1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. मेघालय: पूर्व विधायक को 25 साल की कैद, नबालिग से बलात्कार का मामला

मेघालय: पूर्व विधायक को 25 साल की कैद, नबालिग से बलात्कार का मामला

2013 में जूलियस री-भोई जिले के मेवहाटी सीट से निर्दलीय विधायक चुना गया था और 2017 में एक नाबालिग से दुष्कर्म का मामला उसके खिलाफ दर्ज किया गया उस वक्त भी वह विधायक के पद पर थें। पुलिस द्वारा मामला दर्ज़ करने के बाद विधायक फरार हो गया।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

मेघालय के पूर्व निर्दलीय विधायक जूलियस डोरफांग (Julius Dorphang) ने साल 2017 में विधायक पद पर रहते हुए एक नाबालिग का यौन शोषण किया था।  आज घटना के 5 साल बाद कोर्ट ने इस मामले पर कार्यवाही को रद्द करते  हुए जूलियस को 25 साल कैद की सजा सुनाई है।

पढ़ें :- दिल्ली में हुई रेप की शिकार 12 साल की नाबालिग ने कोलकाता में दिया बच्चे को जन्म

जूलियस विद्रोही समूह हिनिवट्रेप नेशनल लिबरसतिओं काउंसिल (Hynniewtrep National Liberation Council) के संस्थापक-अध्यक्ष थे। राज्य के री भोई जिले में यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण (POCSO) अधिनियम मामलो के चीफ जस्टिस एफ एस संगमा ने जूलियस डोरफांग मामले पर सजा सुनाई। जूलियस के वकील किशोर सीएच ने इस फैसले को हाई कोर्ट में चुनौती देने की बात कही है।

2013 में जूलियस री-भोई जिले के मेवहाटी सीट से निर्दलीय विधायक चुना गया था और 2017 में एक नाबालिग से दुष्कर्म का मामला उसके खिलाफ दर्ज किया गया उस वक्त भी वह विधायक के पद पर थें। पुलिस द्वारा मामला दर्ज़ करने के बाद विधायक फरार हो गया। बाद में विधायक को  गुवाहाटी आईएसबीटी से गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तार विधायक पर और यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण (POCSO) अधिनियम और अनैतिक तस्करी रोकथाम अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया। जिसके बाद उन्हें नोंगपोह जिला जेल में बंद कर दिया गया था, लेकिन 2020 में मेघालय उच्च न्यायालय से एकल पीठ द्वारा चिकित्सा आधार पर जूलियस को जमानत मिल गयी थी।

अब जूलियस को इस साल 13 अगस्त को फिर से गिरफ्तार किया गया और दोषी करार देते हुए पोक्सो अदालत में मुकदमा चला।

पढ़ें :- बच्ची से दरिंदगी करने वाला गिरफ्तार
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...