1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. खुशखबरी : मैनपुरी से 325 टन आलू लेकर असम रवाना हुई पहली किसान रेल

खुशखबरी : मैनपुरी से 325 टन आलू लेकर असम रवाना हुई पहली किसान रेल

किसान हितों को लेकर चलाई गई इस ट्रेन का माल भाड़ा गुड्स ट्रेनों की अपेक्षा काफी कम रखा गया। यह जानकारी ट्रेन रवाना होने पर उत्तर मध्य रेलवे प्रयागराज के जनसम्पर्क अधिकारी अमित सिंह ने मंगलवार ने दी।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

उत्तर मध्य रेलवे यात्रियों की बेहतर सुविधाओं के साथ सफर अब किसानों को उनकी फसल का बेहतर मूल्य दिलाने की ओर एक बड़ा कदम बढ़ाया है। मंगलवार से उत्तर मध्य रेलवे ने पहली किसान ट्रेन का संचालन किया है। यह ट्रेन मैनपुरी जनपद के स्टेशन से आज असम के लिए रवाना हुई। इस ट्रेन में 325 टन आलू परिवहन कर असम भेजा गया है। किसान हितों को लेकर चलाई गई इस ट्रेन का माल भाड़ा गुड्स ट्रेनों की अपेक्षा काफी कम रखा गया। यह जानकारी ट्रेन रवाना होने पर उत्तर मध्य रेलवे प्रयागराज के जनसम्पर्क अधिकारी अमित सिंह ने मंगलवार ने दी।

पढ़ें :- उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने Azam Khan पर साधा निशाना, कही ये बात

उन्होंने बताया कि उत्तर मध्य रेलवे के प्रयागराज मण्डल ने किसानों को अपनी उपज की खपत या कमी वाले क्षेत्रों में बेचने की सुविधा प्रदान करने के लिए मैनपुरी स्टेशन से असम के बिहारा के बीच पहली किसान रेल के संचालन आज से शुरू कर दिया गया है। यह किसान रेल गाड़ी संख्या 00416 आज प्रातः 06:25 बजे मैनपुरी स्टेशन से रवाना की गई। यह बुधवार को रात्रि 12 बजे असम के बिहारा स्टेशन पर पहुंचेगी। इस गाड़ी में लगभग 325 टन आलू की लदान किया गया। जिससे लगभग 15.40 लाख रुपये रेल राजस्व प्राप्त हुआ। किसान रेल का एक विशेष लाभ यह भी है, कि इसमें किसानों को प्रभावी पार्सल दरों की तुलना में पचास प्रतिशत कम शुल्क देना पड़ता है।

किसानों को आधा भाड़े की मिलेगी सब्सिडी का लाभ

उत्तर मध्य रेलवे प्रयागराज के जनसम्पर्क अधिकारी श्री सिंह का बताया कि यह योजना भारत सरकार की पहल है जिसमें किसानों को फल, सब्जी, डेरी उत्पादों जैसे पेरिशेबल खाद्य पदार्थों की बुकिंग पर 50 फीसदी की सब्सिडी दी जाती हैं। फलों और सब्जियों के परिवहन के लिए ऑपरेशन ग्रीन टॉप टू टोटल योजना के अंतर्गत शेष 50 फीसदी राशि का बहुत खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय द्वारा किया जा रहा है। इस लाभ के अंतर्गत किसानों द्वारा कुल देय 15,41,392 लाख रूपये का 50 फीसदी (50 फीसद सब्सिडी) का लाभ मिलेगा और सिर्फ 7,85 808 लाख का भुगतान करना पड़ा।

भारत की सभी मंडियों तक किसानों की उपज पहुंचाने का प्रयास

पढ़ें :- UP News:उन्नाव में दलित छात्रा के साथ हैवानियत,घर के बरामदे में मिली रक्तरंजित नग्न लाश

उत्तर मध्य रेलवे प्रयागराज के जनसम्पर्क अधिकारी का कहना है कि प्रयागराज मण्डल विभिन्न हितधारकों, किसानों और राज्य की एजेंसियों के परामर्श से यह प्रयास कर रही है कि किसानों को उनकी उपज को पूरे भारत की मंडियों तक पहुंचाया जा सके। इससे उन्हें अपनी फसल का बेहतर मूल्य मिलेगा और वह लाभांवित होंगे। इसके लिए उनकी जरूरतों की पहचान भी की जा रही है और उन्हें कई अन्य बेहतर सेवाएं उपलब्ध कराई जाने का भी प्रयास जारी है।

अन्य मार्गों पर किसान हित में चलाई जाएगी ट्रेन

बताया कि, प्रयागराज मण्डल आने वाले समय में अन्य मार्गों पर भी और अधिक गाड़ियों का संचालन करने के लिए प्रतिबद्ध है। प्रयागराज मण्डल से पहली किसान रेल का संचालन मण्डल रेल प्रबन्धक मोहित चन्द्रा के मार्गनिर्देशन में वरिष्ठ मण्डल वाणिज्य प्रबंधक विपिन कुमार सिंह, वरिष्ठ मण्डल परिचालन प्रबन्धक एस. के. शुक्ला व मण्डल यातायात प्रबंधक टूण्डला जे. संजय कुमार सहित प्रयागराज मण्डल की टीम के अथक प्रयासों से सम्भव हुआ है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...