1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक के काफिले की गाड़ी पर उपद्रवियों ने किया हमला

मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक के काफिले की गाड़ी पर उपद्रवियों ने किया हमला

उग्रवादी नेता के समर्थकों ने मेघालय के राज्यपाल के काफिले की गाड़ी पर हमला कर दिया। घटना मंगलवार देर शाम को शिलांग के प्रवेश द्वार मोवलाई इलाके में राष्ट्रीय राजमार्ग पर होना बताया गया है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नागरिकों, सुरक्षाबलों के बाद पुलिस मुठभेड़ में मारे गए उग्रवादी नेता के समर्थकों ने मेघालय के राज्यपाल के काफिले की गाड़ी पर हमला कर दिया। घटना मंगलवार देर शाम को शिलांग के प्रवेश द्वार मोवलाई इलाके में राष्ट्रीय राजमार्ग पर होना बताया गया है।

पढ़ें :- मेघालय: पूर्व विधायक को 25 साल की कैद, नबालिग से बलात्कार का मामला

राज्यपाल सत्यपाल मलिक मंगलवार की दोपहर दिल्ली के लिए रवाना हो गये। राज्यपाल को उनका काफिला गुवाहाटी के गोपीनाथ बरदलै अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर छोड़ने के बाद कर्फ्यू के बीच शिलांग स्थित राजभवन लौट रहा था। इसी दौरान मोवलाई क्षेत्र में जैसे ही सुरक्षा काफिला पहुंचा तो उपद्रवियों ने पत्थर फेंकना शुरू कर दिया। इस घटना में काफिले के तीन-चार वाहन कथित तौर पर क्षतिग्रस्त हो गए। लेकिन किसी के हताहत होने की खबर नहीं है।

इस घटना के मद्देनजर बुधवार की सुबह पूर्वी खासी हिल्स जिला प्रशासन के पास कथित तौर पर शिकायत दर्ज कराई गई। पुलिस मामले की जांच कर रही है। उल्लेखनीय है कि पुलिस मुठभेड़ में गत 13 अगस्त की देर रात को एचएनएलसी के पूर्व महासचिव की मौत हो गयी। उसके बाद से ही राजधानी शिलांग समेत खासी समुदाय के प्रभाव वाले इलाकों में हिंसा आरंभ हो गयी, जिसके चलते राजधानी शिलांग समेत चार जिलों में गत 15 अगस्त की रात 8 बजे से कर्फ्यू लगाया गया है।

पूर्व में घोषित कर्फ्यू की मियाद बुधवार की सुबह समाप्त हो गयी। हालांकि, स्थिति सामान्य होते न देख प्रशासन ने शुक्रवार की सुबह 6 से शाम 4 बजे तक कर्फ्यू में ढील दिया है। शाम 6 बजे से फिर से कर्फ्यू बहाल रहेगा। अभी यह पता नहीं चल सका है कि कर्फ्यू कब तक बहाल रहेगा। कर्फ्यू पूर्वी खासी हिल्स जिला में है, जबकि चार जिलों में मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद की गयी है।

राज्य सरकार स्थिति को सामान्य बनाने के लिए सभी तरह के आवश्यक कदम उठा रही है। राज्य मंत्रिमंडल ने इस घटना की न्यायिक जांच का निर्णय लेने के साथ ही उप मुख्यमंत्री के नेतृत्व में एक शांति कमेटी का गठन किया है। इसके बावजूद हालात में कोई खासा सुधार होता नहीं दिखाई दे रहा है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...