1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. वर्ल्ड हार्ट डे स्पेशल: हृदय रोगियों के लिए आयुष्मान योजना बना वरदान, राज्य भर के 4292 रोगियों को बचाई गई जान

वर्ल्ड हार्ट डे स्पेशल: हृदय रोगियों के लिए आयुष्मान योजना बना वरदान, राज्य भर के 4292 रोगियों को बचाई गई जान

- धूम्रपान के कारण 30 से 35 साल के युवाओं को हो रहा हार्ट अटैक

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

रांची- आज वर्ल्ड हार्ट डे है। ऐसे में हम आपको हार्ट से संबंधित समस्या और हार्ट का ख्याल कैसे रखें, इस विषय में बताने जा रहे हैं। हाल के दिनों में कम उम्र के लोगों में भी हार्टअटैक की समस्या आने लगी है। कार्डियोलॉजी विभाग के डॉक्टर की माने तो धूम्रपान के कारण 30 से 35 साल के युवाओं को भी हार्ट अटैक हो रहा है। रिम्स के कार्डियोलॉजी विभाग के एचओडी डॉ हेमंत नारायण ने कहा कि यूरोपियन देश और अमेरिकी देशों में हार्ट अटैक के मामले जहां 55 से 60 सालों में होता है। वही भारत में 40 से 45 साल की उम्र में हार्ट अटैक की समस्याएं देखा जा रहा है। उन्होंने कहा कि वह मे हार्ट अटैक का धूम्रपान सबसे बड़ा कारण है।

कोलेस्ट्रोल की अधिकता भी हार्ट अटैक की वजह

डॉ हेमंत नारायण ने कहा कि कोलेस्ट्रोल की अधिकता भी युवाओं में हार्ट अटैक का कारण बन रहा है। उन्होंने बताया कि किसी परिवार में 65 साल की उम्र से कम की महिला और 55 साल से कम के पुरुष में हार्ट अटैक हुआ है, तो युवाओं को हार्ट अटैक का खतरा अधिक होता है।

रिम्स के कार्डियोलॉजी ओपीडी में करीब डेढ़ सौ की संख्या में हर रोज आते हैं मरीज

रिम्स के ओपीडी में हर रोज 125 से 150 के करीब मरीज हृदय संबंधी समस्या को लेकर चिकित्सकों से परामर्श लेने आते हैं। जहां विभाग के 5 सदस्यीय डॉक्टरों की टीम मरीजों का इलाज करते हैं।

वही आयुष्मान योजना में 3 साल में राज्य के कुल 4292 हृदय रोगियों की जान बचाई है। इन मरीजों के इलाज में पूरे 48 करोड़ आठ लाख से अधिक खर्च किए गए हैं। योजना के तहत सबसे अधिक पूर्वी सिंहभूम जिले के 570 मरीजों को लाभ मिला है। इसके बाद राजधानी रांची के 498 ह्रदय रोगियों को इस योजना से लाभ मिला। जबकि सबसे कम सिमडेगा जिले के 19 हृदय रोगियों को आयुष्मान भारत योजना का लाभ मिला है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
India Voice Ads
X