1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. झारखंड सरकार के दो साल पूरे, आइये हेमंत सोरेन के वादों पर डालते हैं एक नज़र

झारखंड सरकार के दो साल पूरे, आइये हेमंत सोरेन के वादों पर डालते हैं एक नज़र

आज 29 दिसम्बर को झारखंड सरकार का गठन हुए 2 साल पूरे हो चुके हैं। सरकार बनने से पहले मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने जनता से कई वादे किए थे, आइये इन वादों पर एक नज़र डालते हैं।

By Akash Singh 
Updated Date

झारखंड : आज 29 दिसम्बर को झारखंड सरकार का गठन हुए 2 साल पूरे हो चुके हैं। सरकार बनने से पहले मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने जनता से कई वादे किए थे। हेमंत सोरेन के द्वारा जब वादे किए गए थे तो इन बातों पर सबकी नजर थी। मुख्य रूप से युवाओं को लुभाने के लिए हेमंत सोरेन ने सरकार बनने के 1 साल के भीतर ही 5 लाख युवाओं को रोजगार देने का वादा किया था। साथ ही हेमंत सोरेन ने 100 यूनिट फ्री बिजली देने, पिछड़े वर्ग को 27% आरक्षण देने समेत अनुबंध कर्मियों और पारा शिक्षकों के लिए भी कई वादे किए थे। आइये इन वादों पर एक नज़र डालते हैं।

पढ़ें :- झारखंड का राजनीतिक महाभारत : हेमन्त की हिम्मत , भाजपा का हमला , ED की दबिश [ इंडिया वाँयस विश्लेषण ]

पढ़ें :- BMW के बाद अब CM हेमंत सोरेन के काफिले में शामिल हुई लैंडरोवर और मर्सिडीज बेंज जैसी गाड़ियां, जानें क्यों खरीदनी पड़ी 18 गाड़ियां

 

यह वीडियो 2019 के विधानसभा चुनावों का है। जहां हेमंत सोरेन युवाओं को लुभाने के लिए सरकार बनने के 1 साल के भीतर 5 लाख युवाओं को रोज़गार देने के लिए वादे कर रहे हैं।

वर्तमान में इस परिस्थिति का आकलन करने के लिए इंडिया वॉइस ने एक सर्वे भी किया। जिसमे 2 साल में 5 लाख रोजगार के वादे पर 88.5% लोगों ने कहा कि सरकार अपने रोजगार के वादों को पूरा नहीं कर रही है और ऐसा करने कि सरकार की कोई नीयत भी दिखाई नहीं दे रही।

 

एक और विडियो 17 दिसंबर 2019 की है इसमें चुनावी रैली को संबोधित करते हुए हेमंत सोरेन ने किसानों से जुड़े कुछ बड़े वादे किये थे। इन वादों में किसानों को फ्री बिजली और कर्ज माफी शामिल था। साथ ही उन्होंने वादा किया था कि गरीब मजदूरों और मध्यम वर्गीय परिवार को 100 यूनिट बिजली मुफ़्त होगी और हर गरीब परिवार को छह हजार रुपये महीने दिये जायेंगे।

संविदा कर्मचारियों के सम्मेलन में वर्तमान मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन शामिल होने के लिये आये थे। इस सम्मेलन में उन्होंने कहा था कि यदि उनके नेतृत्व में झारखंड की सरकार बनती है तो साठ साल की नौकरी की गारण्टी देंगे। उन्होंने संविदा कर्मचारियों के स्थायित्व और समान कार्य के लिये समान वेतन का भी वादा किया था।

 

वर्तमान परिस्थिति में इस वादे का आकलन करने के लिये इंडिया वॉइस ने सर्वे किया हैं। जिसमे 90% से अधिक लोगों का मानना है कि अनुबंधकर्मियों को किए वादों पर सरकार का प्रदर्शन खराब रहा है।

एक और  विडियो 16 दिसंबर 2019, सारठ विधानसभा की है चुनाव से पहले ओबीसी आरक्षण पर भी हेमंत सोरेन ने वादा किया था। उन्होंने सरकार बनने के तीन महीने के भीतर ही पिछड़े वर्ग के लिए 27 प्रतिशत आरक्षण लागू करने की बात कही थी।

हेमंत सोरेन ने शिक्षा के सम्बन्ध में यह वादा किया था कि सरकारी स्कूलों को सभी आधुनिक सुविधाओं के साथ निजी स्कूलों से और भी बेहतर बनाया जाएगा।

आपको बता दें झारखण्ड सरकार के आज दो साल पूरे हो रहे हैं, एक तरफ राज्य सरकार अपने दो साल पूरे होने को उत्सव के रूप में मना रही है, बड़े विज्ञापनों के माध्यम से प्रचार प्रसार करने में लगी हुई है, साथ ही आज झारखण्ड में दो साल पूरे होने पर सरकार द्वारा कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। वहीँ विपक्षी पार्टियाँ लगातार सरकार पर 2 साल में फेल होने का और वादाखिलाफी करने का आरोप लगा रही हैं। पारा शिक्षक भी तमाम मुद्दों को लेकर सड़कों पर हैं, राज्य में बेरोज़गारी को लेकर भी आये दिन युवा प्रदर्शन कर रहे हैं, आजसू ने सरकार के दो साल पूरे होने पर विश्वासघात दिवस के रूप में मनाया।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...