1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. लखीमपुर खीरी हिंसा मामला: लखीमपुर जाने की जिद पर अड़ी प्रियंका गांधी वाड्रा

लखीमपुर खीरी हिंसा मामला: लखीमपुर जाने की जिद पर अड़ी प्रियंका गांधी वाड्रा

बीते कई घंटों से सीतापुर पीएसी बटालियन के गेस्ट हाउस में नजरबंद प्रियंका गांधी वाड्रा अभी भी लखीमपुर जनपद जाने की जिद पर अड़ी हुई हैं।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

सीतापुर, 05 अक्टूबर। बीते कई घंटों से सीतापुर पीएसी बटालियन के गेस्ट हाउस में नजरबंद प्रियंका गांधी वाड्रा अभी भी लखीमपुर जनपद जाने की जिद पर अड़ी हुई हैं। समाचार लिखे जाने तक सीतापुर प्रशासन के उच्चाधिकारियों के बीच बातचीत जारी है।

पढ़ें :- Lakhimpur Kheri Violence : लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा को मिली जमानत, जानें कब होगी रिहाई ?

कांग्रेस के नेताओं के मुताबिक प्रियंका किसी भी कीमत पर लखीमपुर जाने की जिद पर हैं, बताया जा रहा है कि प्रशासन बीच का रास्ता निकालने में जुटा हुआ है, हालांकि उच्चाधिकारी उन्हें किसी भी कीमत पर लखनऊ जाने की बात कहकर तैयार करने में जुटे हुए हैं, खबर है कि बात ना बनने पर उन्हें 5 नेताओं के प्रतिनिधि मंडल के साथ लखीमपुर रवाना किया जा सकता है। इसके लिए लखीमपुर जिला प्रशासन की ओर से हरी झंडी मिलने का इंतजार किया जा रहा है। मंजूरी होने पर प्रियंका को कुछ शर्तों पर लखीमपुर जाने की अनुमति दी जा सकती है।

एप के जरिए से धरना दे रहे लोगों में भरा जोश

मंगलवार देर रात प्रियंका वाड्रा ने अपनी हिरासत के विरोध में गेट के बाहर धरना दे रहे कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं को जूम एप के जरिए से संबोधित कर उनमें जोश भरा।

कांग्रेस की राजनीति का केंद्र बिंदु बना सीतापुर

पढ़ें :- अयोध्या में राम के नाम पर चल रही लूट, चंदे की राशि से हो रहा घोटाला : प्रियंका गांधी वाड्रा

सोमवार की सुबह प्रियंका वाड्रा को सीतापुर पीएससी गेस्ट हाउस में नजरबंद किए जाने की खबर फैलते ही उत्तर प्रदेश के कई जनपदों सहित कई प्रदेशों के कांग्रेसियों का सीतापुर पहुंचना जारी रहा। मंगलवार की सुबह से शाम तक छत्तीसगढ़, राजस्थान, उत्तराखंड से भी कांग्रेस के कार्यकर्ता सीतापुर पहुंचे और अपने नेता की रिहाई की मांग को लेकर गेट के बाहर धरने पर बैठकर नारेबाजी करते रहे।

बाहर से आए हुए नेताओं का जमावड़ा होने के कारण हालात ऐसे हैं कि आस-पास के सभी छोटे और बड़े होटल कांग्रेसी नेताओं से भरे पड़े हुए हैं। जनपद रामपुर के निखिल ने अपने आपको कांग्रेस का जिला अध्यक्ष बताते हुए बताया कि जब तक हमारे नेता को लखीमपुर जाने नहीं दिया जाएगा, तब तक हम सभी यहां से हटने वाले नहीं हैं।

ड्रोन कैमरों से धरने पर बैठे कार्यकर्ताओं पर नजर

सीतापुर प्रशासन की ओर से पीएसी ग्राउंड और आसपास ड्रोन कैमरों से निगरानी रख रहा है तो वहीं नजरबंद प्रियंका ने अपने कार्यकर्ताओं का भी पल-पल का हालचाल जाना। प्रियंका की ओर से धरने पर बैठे लोगों के लिए भोजन, पानी का उचित प्रबन्ध और धूप से बचने के लिए पांडाल लगवाने के निर्देश देते ही महज आधा घण्टे के अंदर धरनास्थल पर पांडाल लगवा दिया गया।

इन बड़े नेताओं का मंगलवार को रहा जमावड़ा

पढ़ें :- केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी ने पत्रकारों संग की अभद्रता

कांग्रेस के बड़े दिग्गजों का सीतापुर पहुंचना लगातार जारी है। इसी क्रम में पीएल पुनिया, कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता सुप्रिया सुले, पूर्व सांसद कमल किशोर ‘कमांडो’, विधायक सोहेल अंसारी, प्रदीप माथुर, सुबोध श्रीवास्तव, नसीमुद्दीन सिद्दीकी सहित बाकी कई कांग्रेस के नेता सीतापुर पहुंच कर धरना दे रहे कार्यकर्ताओं में ऊर्जा भरने का काम कर रहे हैं।

सीतापुर कांग्रेस के जिला अध्यक्ष उत्कर्ष अवस्थी ने बताया कि सीतापुर प्रशासन की ओर से धारा 151 के अन्तर्गत एक नोटिस दिया गया है। वहीं मंगलवार शाम प्रियंका की रिहाई के लिए कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने मशाल जुलूस निकालकर प्रदर्शन किया।

हिन्दुस्थान समाचार

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...