1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. मनी लॉन्ड्रिंगः अभिषेक बनर्जी को दिल्ली हाईकोर्ट से राहत नहीं, 27 सितंबर को होगी अगली सुनवाई

मनी लॉन्ड्रिंगः अभिषेक बनर्जी को दिल्ली हाईकोर्ट से राहत नहीं, 27 सितंबर को होगी अगली सुनवाई

दिल्ली हाईकोर्ट ने TMC सांसद अभिषेक बनर्जी और उनकी पत्नी के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में ED की ओर से जारी समन पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है। मामले की अगली सुनवाई 27 सितंबर को होगी।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 21 सितंबर। दिल्ली हाईकोर्ट ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे और सांसद अभिषेक बनर्जी और उनकी पत्नी के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में ED की ओर से जारी समन पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है। जस्टिस योगेश खन्ना की बेंच ने ED को नोटिस जारी किया है। मामले में अगली सुनवाई 27 सितंबर को होगी।

पढ़ें :- Delhi High Court : दिव्यांगों के कल्याण के लिए बनी संवैधानिक संस्थाओं में खाली पदों को लेकर हाई कोर्ट की केंद्र को फटकार

कोर्ट में सुनवाई के दौरान अभिषेक बनर्जी की ओर से मौजूद वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि जांच 2017 के मामले की जा रही है लेकिन उसके पहले के दस्तावेज मांगे जा रहे हैं। ED ने अभिषेक बनर्जी को पूछताछ के लिए बुलाया, जिसके बाद वो 6 सितंबर को पेश हुए। ईडी ने 10-11 घंटे पूछताछ की। पूछताछ से जैसे ही अभिषेक बनर्जी वापस गए, वैसे ही उनके खिलाफ दूसरा नोटिस 8 सितंबर को जारी कर दिया गया।

कपिल सिब्बल ने कोर्ट में कहा कि ED अभिषेक बनर्जी और उनके परिवार की संपत्ति का विवरण मांग रही है। वो पिछले 5 साल के आय का स्रोत मांग रहे हैं। अभिषेक बनर्जी और उनके परिवार के पिछले 10 साल के इनकम टैक्स रिटर्न मांगे जा रहे हैं। ये जांच किसी तरह कुछ ना कुछ पकड़ने के लिए है। उन्होंने कहा कि किसी महिला से वहीं पूछताछ की जा सकती है जहां वो रहती है। ED उन्हें दिल्ली नहीं बुला सकती है।

वहीं ED की ओर से एएसजी एसवी राजू ने कहा कि अभिषेक बनर्जी का पता दिल्ली का है। वो संसद सदस्य हैं और उनका अच्छा-खासा समय दिल्ली में बीतता है। राजू ने कहा कि उनके पास इस बात के सबूत हैं कि अभिषेक बनर्जी की पत्नी रुजिरा बनर्जी ने जिस दिन ED के सामने आने में असमर्थता जताई थी, उस दिन वो दिल्ली के एक ब्यूटी पार्लर में मौजूद थीं। राजू ने कहा कि अपराध प्रक्रिया संहिता की धारा 160 मनी लॉन्ड्रिंग के कानून पर लागू नहीं होती है। इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट विस्तार से सुनवाई कर रहा है, इसलिए इस पर हाईकोर्ट को विचार नहीं करना चाहिए।

कोर्ट में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट पर अपराध प्रक्रिया संहिता लागू नहीं होती है। उन्होंने कहा कि कपिल सिब्बल की इस दलील को स्वीकार नहीं किया जा सकता है कि अपराध प्रक्रिया संहिता मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट पर लागू होती है। उन्होंने कहा कि मनी लॉन्ड्रिंग का असर पूरे देश में होता है और ये केवल कनाट प्लेस तक सीमित नहीं है। ED के डायरेक्टर को धारा 2(के) तहत परिभाषित किया गया है जो एक अखिल भारतीय अधिकारी है।

पढ़ें :- Nizamuddin Markaz Mosque : दिल्ली हाईकोर्ट ने दी निजामुद्दीन मरकज की मस्जिद के पांचों फ्लोर खोलने की सशर्त इजाजत

अभिषेक बनर्जी के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट की धारा 50 के तहत समन जारी किया गया है। अभिषेक बनर्जी और उनकी पत्नी रुजिरा बनर्जी के खिलाफ कोयला घोटाला मामले में मनी लॉन्ड्रिंग के तहत ईडी ने समन जारी कर दिल्ली में पूछताछ के लिए बुलाया है। याचिका में कहा गया है कि अभिषेक बनर्जी और उनकी पत्नी से कोलकाता में पूछताछ की जाए।

गौरतलब है कि ED ने पिछले 6 सितंबर को कोयला घोटाला मामले में अभिषेक बनर्जी से दिल्ली में करीब 9 घंटे पूछताछ की थी। इस मामले में तृणमूल कांग्रेस के नेता विनय मिश्रा के भाई विकास मिश्रा को मार्च महीने में गिरफ्तार किया था।

हिन्दुस्थान समाचार

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...