1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. पितृ विसर्जनी अमावस्या : जानें कब खत्म हो रहा है पितृपक्ष, पढ़े पूरी खबर !

पितृ विसर्जनी अमावस्या : जानें कब खत्म हो रहा है पितृपक्ष, पढ़े पूरी खबर !

पितरों के निमित्त यह तिथि दान-पुण्य के लिए बड़ी पुनीत मानी जाती है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

लखनऊ, 5 अक्टूबर। पितृ विसर्जनी अमावस्या बुधवार को होगी। आश्विन कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा से शुरू हुआ 15 दिनों का पितृपक्ष बुधवार को अमावस्या से समाप्त हो जाएगा। आश्विन मास की कृष्ण पक्ष की इस अमावस्या का बड़ा महत्व है। इस अमावस्या को पितृविसर्जनी अमावस्या कहते हैं। ऐसा माना जाता है कि इस तिथि में परिवार के जिन दिवगंतों की मृत्यु तिथि ज्ञात न हो, उनका भी श्राद्ध-तर्पण किया जा सकता है।

पढ़ें :- पितृ पक्ष कल से, कैसे करें तर्पण पढ़े पूरी खबर !

पितरों के निमित्त यह तिथि दान-पुण्य के लिए बड़ी पुनीत मानी जाती है। लखनऊ के ज्योतिषाचार्य एस.एस.नागपाल ने बताया कि अमावस्या बुधवार को 4 बजकर 34 मिनट पर समाप्त हो जाएगी। इसी समय पितरों की विदाई हो जाएगी। इसके बाद देवी की पूजा के लिए घर को धोकर कर शुद्ध कर लिया जाता है। शाम को नवरात्रि पूजन की सामग्री को खरीदा जा सकता है।

उन्होंने बताया कि अमावस्या तिथि में सर्वपितृ श्राद्ध किया जाता है। जिन पितरों की पुण्यतिथि परिजनों को ज्ञात नहीं हो या जिनका श्राद्ध पितृपक्ष के इन दिनों में न किया गया हो, तो उनका श्राद्ध, दान एवं तर्पण इसी दिन कर सकते है। पंडित जी ने बताया कि अमावस्या को दिन में गोबर के कंडे जलाकर उस पर खीर की आहुति दें।

उस पर जल के छींटे देकर हाथ जोड़े और पितरों को प्रणाम करें। इसके अलावा गाय को ग्रास , कुत्ते और कौवे को भी भोजन देने से पितृ शान्त होते है। धर्मग्रथों के अनुसार कोई भी व्यक्ति तीन पीढ़ी पितृपक्ष में और तीन पीढ़ी मातृ पक्ष में तर्पण कर सकता है। जो व्यक्ति अपने पितरों का अमावस्या को श्राद्ध दान करते हैं वे पितर दोष से मुक्त हो जाते हैं। दान से पितृ प्रसन्न होकर आशीर्वाद देते हैं और व्यक्ति के सभी मनोरथ पूर्ण हो जाता है।

हरिद्वार में है खास इंतज़ाम

बुधवार को होने वाली पितृ विसर्जन अमावस्या स्नान पर्व के दृष्टिगत जनपद हरिद्वार में यातायात डायवर्जन प्लान लागू किया गया है। यह प्लान मंगलवार की देर रात प्रातः 04 बजे से समाप्ति तक लागू रहेगा। दिल्ली-मेरठ-मुज्जफरनगर नगर की ओर से आने वाले ट्रैक्टर ट्रॉली एवं बस ऋषिकुल मैदान में पार्क होंगे।

दिल्ली, मेरठ, मुज्जफरनगर की ओर से आने वाले छोटे वाहन हरिराम इण्टर कॉलेज मैदान, गड्ढा पार्किंग, रोड़ीबेलवाला, पन्तद्वीप पार्किंग में पार्क होंगे। बिजनौर, नजीबाबाद की ओर से आने वाले ट्रैक्टर ट्राली एवं बस बैरागी कैम्प पार्किंग मैदान में पार्क होंगे। तुलसी चौक से देवपुरा चौक के मध्य किसी भी प्रकार का वाहन प्रतिबन्धित रहेगा।

देहरादून व ऋषिकेश की ओर से आने वाले ट्रैक्टर ट्राली एवं बस जयराम मोड़ कट से टर्न कराकर पन्तद्वीप पार्किंग में पार्क किये जायेंगे। शंकराचार्य चौक से तुलसी चौक की ओर लोकल पब्लिक वाहनों को छोड़कर सभी बाह्य जनपद के वाहन प्रतिबन्धित रहेंगे। शिवमूर्ति चौक अन्दर से ऑटो, विक्रम, ई-रिक्शा वाहन तुलसी चौक की ओर प्रतिबन्धित रहेंगे। चण्डीचौक ललतारौ पुल से बाल्मिकि चौक की ओर लोकल पब्लिक वाहनों को छोड़कर सभी बाह्य जनपद के वाहन प्रतिबन्धित रहेंगे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...