1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. उत्तराखंड : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सीएम पुष्कर सिंह धामी और मंत्री अजय भट्ट से की बात

उत्तराखंड : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सीएम पुष्कर सिंह धामी और मंत्री अजय भट्ट से की बात

भारी बारिश के कारण लोगों का जीना मुहाल हो गया है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

उत्तराखंड,19 अक्टूबर – देवभूमि उत्तराखंड में लगातार तीसरे दिन भी भारी बारिश का कहर जारी है। भारी बारिश के चलते जहाँ एक तरफ सभी नदियाँ उफान पर हैं वहीं दूसरी तरफ भूस्खलन जैसी समस्या भी सामने आ रही है लगातार हो रही भारी बारिश के चलते आम लोगों का जन जीवन पूरी तरह से अस्त व्यस्त हो चुका है। हालात को बिगड़ता देख आज देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने प्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से फोन पर बातचीत की और लगातार बिगड़ रही स्थिति पर चर्चा की।

पढ़ें :- Uttarakhand News:चमोली में 700 मीटर गहरी खाई में गिरी बोलेरो,एक दर्जन के आस-पास लोगों की मौत

उत्तराखंड में लगातार तीसरे दिन जारी कुदरत के कहर के चलते चारधाम यात्रा पर रोक लगा दी गई है। वहीं आपको बता दें कि सोमवार को भूस्खलन के चलते 5 लोगों की मौत हो गई। भारी बारिश के कारण लोगों का जीना मुहाल हो गया है। नदी नाले सब उफान पर हैं। वहीं प्रदेश भर में जारी भारी बारिश के साथ बर्फबारी से हालात और भी ज्यादे बिगड़ गए हैं। लगातार हो रही बारिश के कारण नैनीताल समेत कई पर्यटन क्षेत्रों में टूरिस्ट फंसे हुए हैं।

पीएम ने सीएम धामी से फोन पर की बात 

हालात ऐसे हैं कि नैनीताल में झील का पानी माल रोड के ऊपर बह रहा है। इस बीच मौसम विभाग ने उत्तराखंड में अगले 48 घंटे का अलर्ट जारी किया है। यानी बारिश से अभी वहां राहत नहीं मिलने वाली है। लिहाजा स्थिति की जानकारी लेने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सीएम पुष्कर सिंह धामी और मंत्री अजय भट्ट से बात की और राज्य में भारी बारिश के कारण पैदा हुए हालात का जायजा लिया। साथ ही राहत व बचाव कार्यों पर भी बातचीत की। पीएम ने आपदा के इस संकट से लड़ने के लिए केंद्र सरकार की ओर से की जाने वाली हर संभव मदद की भी बात की।

लगातार बारिश से नैनीताल को दूसरे राज्यों से जोड़ने वाले हल्द्वानी, कालाढुंगी और भवाली रोड जगह-जगह भूस्खलन होने से बंद हो गए हैं। नैनीताल में डीएम आवास भी भूस्खलन की चपेट में आ गया है। इन दिनों ज्यादातर नाले पानी से भर चुके हैं। नैनी झील का पानी तल्लीताल में मॉल रोड और डॉठ सड़क पर आ गया है। जिससे लोवर मॉल रोड पर जल भराव हो गया है।

अब तक 16 लोगों की हुई मौत 

प्रदेश में हो रही भारी बारिश से इन दिनों बाढ़ की स्थिति पैदा हो गई है। बता दें कि पिछले दो दिनों में प्रदेश में कुल 16 लोगों की मौत की पुष्टि की जा चुकी है। वहीं भारी बारिश के चलते कई जगहों पर बादल फटने की भी घटना देखने को मिली है। जिसमें नैनीताल के रामगढ़ में बादल फटने के कारण अब तक 12 लोगों की मौत हो चुकी है। आपको बता दें कि लोगों के रेस्क्यू ऑपरेशन में सेना की मदद ली जा रही है। फिलहाल सेना के 3 हेलीकॉप्टर 2 कुमाऊं और 1 गढ़वाल मंडल में मदद के लिए इस्तेमाल किया जाएगा ।

पढ़ें :- Uttarakhand news:हल्द्वानी में पांडे परिवार के घर में रहस्यमय तरीके से 7 दिन में 11 बार लगी आग, 'प्रेत आत्मा' की हो रही चर्चा

आपको बता दें कि प्रदेश के कई इलाकों में स्थिति ऐसी है कि मल्लीताल स्थित नैना देवी के मंदिर परिसर में भी नैनी झील का पानी भर गया है। दूसरी ओर भवाली रोड पर लगभग आधा दर्जन स्थानों पर भारी मात्रा में मलबा आ गया है। ऐसे में पुलिस-प्रशासन ने नैनीताल नगर से लौट रहे सैलानियों से रात्रि में नगर में ही रुकने की अपील की है। साथ ही ऋषिकेश में गंगा नदी का जलस्तर बढ़ने से मंदिर परिसर में पानी जमा हो गया है। मौसम विभाग की तरफ से रिपोर्ट में कहा गया है कि अगले कुछ दिनों तक हालात ऐसे ही बनें रहेंगे। साथ ही प्रशासन भी पूरी तरह से अलर्ट है।

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...