1. हिन्दी समाचार
  2. बिज़नेस
  3. शेयर बाजार: फ्लैट कारोबार वाला सप्ताह

शेयर बाजार: फ्लैट कारोबार वाला सप्ताह

ये सप्ताह निवेशकों के लिए ज्यादा फायदेमंद साबित नहीं हुआ। पूरे सप्ताह बाजार में कारोबार फ्लैट ही रहा।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 10 सितंबर। भारतीय शेयर बाजार के लिए ये सप्ताह पूरी तरह से फ्लैट कारोबार वाला सप्ताह रहा है। इस सप्ताह कुल 4 दिन ही शेयर बाजार में कारोबार हुआ। जिसमें 2 दिन शेयर बाजार मामूली बढ़त के साथ बंद हुआ, जबकि 2 दिन शेयर बाजार मामूली गिरावट के साथ बंद हुआ। बाजार के कुछ जानकारों का मानना है कि इस सप्ताह के कारोबार से अब बाजार में मामूली करेक्शन का संकेत मिलने लगा है। इसलिए फिलहाल छोटे निवेशकों को सतर्क होकर कारोबार करना चाहिए।

पढ़ें :- शेयर बाजार में तेजी का सिलसिला जारी, सेंसेक्स 233 अंक उछला

इस पूरे सप्ताह के कारोबार के दौरान हर दिन बाजार में उतार चढ़ाव काफी अधिक रहा। इसी कारण पहले दो कारोबारी दिन यानी सोमवार और मंगलवार को शेयर बाजार के दोनों सूचकांकों सेंसेक्स और निफ्टी ने ऑल टाइम हाई का नया रिकॉर्ड भी कायम किया। लेकिन उतार चढ़ाव के क्रम की वजह से जितनी तेजी से सूचकांक ऊपर चढ़े, उतनी ही तेजी से बिकवाली के दबाव के कारण नीचे लुढ़क भी गए।

शेयर बाजार के जानकारों का मानना है कि घरेलू शेयर बाजार फिलहाल रिकॉर्ड लेवल पर काम कर रहा है। देश की अर्थव्यवस्था में आई हुई जबरदस्त रिकवरी, अच्छे ग्लोबल संकेत और बाजार में कैश की पर्याप्त उपलब्धता ने सेंसेक्स और निफ्टी को लगातार मजबूती प्रदान की है। जिसकी वजह से सेंसेक्स पहली बार 18,500 अंक के ऊपर और निफ्टी 17,400 अंक के ऊपर पहुंच कर तेजी का नया रिकॉर्ड बनाने में सफल रहे हैं।

धामी सिक्योरिटी के वाइस प्रेसिडेंट प्रशांत धामी के मुताबिक एशिया के अन्य देशों के शेयर बाजारों की तुलना में भारतीय शेयर बाजार ने इस साल अभी तक सबसे बेहतर प्रदर्शन किया है। खासकर अगस्त के महीने में भारतीय शेयर बाजार का प्रदर्शन शानदार रहा है। इस महीने सेंसेक्स ने 4700 अंक से अधिक की छलांग लगाई, तो निफ्टी भी 1000 अंक से ज्यादा चढ़ गया। सितंबर के महीने में भी सेंसेक्स और निफ्टी की तेजी जारी रही, जिसके कारण दूसरे कारोबारी सप्ताह में ही सेंसेक्स 58,500 अंक के स्तर को पार कर गया, वहीं निफ्टी ने भी पहली बार 17,400 अंक के स्तर को पार करने में कामयाबी हासिल की।

धामी के अनुसार शेयर बाजार में अभी और तेजी की संभावना बनी हुई है। जल्दी ही शेयर बाजार जोरदार तेजी के रास्ते पर दोबारा बढ़ सकता है। लेकिन उसके पहले मौजूदा दौर में शेयर बाजार में आई इस तेजी के बाद मुनाफावसूली होना पूरी तरह से अपेक्षित है। इसके साथ ही बाजार में तेजी के अगले दौर की तैयारी के लिए मामूली करेक्शन होना भी पूरी तरह से स्वाभाविक है। इस कारोबारी सप्ताह में शेयर बाजार का जोरदार उतार-चढ़ाव के साथ कारोबार करना और अंत में कमजोरी साथ बंद होना इसी बात का संकेत देता है कि अब शेयर बाजार में कभी भी मामूली करेक्शन का दौर शुरू हो सकता है। ऐसी स्थिति में छोटे निवेशकों को काफी सतर्क होकर अपनी निवेश योजना बनानी चाहिए।

पढ़ें :- एलआईसी के शेयर 9 फीसदी डिस्काउंट के साथ शेयर बाजार में लिस्ट

प्रशांत धामी के मुताबिक मौजूदा स्तर पर बिना सोचे समझे किया गया निवेश अपनी मेहनत से कमाई पूंजी को गंवाने की वजह बन सकता है। खास करके अभी की स्थिति में मिडकैप और स्मॉल कैप के शेयर में निवेश करना जुआ खेलने के समान हो सकता है। क्योंकि मिडकैप और स्मॉलकैप दोनों ही ऑल टाइम हाई पर पहुंच चुके हैं, जिसके कारण ज्यादातर ट्रेडर्स को सबसे पहले मिडकैप और स्मॉलकैप में ही करेक्शन होने का अनुमान है। ऐसी स्थिति में छोटे निवेशकों को फिलहाल कुछ समय तक मिडकैप और स्मॉलकैप निवेश करने से बचना चाहिए।

इसी तरह स्वस्तिका इन्वेस्ट मार्ट के संतोष मीणा कहना है कि बाजार में करेक्शन की संभावना को देखते हुए निवेशकों को मुनाफावसूली करते हुए बाहर निकल जाने की कोशिश करनी चाहिए। अगर निवेशकों का इन्वेस्टमेंट टार्गेट पूरा नहीं हो सका है और वे बाजार में बने रहना चाहते हैं, तो उन्हें स्टॉप लॉस जरूर लगाना चाहिए, ताकि शेयर बाजार में करेक्शन होने की स्थिति में उन्हें अधिक नुकसान का सामना ना करना पड़े। मीणा के मुताबिक निवेशकों को शेयर बाजार में करेक्शन का इंतजार करना चाहिए, ताकि गिरावट के दौर में अच्छे फंडामेंटल्स वाले शेयर में निवेश करके अच्छी कमाई की जा सके।

हिन्दुस्थान समाचार/

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...