Booking.com

राज्य

  1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. उत्तराखंड : गंगा में मूर्ति विसर्जित करने वालों को भरना पड़ेगा भारी जुर्माना, प्रशासन ने जारी किया निर्देश !

उत्तराखंड : गंगा में मूर्ति विसर्जित करने वालों को भरना पड़ेगा भारी जुर्माना, प्रशासन ने जारी किया निर्देश !

नगर निगम ने तीन स्थान चिन्हित कर विसर्जन को तैयार किए कुंड

By इंडिया वॉइस 

Updated Date

हरिद्वार, 11 अक्टूबर। अब श्रद्धालु गंगा में मूर्तियों को विसर्जित नहीं कर पाएंगे। पर्यावरण की दृष्टि से एनजीटी के आदेशों का पालन कराने को लेकर डीएम के आदेश पर नगर निगम ने मूर्तियों के विसर्जन के लिए तीन स्थान चिन्हित कर कुंड तैयार किए हैं।

पढ़ें :- सीएम धामी ने आज बुलाई उच्चस्तरीय बैठक, शनिवार को लेंगे ग्राउंड जीरो का जायजा, पढ़ें

आपको बता दें कि इन्हीं कुंडों में मूर्तियों का विसर्जन करना होगा। वहीं इस बीच अगर कोई गंगा में मूर्ति विसर्जित करते हुए पकड़ा जाता है तो उस पर 50 हजार रुपये का पर्यावरण शुल्क लगाने के साथ-साथ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

आपको बता दें कि पर्यावरण की दृष्टि से गंगा और नदियों में मूर्ति विसर्जन आदि पर रोक को लेकर एनजीटी ने आदेश जारी किए हुए हैं। गणेश चतुर्थी के बाद अब नगर निगम क्षेत्रों में नव दुर्गा महोत्सव को देखते हुए मूर्ति विसर्जन स्थान चिन्हित किए हैं। यही कारण है कि अब मूर्ति विसर्जन को लेकर इन स्थानों पर कुंड बनाए गए हैं।

इनमें ही श्रद्धालुओं को मूर्तियों को विसर्जित करना होगा। इसके लिए नगर निगम की ओर से श्रद्धालु और आमजन से अपील की जा रही है कि ‘जिला गंगा समिति की ओर से चिन्हित स्थानों पर ही मूर्ति विसर्जन करें’।

आपको बता दें कि नगर आयुक्त दयानंद सरस्वती के मुताबिक बैरागी कैंप और कनखल के साथ वीआईपी घाट के समीप मूर्ति विसर्जन की व्यवस्था की गई है। इन स्थानों के अलावा अन्य जगहों पर विसर्जन नहीं कर पाएंगे। अगर कोई व्यक्ति इन स्थानों को छोड़कर गंगा, नदी में मूर्ति विसर्जित करता हुआ मिला तो उसके खिलाफ नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के आदेश के तहत कार्रवाई करते हुए 50,000 का पर्यावरण शुल्क वसूल किया जाएगा। इसके साथ ही वैधानिक कार्रवाई भी अमल में लाई जाएगी।

पढ़ें :- Jharkhand : अवैध बालू खनन पर NGT सख्त, मुख्य सचिव से मांगा जवाब

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...
Booking.com
Booking.com
Booking.com
Booking.com