1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. रायपुर: रेत माफ़ियाओं का बढ़ता आंतक, प्रदेश भर में राजनीतिक संरक्षण:अनुराग सिंहदेव

रायपुर: रेत माफ़ियाओं का बढ़ता आंतक, प्रदेश भर में राजनीतिक संरक्षण:अनुराग सिंहदेव

प्रदेश में चल रहे रेत माफियाओं के आतंक पर भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता अनुराग सिंह देव ने सरकार हमला बोला है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

रायपुर, 30 सितंबर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता अनुराग सिंहदेव ने प्रदेश में रेत माफ़ियाओं के बढ़ते आतंक को लेकर राज्य सरकार पर तीखा हमला बोलते हुए सवाल दागा है कि प्रदेश में माफ़ियाओं और अपराधियों की मुख़ालफ़त करना क्या अपराध है और क्या इसके लिए लोगों की जान तक दाँव पर लगाने की छूट माफ़ियाओं को दे दी गई है।

पढ़ें :- MGNREGA Scheme : राहुल गांधी ने बीजेपी को घेरते हुए कहा- कोरोना काल में मनरेगा लोगों के लिए वरदान सिद्ध हुआ

सिंहदेव ने मीडिया को जारी अपने बयान में सरगुजा में हुई घटना का उल्लेख करते हुए कहा कि अब तो बिहार और दूसरे प्रदेशों से आकर रेत माफ़िया छत्तीसगढ़ के लोगों को पिस्टल दिखाकर धमका रहे हैं और प्रदेश सरकार तथा पुलिस कोई सख़्त कार्रवाई करने की हिम्मत तक नहीं जुटा पा रही है। ऐसा प्रतीत हो रहा है कि प्रदेश सरकार अब आयातित अपराधियों के लिए भी छत्तीसगढ़ को पनाहग़ाह बनाने जा रही है।

भाजपा प्रवक्ता अनुराग सिंहदेव ने कहा कि सरगुजा संभाग में बलरामपुर ज़िला की ग्राम पंचायत गम्हरिया में रेत से लदे दो ट्रकों को ग्रामीणों द्वारा रोके जाने पर बिहार के रेत माफ़िया द्वारा ग्रामीणों को पिस्टल से गोली मारने की दी गई धमकी प्रदेश सरकार के नागरिक सुरक्षा और बेहतर क़ानून-व्यवस्था के दावों पर क़रारा तमाचा है। प्रदेशभर में राजनीतिक संरक्षण प्राप्त अपराधी और माफ़िया तमाम तरह के अपराधों और गोरखधंधों को अंजाम देकर प्रदेश सरकार के वज़ूद को ललकार रहे हैं, लेकिन प्रदेश सरकार को ज़रा भी शर्म महसूस नहीं हो रही है।

अनुराग सिंहदेव ने कहा कि प्रदेशभर में रेत माफ़ियाओं ने अवैध तरीक़ों से रेत उत्खनन, परिवहन और भंडारण कर रखा है। प्रदेश सरकार इन माफ़ियाओं पर नकेल तक नहीं कस पा रही है। रेत माफ़िया सरेआम प्रशासन को अपना बंधुआ बनाकर मनमानी कर रहे हैं, लोगों की जान ले रहे हैं और छत्तीसगढ़ियों को जान से मारने की धमकी दे रहे हैं!

भाजपा प्रवक्ता अनुराग सिंहदेव ने कहा कि रेत माफ़ियाओं ने लोगों की न केवल जान साँसत में डाल रखी है। जनहित से जुड़ी सुविधाओं को भी तहस-नहस कर डाला है। प्रदेश के ग्रामीण इलाक़ों, ख़ासकर आदिवासी इलाक़ों को शहरी व नगरीय मुख्यालयों से जोड़ने वाली सड़कों पर दिन-रात दौड़ते रेत माफ़ियाओं के ओवरलोड ट्रकों के चलते सड़कों का नाम-ओ-निशान तक नहीं रह गया है।

पढ़ें :- Jharkhand : भ्रष्टाचार को लेकर बोले निशिकांत दुबे- झारखंड में एक और हूल की जरूरत

हिन्दुस्थान समाचार

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...