1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. उत्तर प्रदेश में कोरोना का कोई नया वेरिएंट नहीं, जलजनित बीमारियों से प्रभावित बच्चे- राज्य सरकार

उत्तर प्रदेश में कोरोना का कोई नया वेरिएंट नहीं, जलजनित बीमारियों से प्रभावित बच्चे- राज्य सरकार

प्रदेश में डेंगू, चिकनगुनिया और काला अजार के मामले नियंत्रण में हैं, उत्तर प्रदेश में कोरोना का कोई नया वेरिएंट नहीं- राज्य सरकार

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

लखनऊ, 09 सितम्बर। उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण के नए मामलों के बारे में राज्य सरकार ने अपना बयान सामने रखा है। सरकार ने गुरुवार को साफ कहा है कि प्रदेश के जिन जनपदों में संक्रमण के मामले सामने आए हैं उनकी पड़ताल से पता चला है कि ये कोरोना का कोई नया वेरिएंट नहीं है। ये सभी जलजनित बीमारियां हैं। बदलते मौसम से इनका प्रकोप बढ़ रहा है।

पढ़ें :- Uttar Pradesh : सभी प्रदेशों के संगठनों की समीक्षा कर जल्द होगा संगठन में बड़ा बदलाव, एक ड्राफ्ट कमेटी का होगा गठन- एसडी शर्मा

डेंगू, चिकनगुनिया और काला अजार पर नियंत्रण

अच्छी खबर ये है कि प्रदेश में डेंगू, चिकनगुनिया और काला अजार के मामले नियंत्रण में हैं। इस बात की जानकारी स्वास्थ्य विभाग की ओर से गुरुवार को जारी किए गए आंकड़ों में दी गई। इस रिर्पोट के मुताबिक उत्तर प्रदेश के 58 जिलों से अब तक डेंगू के 1374 मरीजों की पुष्टि हुई है। वहीं पिछले 24 घंटों में 129 मामले सामने आए हैं।

अलर्ट पर प्रदेश

बदलते मौसम के चलते प्रदेश में संक्रमण के बढ़ते खतरे को देखते हुए प्रदेश सरकार ने चिकित्सीय सुविधाओं और साफ-सफाई को लेकर अलर्ट पहले ही जारी किया हुआ है। राज्य सरकार जलजनित रोगों पर अंकुश लगाने के लिए सभी जरुर प्रबंध सुनिश्चित करने के लिए हर संभव कोशिश कर रही है।

पढ़ें :- Gyanvapi Case : वाराणसी के ज्ञानवापी परिसर में मिले शिवलिंग को सील करने का सुप्रीम आदेश, 19 मई को सुनवाई

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को एक बैठक में सभी संबंधित विभागों को निर्देश दिए हैं कि वो डेंगू और जलजनित बीमारियों के मामलों को देखते हुए चिकित्सा सुविधाओं और साफ-सफाई का ध्यान रखें। इस बैठक में सीएम ने आला अधिकारियों से कहा कि डेंगू और अन्य वायरल बीमारियों से बचाव के लिए प्रदेशव्यापी सर्विलांस कार्यक्रम को तेजी से चलाया जाएं। प्रदेश में बुखार और संक्रमण के अन्य लक्षणों के मरीजों की पहचान प्राथमिकता पर की जाए। विशेषज्ञ टीम के दिशा-निर्देशों के अनुरूप उपचार की समस्त व्यवस्था करते हुए इन बीमारियों की रोकथाम के लिए टीमों की ओर से दवाइयां तेजी से बांटी जाए। साथ ही चिकित्सीय सुविधाएं जैसे बेड, दवाइयों की पर्याप्त उपलब्धता को सुनिश्चित करते हुए फिरोजाबाद, आगरा, मथुरा, कानपुर जैसे प्रभावित जनपदों के हालात पर पैनी नजर रखी जाए।

चिकनगुनिया के महज 24 मामलों की पुष्टि

रिर्पोट के मुताबिक प्रदेश में चिकनगुनिया के 24 मरीजों की पुष्टि हुई है। इसके साथ काला अजार के 37 मरीजों की पुष्टि हुई है। प्रदेश में डेंगू के मरीजों की पुष्टि होने पर 3 दिनों के अंदर रोकथाम की कार्रवाई की जा रही है। इसके अलावा डेंगू के रोगियों की पुष्टि होने पर उस घर और आस-पास के 50 घरों में पाइरिथ्रम का छिड़काव कराया जा रहा है।

स्वास्थ्यकर्मी घर-घर जाकर बुखार से पीड़ित लोगों की करेंगे पहचान

मुख्यमंत्री ने शहरी एवं ग्रामीण निकायों को क्षेत्र में साफ-सफाई करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही सर्विलांस को और बेहतर करने के साथ ही 07 से 16 सितंबर तक प्रदेशव्यापी सर्विलांस कार्यक्रम आयोजित होंगे। स्वास्थ्यकर्मी घर-घर जाकर बुखार और कोविड के लक्षण वाले लोगों की पहचान करेंगे।

पढ़ें :- Uttar Pradesh : योगी सरकार का 5 सालों में निर्यात को दोगुना करने का लक्ष्य, औद्योगिक बुनियादी ढांचे में सुधार कार्य शुरु

स्वच्छता-सैनिटाइजेशन का चल रहा बड़ा अभियान

राज्य सरकार के एक प्रवक्ता का कहना है कि प्रदेश में स्वच्छता-सैनिटाइजेशन का बड़ा अभियान 5 सितंबर से शुरू किया गया है। इसके तहत सभी जिलों के नामित नोडल अधिकारी इस कार्य पर अपनी पैनी नजर बनाए हुए हैं। स्वास्थ्य विभाग की ओर से आशा बहू, संगिनी, आंगनबाड़ी समेत स्वास्थ्यकर्मियों के जरिए प्रदेशव्यापी सर्विलांस कार्यक्रम किया जा रहा है। ये स्वास्थ्यकर्मी घर-घर जाकर बुखार से पीड़ित और कोविड के लक्षण वाले लोगों को चिन्हित कर रहे हैं। इसके साथ ही 45 साल से अधिक आयु के जिन लोगों ने अब तक कोविड वैक्सीन की एक भी डोज नहीं ली है उनकी सूची भी तैयार कर रहे हैं।

हिन्दुस्थान समाचार

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...