1. हिन्दी समाचार
  2. ख़बरें जरा हटके
  3. गोलियों की तड़तड़ाहट से आज के दिन दहल उठी थी मायानगरी

गोलियों की तड़तड़ाहट से आज के दिन दहल उठी थी मायानगरी

आज के इतिहास में मुंबई हमलों की यादों को करें ताजा, साथ ही पढ़ें श्वेत क्रांति के जनक की उपलब्धियां।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

26/11 का आंतकी हमला : वर्ष 2008 में मुबंई में आतंकी हमला (Mumbai Attack) हुआ। पाकिस्तान के आंतकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के आतंकियों ने इस घटना को अंजाम दिया था। वर्ष 2008 में आज ही के दिन 10 आतंकी एक नाव के जरिए मुंबई में प्रवेश करते हैं और मुंबई में गोलियां बरसाना शुरू कर देते हैं। जानकारी के अनुसार इस हमले में 160 से ज्यादा लोग मारे गए थे, जबकि 300 से ज्यादा लोग घायल हुए थे। कड़ी मशक्कत के बाद सेना का ऑपरेशन चलाकर इस घटना के सभी आंतकियों को मारते हुए एक आंतकी को जिंदा पकड़ा गया था। पकड़े गए आतंकी अजमल कसाब (Ajmal kasab) ने पाकिस्तान के आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के बारे में कई खुलासे किए, साथ ही उसने घटना से जुड़ी कई अहम जानकारियां पुलिस व सरकार को दी थी। जिसके बाद उसे फांसी पर चढ़ाया गया था।

पढ़ें :- हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के पहले सुपरस्टार थे कुंदनलाल सहगल

 

ये भी पढ़ें :  

1. 26/11 Mumbai Attack : पहला विदेशी नागरिक जिसे भारत में दी गई फांसी।

2. Mumbai Attack के आतंकी अजमल कसाब पर सरकार ने क्यों खर्च किए थे 50 करोड़, जानें यहां

पढ़ें :- दुनिया का सबसे बड़ा सीरियल किलर, जिसे आज भी लोग डॉक्टर डेथ के नाम से पहचानते हैं

3. Mumbai Attack: 26/11 के आतंकी हमले में इन जाबांजों ने लहराया था अपनी बहादुरी का परचम

4. दुनिया के पांच बड़े आतंकी हमले, जिन्होंने कर दिया था इंसानियत को शर्मसार

 

आज के दिन जन्में थे श्वेत क्रांति के जनक 

धवल क्रांति का ‘आनंद मॉडल’- भारत में श्वेत क्रांति के जनक डॉ. वर्गीज कुरियन का जन्म 26 नवंबर 1921 को केरल के कोझिकोड में हुआ। सुप्रसिद्ध उद्योगपति डॉ. कुरियन ने अरबों रुपये के ब्रांड ‘अमूल’ की आधारशिला रखी। विश्व के सबसे बड़े कृषि विकास कार्यक्रम के लिए उन्हें ‘फादर ऑफ व्हाइट रिवोल्युशन’ कहा जाता है। जिन्होंने ‘बिलियन लीटर आइडिया’ से भारत को दूध का सबसे बड़ा उत्पादक बना दिया। उनकी इन कोशिशों से डेयरी उद्योग भारत के सबसे बड़ा आत्मनिर्भर उद्योग में बदल गया।

चेन्नई से इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने वाले कुरियन ने बेंगलुरू और मिशीगन स्टेट विवि अमेरिका में डेयरी इंजीनियरिंग में विशेष प्रशिक्षण प्राप्त किया। रोचक बात यह है कि दुग्ध क्रांति के लिए दुनिया भर में मशहूर डॉ. कुरियन स्वयं दूध नहीं पीते थे। 1970 में राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड (एनडीडीबी) की योजना ने भारत में डेयरी की तस्वीर बदलकर रख दी। इससे पहले 1949 में डॉ. कुरियन ने स्वेच्छा से सरकारी नौकरी छोड़कर कैरा में जिला सहकारी दुग्ध उत्पादक संघ जो अमूल के नाम से प्रसिद्ध है, से जुड़ गए। उन्होंने इस संस्थान को देश का सबसे सफल संस्थान बनाने में सर्वाधिक योगदान दिया। उनकी इसी सफलता से प्रभावित होकर तत्कालीन प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्त्री ने राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड का निर्माण किया और डॉ. कुरियन को बोर्ड का अध्यक्ष बनाया गया। दो दशकों बाद डॉ. कुरियन की अगुवाई में इस संस्थान का कार्यक्रम, श्वेत क्रांति का पर्याय बन गया। ऑपरेशन फ्लड तीन चरणों में पूरा हुआ।

पढ़ें :- शास्त्रीय गायन में इस दिग्गज ने संगीत की पूरी धारा को किया था प्रभावित

भारत सरकार की तरफ से डॉ. कुरियन की अद्वितीय सेवाओं को देखते हुए पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया। उन्हें रेमन मैग्सेसे पुरस्कार पुरस्कार, कार्नेगी वाटलर विश्व शांति पुरस्कार मिले। उपलब्धियों तक पहुंचने से पहले डॉ.कुरियन के अथक परिश्रम और कड़े संघर्षों पर आधारित श्याम बेनेगल की मशहूर फिल्म ‘मंथन’ को लोगों ने काफी पसंद किया। 9 सितंबर 2012 में 90 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया।

अन्य अहम घटनाएं:

1917: उड़ीसा के पूर्व मुख्यमंत्री बीरेन मित्रा का जन्म।

1919: भारत के सुप्रसिद्ध इतिहासकार रामशरण शर्मा का जन्म।

1926: भारत के मशहूर वैज्ञानिक व शिक्षाविद यशपाल का जन्म।

1926: लोकसभा के पूर्व अध्यक्ष और राजनीतिज्ञ रवि राय का जन्म।

पढ़ें :- इस भारतीय पीएम के कहने पर देशवासियों ने छोड़ दिया था सप्ताह में एक वक्त का भोजन

1949: संविधान सभा के अध्यक्ष का स्वतंत्र भारत के संविधान पर हस्ताक्षर।

2012: अरविंद केजरीवाल ने आम आदमी पार्टी बनायी।

हिन्दुस्थान समाचार

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...