1. हिन्दी समाचार
  2. ख़बरें जरा हटके
  3. चंद्रमोहन जैन कैसे बने ओशो, अमेरिका में 65 हजार एकड़ में बनाया आश्रम

चंद्रमोहन जैन कैसे बने ओशो, अमेरिका में 65 हजार एकड़ में बनाया आश्रम

आज के इतिहास में जानें मध्यप्रदेश के चंद्रमोहन जैन कैसे बने आचार्य रजनीश और फिर ओशो ?

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

ओशो का जन्मः आलोचना और विवादों से जीवनपर्यंत घिरे रहने के बावजूद धार्मिक व वैचारिक रूढ़िवादिता के कटु आलोचक एवं तर्कवादी, आचार्य रजनीश का जन्म 11 दिसंबर 1931 को मध्य प्रदेश के कुचवाड़ा में हुआ। शुरू में उनका नाम चंद्रमोहन जैन था, जिनका बचपन से ही दर्शन की तरफ झुकाव रहा।

पढ़ें :- हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के पहले सुपरस्टार थे कुंदनलाल सहगल

 

जबलपुर विवि में लेक्चरर थे ओशो

जबलपुर में पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने जबलपुर विवि में लेक्चरर के तौर पर काम किया। जल्द ही उन्होंने नौकरी छोड़कर आचार्य रजनीश के रूप में विभिन्न धर्मों व विचारधाराओं पर आलोचनात्मक रूप से प्रवचन देना शुरू कर दिया। साथ ही ध्यान शिविरों का आयोजन किया। उनके समर्थकों में इसे वैचारिक क्रांति के रूप में रेखांकित किया गया।

अमेरिका में 65 हजार एकड़ में बनाया आश्रम

1981 से 1985 के बीच वे अमेरिका में रहे और खुद को ओशो कहना शुरू कर दिया। उन्होंने अमेरिकी प्रांत ओरेगॉन में 65 हजार एकड़ में आश्रम की स्थापना की। हालांकि उन्हें अमेरिका प्रवास के दिनों में कड़े विरोध और विवादों का सामना करना पड़ा। इस दौरान उन्होंने दुनिया भर की सैकड़़ों बड़ी हस्तियों और लाखों आम लोगों को अपने विचारों से प्रभावित किया।

1985 में आखिरकार उन्हें वापस लौटना पड़ा। वे पुणे के कोरेगांव इलाके में स्थित अपने आश्रम में लौट गए। यहीं 19 जनवरी 1990 को उनका निधन हुआ।

पढ़ें :- दुनिया का सबसे बड़ा सीरियल किलर, जिसे आज भी लोग डॉक्टर डेथ के नाम से पहचानते हैं

ओशो के नये अवतार के साथ उन्होंने धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष का नया सिद्धांत प्रतिपादित किया। प्रेम की चेतना से ईश्वर को पाना ही उनका जीवन दर्शन था। पुणे स्थित उनकी समाधि पर संदेश लिखा है- ‘न कभी जन्मे, न कभी मरे, वे धरती पर 11 दिसंबर 1931 से 19 जनवरी 1990 के बीच आए थे।’

अन्य अहम घटनाएंः

1882ः सुप्रसिद्ध तमिल कवि सुब्रह्मण्य भारती का जन्म।

1922ः हिंदी फिल्मों के दिग्गज अभिनेता दिलीप कुमार का जन्म।

1935ः भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का जन्म।

पढ़ें :- शास्त्रीय गायन में इस दिग्गज ने संगीत की पूरी धारा को किया था प्रभावित

1969ः भारतीय शतरंज खिलाड़ी विश्वनाथन आनद का जन्म।

1969ः भारत की प्रसिद्ध महिला धाविका ज्योतिर्मयी सिकदर का जन्म।

1998ः मशहूर गीतकार और कवि प्रदीप का निधन।

2004ः कर्नाटक संगीत की सुप्रसिद्ध गायिका एमएस सुब्बुलक्ष्मी का निधन।

2012ः विश्व प्रसिद्ध सितार वादक भारत रत्न से सम्मानित पंडित रविशंकर का निधन।

और पढ़ें – ऑरोविले में एनजीटी ने पेड़ों की कटाई के खिलाफ लगाई अंतरिम रोक, जानें क्या है पूरा मामला

पढ़ें :- इस भारतीय पीएम के कहने पर देशवासियों ने छोड़ दिया था सप्ताह में एक वक्त का भोजन

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...