1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. Delhi: संसद से निलंबित सदस्यों पर एक एकजुट है विपक्ष, माफी नहीं मांगेंगे निलंबित सदस्य- मल्लिकार्जुन खड़गे

Delhi: संसद से निलंबित सदस्यों पर एक एकजुट है विपक्ष, माफी नहीं मांगेंगे निलंबित सदस्य- मल्लिकार्जुन खड़गे

खड़गे ने कहा कि विपक्षी सदस्यों का निलंबन नियम के खिलाफ और संविधान के अनुच्छेद 85 के खिलाफ है। हम लगातार सभापति से सदस्यों का निलंबन वापस लेने की मांग कर रहे हैं, लेकिन सरकार राजी नहीं हो रही है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 08 दिसंबर। राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने बुधवार को बयान जारी करते हुए कहा कि सरकार संसद में लोकतंत्र की हत्या कर रही है और विपक्षी सदस्यों को गलत तरीके से निलंबित किया गया है। खड़गे ने कहा कि विपक्ष के सदस्यों ने तय किया है कि निलंबित सदस्य माफी नहीं मांगेंगे।

पढ़ें :- Parliament : सोनिया गांधी ने संसद में उठाया मनरेगा के तहत मजदूरों को भुगतान में देरी का मुद्दा, BJP ने किया पलटवार

खड़गे ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा विपक्षी सदस्यों का निलंबन नियम के खिलाफ और संविधान के अनुच्छेद 85 के खिलाफ है। हम लगातार सभापति से सदस्यों का निलंबन वापस लेने की मांग कर रहे हैं, लेकिन सरकार राजी नहीं हो रही है।

पढ़ें :- राज्यसभा में विपक्ष के नेता खड़गे ने उठाया बेरोजगारी का मुद्दा

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने कहा कि निलंबन के लिए जो कारण गिनाए गए हैं वैसा कुछ हुआ ही नहीं है। लेकिन जबरदस्ती आरोप लगाए गए हैं। उन्होंने कहा कि 12 सदस्यों का निलंबन सरासर गलत है। सरकार को सदन चलाना चाहिए और विपक्ष सहयोग करने को तैयार है। लेकिन पहले सदस्यों का निलंबन वापस लेना होगा।

द्रविड़ मुनेत्र कषगम (DMK) के त्रिची शिवा ने कहा कि सरकार को सदस्यों का निलंबन वापस लेना चाहिए। क्योंकि सदस्यों के खिलाफ जो कार्रवाई की गई है वो पिछले सत्र की घटना को आधार बनाकर की गई है।

शिवसेना के संजय राउत ने कहा कि विपक्ष सदस्यों के निलंबन पर एक है। ना हम डरेंगे और ना झुकेंगे। उन्होंने कहा कि सदस्यों का माफी मांगने का सवाल ही नहीं है क्योंकि उन्हें गलत तरीके से निलंबित किया गया है।

वहीं एकजुट विपक्ष निलंबित सदस्यों के समर्थन में उनके साथ धरने में भी शामिल हुआ।

बतादें कि संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन 29 नवंबर को राज्यसभा से 12 सांसदों को सत्र की शेष अवधि के लिए निलंबित कर दिया गया था। पिछले मानसून सत्र में सदन में अनियंत्रित व्यवहार और आसन की मर्यादा का उल्लंघन करने और सुरक्षाकर्मियों से बदसलूकी की वजह से इन सासंदों को निलंबित किया गया। निलंबित सांसदों में कांग्रेस के 6, शिवसेना के 2, तृणमूल कांग्रेस के 2, माकपा और भाकपा के एक-एक सांसद शामिल हैं।

पढ़ें :- गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा 'टेनी' को तुरंत पद से हटाए सरकार- मल्लिकार्जुन खड़गे

निलंबित सांसद संसद भवन परिसर स्थित महात्मा गांधी की प्रतिमा के नीचे धरनारत हैं। उनका कहना है कि उन्हें गलत तरीके से निलंबित किया गया है। राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने पिछले सोमवार को सभापति एम. वेंकैया नायडू से मुलाकात कर 12 सदस्यों का निलंबन वापस लिए जाने की मांग की थी।

सदस्यों के निलंबन के कारण उच्च सदन में गतिरोध लगातार जारी है। विपक्षी सदस्यों के हंगामें के कारण सदन की कार्यवाही सुचारू ढ़ंग से नहीं चल पा रही।

ये ख़बर भी पढ़ें:

प्रियंका गांधी ने जारी किया कांग्रेस का महिला घोषणा पत्र, पुलिस बल में 25 प्रतिशत नौकरियां महिलाओं को देने का किया वादा

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...