1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. विवादित बाबरी विध्वंश की बरसी पर यूपी में सुरक्षा के कड़े इंतजाम, मथुरा, काशी और अयोध्या में रहेगा हाई अलर्ट

विवादित बाबरी विध्वंश की बरसी पर यूपी में सुरक्षा के कड़े इंतजाम, मथुरा, काशी और अयोध्या में रहेगा हाई अलर्ट

राज्य के डीजीपी के द्वारा पुलिस अधिकारियों को और अधिक सतर्कता बरतने का आदेश दिया गया है साथ ही यह भी कहा गया है कि किसी भी कार्यक्रम के आयोजन को मंजूरी नहीं दी जाए। इसके साथ ही सुरक्षा के व्यापक इंतजाम करने का निर्देश भी दिया गया है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

आज बाबरी विध्वंश की बरसी है। उत्तर प्रदेश में इसको लेकर सुरक्षा के चौकस इंतजाम किये गए हैं, आपको बता दें कि मथुरा में पिछले तीन दिनों से ही सुरक्षा बालों का पहरा बढ़ा दिया गया है। यूपी में पुलिस विवादित बाबरी मस्जिद विध्वंस की बरसी को लेकर हाई अलर्ट पर है राज्य के डीजीपी के द्वारा पुलिस अधिकारियों को और अधिक सतर्कता बरतने का आदेश दिया गया है साथ ही यह भी कहा गया है कि किसी भी कार्यक्रम के आयोजन को मंजूरी नहीं दी जाए। इसके साथ ही सुरक्षा के व्यापक इंतजाम करने का निर्देश भी दिया गया है।

पढ़ें :- Jharkhand : कांग्रेस विधायक बंधु तिर्की के खिलाफ 9 घंटे चली CBI की कार्रवाई, मामले में राजनीति तेज

एडीजी प्रशांत कुमार ने सख्त निर्देश दिए हैं कि 6 दिसंबर को कोई भी अलग से आयोजन नहीं किया जाएगा। राज्य में पूर्ण शांति बनाए रखने के लिए सभी क्षेत्रीय इकाइयों को भी हाई अलर्ट पर रखा गया है वहीँ आपको बता दें कि मथुरा मामले में बड़े नेताओं ने फिलहाल चुप्पी साध ली है दो दिन पहले तक प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य लगातार ट्वीट कर रहे थे, लेकिन अब उनका ट्वीट भी आना बंद हो गया। इधर, हिंदू महासभा ने भी प्लान में बदलाव कर लिया है। महासभा के नेताओं ने कहा है कि अब सांकेतिक जलाभिषेक होगा जो कि दिल्ली में किया जाएगा।

जानकारी के अनुसार 6 दिसम्बर की सुरक्षा के लिए 150 पीएसी की कंपनी को तैनात किया गया है, और सुरक्षा में सीआरपीएफ की 6 कंपनियों को भी लगाया गया है वहीँ काशी, मथुरा और अयोध्या में भी बाबरी विध्वंस की बरसी को लेकर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं ताकि प्रदेश में शांति व्यवस्था बनी रहे। यूपी पुलिस ने बताया है कि सभी संगठनों से बात की गई है ताकि कोई भी समस्या न हो इसके साथ ही सभी पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी मौके पर अलर्ट पर रहेंगे। दरअसल, 6 दिसंबर को एक तबका इसे काला दिवस और एक तबके के लोग इसे शौर्य दिवस के रूप में मनाते हैं इसलिए किसी भी तरह का कोई विवाद न हो इसके लिए यूपी पुलिस ने सुरक्षा में कोई कसर नहीं छोड़ा है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...