्दी दिवस’ की महत्ती भूमिका है।

पढ़ें :- Arunachal Pradesh : पिछले 8 साल में पूर्वोत्तर में जो विकास हुआ, वो 50 साल में नहीं हुआ- अमित शाह

केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह की उपस्थिति में आज नई दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित हिन्दी दिवस समारोह में वर्ष 2018-19, 19-20 और 20-21 के लिए विभिन्न श्रेणियों में राजभाषा पुरस्कार प्रदान किये गये। यह पुरस्कार राजभाषा के उपयोग और विकास में योगदान के लिए मंत्रालयों, विभागों, सार्वजनिक उपक्रमों तथा व्यक्तियों को दिये जाते हैं। कार्यक्रम के दौरान मंत्रालय में उनके सहयोगी मंत्री नित्यानंद राय, अजय कुमार मिश्र और निषिथ प्रमाणिक भी मौजूद थे।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए शाह ने कहा कि देश की आजादी में स्वदेशी, स्वभाषा और स्वराज इन तीन शब्दों का बड़ा योगदान रहा है। आजादी के साथ देश को स्वराज मिल गया। स्वदेशी के लिए आत्मनिर्भर भारत के तहत प्रयास जारी है। स्वभाषा के लिए हम सभी को प्रयास करना होगा। अपनी भाषा के प्रति संकोच और छोटेपन का भाव समाप्त करना होगा।

गृहमंत्री ने कहा कि आज प्रधानमंत्री प्रमुख वैश्विक मंचों पर हिन्दी में उद्बोधन दे रहे हैं। स्पष्ट है कि भाषा किसी का मूल्यांकन का आधार नहीं हो सकती। व्यक्ति के विचार और कर्म से ही उसका मूल्यांकन संभव है। हमें नई पीढ़ी को स्वभाषा के महत्व को समझाना होगा और युवा मन को संस्कृति तथा संस्कारों से भरने के लिए इनका प्रयोग करना होगा। उन्होंने अंग्रेजी माध्यम से शिक्षा हासिल करने वाले छात्रों के माता-पिता से अनुरोध किया कि वे अपने बच्चों से घरों में स्वभाषा में बात करें।

शाह ने इस दौरान नई शिक्षा नीति में भारतीय भाषाओं को दिये गये महत्व का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि कोई व्यक्ति अपने आपको पूर्ण रूप से केवल अपनी मातृभाषा में ही अभिव्यक्त कर सकता है। मातृभाषा में मिली शिक्षा से ही बेहतर व्यक्तित्व की नींव रखी जा सकती है।

पढ़ें :- Bihar : पीएम मोदी ने देश को साल 2047 तक विश्व में नंबर एक बनाने का लक्ष्य रखा- अमित शाह

गृह मंत्री शाह ने इस दौरान राजभाषा विभाग की ओर से हिन्दी के लिये किये जा रहे प्रयासों का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि अन्य भारतीय भाषाओं में उपलब्ध देश के विभिन्न क्षेत्रों के इतिहास का अनुवाद किया जा रहा है। स्कूल कॉलेजों में राजभाषा के विकास के लिए कार्य किये जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में जनमानस का राजभाषा के प्रति रुख बदला है। आज संसद में भी पहले से अधिक सांसद हिन्दी का उपयोग करते हैं। कोरोना काल में विभिन्न परिस्थितियों में राष्ट्र के नाम दिए 35 संबोधनों में प्रधानमंत्री ने हिन्दी का ही उपयोग किया। इसने देश को एकजुट होकर कोरोना महामारी से कम क्षति के साथ उबरने का संबल प्रदान किया।

कार्यक्रम में गृह राज्यमंत्री अजय कुमार मिश्र ने कहा कि सरकार हिन्दी भाषा राजभाषा के संवर्धन और स्थापना के लिए निरंतर प्रयासरत है। सरकारी कामकाज में आज हिन्दी भाषा का उपयोग ज्यादा हो रहा है। सरकार का जोर हिन्दी में सहज और सरल अनुवाद पर केन्द्रित है। देश में 42 प्रतिशत लोग हिन्दी बोलते हैं और 70 प्रतिशत लोग किन्हीं कारणों से हिन्दी का प्रयोग करते हैं। विदेशों में भी हिन्दी की लोकप्रियता बढ़ी है। देश के बाहर 30 करोड़ लोग हिन्दी भाषा का उपयोग करते हैं। 140 विश्वविद्यालय दुनियाभर के अपने यहां हिन्दी पढ़ाते हैं।

राजभाषा विभाग के सचिव संजीव कुमार ने इस अवसर पर बताया कि कैसे तकनीक के माध्यम से हिन्दी भाषा के विकास पर सरकार जोर दे रही है।

हिन्दुस्थान समाचार

पढ़ें :- UP Elections 2022 : भ्रष्टाचारियों पर कार्रवाई से अखिलेश यादव को होता है दर्द- अमित शाह

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...