1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. छत्तीसगढ़ : ई-पंजीयन से नीलिमा के सपने हो रहे पूरे, सड़क बनाने को मिली लाखों की राशि

छत्तीसगढ़ : ई-पंजीयन से नीलिमा के सपने हो रहे पूरे, सड़क बनाने को मिली लाखों की राशि

जब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने युवाओं को रोजगार से जोड़ने और विकासकार्यों में भागीदारी सुनिश्चित करने ई-श्रेणी पंजीयन प्रणाली लागू की

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

रायपुर : इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी कर चुकी नीलिमा को विश्वास था कि डिग्री के बाद नौकरी लग जायेगी, लेकिन डिग्री के बाद जब वर्षों तक कोई नौकरी नहीं मिली तो नीलिमा का सपना मानों टूट ही गया। इस बीच जब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने युवाओं को रोजगार से जोड़ने और विकासकार्यों में भागीदारी सुनिश्चित करने ई-श्रेणी पंजीयन प्रणाली लागू की, तो नीलिमा की आस फिर से जाग गई। इस योजना से इंजीनियरिंग में स्नातक कुमारी नीलिमा साहू को मुख्यमंत्री सुगम सड़क योजना से पक्की सड़क बनाने का काम मिला है।

पढ़ें :- नक्सलियों ने सात दिन पहले किया था इंजीनियर का अपहरण, अब इस हालत में भेजा वापस

रायपुर जिले के आरंग में रहने वाली नीलिमा ने 2012 में बी.ई. की डिग्री हासिल की। नीलिमा ने बताया कि डिग्री लेने के बाद से ही वह नौकरी की तलाश में थी और साथ ही प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी भी करती रही। नीलिमा ने बताया कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जब प्रदेश के 12 वीं पास से लेकर स्नातक की पढ़ाई पूरी कर चुके बेरोजगार युवकों को निर्माण कार्यों में काम देने की घोषणा की तो उसे भी काम मिलने की उम्मीद दिखी। उसने बताया कि बेरोजगार युवाओं के लिए शुरू की गई ई-श्रेणी पंजीयन में अपना नाम रजिस्टर कराने के बाद उम्मीद थी कि उसे अपने क्षेत्र में काम करने का मौका मिलेगा। आरंग क्षेत्र के विधायक और प्रदेश के मंत्री डॉक्टर शिवकुमार डहरिया ने भी उसे प्रोत्साहित किया और नीलिमा को 12.52 लाख रुपये का काम मिला। उसे मुख्यमंत्री सुगम सड़क योजना के अंतर्गत आरंग विकासखण्ड के ग्राम रसनी में शासकीय स्कूल भवन से मुख्य मार्ग तक बनने वाली सड़क के निर्माण कार्य का जिम्मा नीलिमा को मिला।

अपनी स्नातक की पढाई पूरी करने के बाद पहली नौकरी मिलने पर नीलिमा ने छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री श्री बघेल और नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. डहरिया को धन्यवाद दिया। नीलिमा कहती है कि मेरे लिए यह गौरव की बात है कि मैं अपने क्षेत्र में होने वाले विकासकार्यों में भागीदारी देने जा रही हूं। इससे मुझे आर्थिक लाभ भी होगा। यह सब प्रदेश के मुख्यमंत्री और नगरीय प्रशासन एवं विकास तथा श्रम मंत्री की बदौलत हो सका है।

उल्लेखनीय है कि प्रदेश में बेरोजगार युवाओं को निर्माण कार्यों में रोजगार का अवसर उपलब्ध कराने ब्लॉक स्तर में 20 लाख तक के कार्य देने ई-पंजीयन प्रणाली शुरू की गई है। इसके लिए गैर अनुसूचित क्षेत्र में योग्यता स्नातक और अनुसूचित क्षेत्र में 12वीं पास रखी गई है।

पढ़ें :- मुख्यमंत्री ने संवैधानिक मर्यादा और राज्यपाल पद की गरिमा का किया अपमान - भाजपा
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...