1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. नैनीताल की ठंडी सड़क पर तेज भूस्खलन, भू-वैज्ञानिकों ने चेताया

नैनीताल की ठंडी सड़क पर तेज भूस्खलन, भू-वैज्ञानिकों ने चेताया

-एक छात्रावास को खाली कराया गया

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नैनीताल, 31 अगस्त । नैनीताल की ठंडी सड़क पर शुक्रवार रात के बाद से लगातार भूस्खलन हो रहा है। सोमवार रात भूस्खलन के दौरान हुए धमाके के साथ भारी मलबा ठंडी सड़क से होते हुए नैनी झील में समा गया। दिन में भी झील में बोल्डर गिरे। भूस्खलन डीएसबी परिसर के केपी छात्रा छात्रावास के नए बने खंड के ठीक नीचे बिल्कुल अहाते से हो रहा है। इसलिए केपी छात्रावास के नए और पुराने दोनों खंडों को इससे खतरा उत्पन्न हो गया है। इस कारण छात्रावास के एक खंड को खाली करा दिया गया है।

पढ़ें :- शौचालय में बच्चे को जन्म देने के बाद भाग रही थी मां, मुकदमा दर्ज

भूस्खलन के कारण बिजली लाइन, पेड़ व सड़क किनारे की रेलिंग गिर गई है। सड़क किनारे की लाइट के पोल भी गिर गए हैं।अब ठंडी सड़क पर भूस्खलन वाले स्थान से गुजरना संभव नहीं रह गया है। गौरतलब है कि ठंडी सड़क पर पैदल आवागमन पहले ही रोका जा चुका है। भू वैज्ञानिक डॉ. बहादुर सिंह कोटलिया ने इस तरह के भूस्खलन को नैनीताल के लिए खतरनाक बताया है और आने वाले दिनों में इस बलियानाला जैसा खरतनाक होने की चेतावनी दी है।

डॉ. कोटलिया का कहना है कि यह बलियानाला के बाद नगर का सबसे कमजोर क्षेत्र है। यहां राजभवन से शुरू होकर डीएसबी गेट से राजभवन रोड होते हुए फ्लैट्स मैदान, बैंड स्टेंड से ग्रांड होटल होते हुए सात नंबर को जाने वाले इस क्षेत्र में पिछले कुछ वर्षों से बेहद सक्रियता के साथ लगातार भू धंसाव हो रहा है। वर्ष 1998 में डीएसबी के पास भूस्खलन हुआ था, जिसके बाद यहां निर्माण कार्य करने पर संस्तुति की गई थी, लेकिन साल दर साल यहां निर्माण कार्य जारी रहा। राजभवन रोड, बैंड स्टेंड और ग्रांड के पास सड़क का धंसना इसी के कारण है। फिर भी राजभवन रोड और लोवर मॉल रोड को बिना भार वहन क्षमता और जमीन में नमी का स्तर जांचे कार्य हो रहे हैं। यह कार्य स्थायी रहने वाले नहीं हैं। बल्कि इनके लिए उच्चस्तरीय अभियंताओं की जरूरत है। भविष्य में यह धंसाव बलियानाला जैसा भयावह स्वरूप भी ले सकता है।

उल्लेखनीय है कि इस स्थान पर 21 जुलाई से भूस्खलन प्रारंभ हुआ है। उस दिन यहां थोड़ा सा मलबा आया था। उसी दिन राजभवन रोड की पालिका मार्केट के पास धंसी थी। तब से यहां रुक -रुक कर भूस्खलन हो रहा था। शुक्रवार (27 अगस्त) को एक बड़ा बोल्डर आने के बाद से फिर बड़ा भूस्खलन हुआ और तब से भूस्खलन जारी है। यही भूस्खलन अब सोमवार रात्रि बड़े रूप में सामने आया है और मॉल रोड की ओर से भी हरीतिमा युक्त पहाड़ी पर किसी दाग की तरह नजर आ रहा है। डोजर मशीन भी इस मलबे को हटाने में जवाब दे चुकी है।

हिन्दुस्थान समाचार

पढ़ें :- उत्तराखंड: नैनीताल में भारी बारिश, 10 लोगों की मौत

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...