1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. प्रधानमंत्री मोदी सोमवार को करेंगे पहले अत्याधुनिक ‘रानी कमलापति’ रेलवे स्टेशन देश को समर्पित

प्रधानमंत्री मोदी सोमवार को करेंगे पहले अत्याधुनिक ‘रानी कमलापति’ रेलवे स्टेशन देश को समर्पित

रेलवे के अधिकारियों ने बताया कि PPP के तहत रेलवे ने 17,245 वर्ग मीटर भूमि अंसल समूह को 45 साल के लिए लीज पर दिया है। लगभग 100 करोड़ रुपए की लागत से स्टेशन को नया रूप दिया गया है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

भोपाल/नई दिल्ली, 14 नवंबर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में सार्वजनिक निजी भागीदारी (PPP) के तहत पुनर्विकसित देश के पहले “अत्याधुनिक” हबीबगंज रेलवे स्टेशन को बदले हुए नाम के साथ राष्ट्र को समर्पित करेंगे। देश का पहला अत्याधुनिक रेलवे स्टेशन गोंड रानी कमलापति के नाम पर होगा।

कमलापति स्टेशन पर सभी सुविधाएं मौजूद

विश्व स्तरीय मॉडल को ध्यान में रखकर बनाए गए रानी कमलापति स्टेशन पर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों पर मौजूद सभी सुविधाएं हैं। प्रधानमंत्री मोदी आदिवासी प्रतीक और स्वतंत्रता सेनानी बिरसा मुंडा की स्मृति में ”जनजातीय गौरव दिवस” मनाने के बाबत आदिवासी सम्मेलन के लिए भोपाल की अपनी यात्रा के दौरान रानी कमलापति रेलवे स्टेशन का शुभारंभ करेंगे।

आयोजन के दौरान प्रधानमंत्री मोदी मध्य प्रदेश में रेलवे की कई पहलों को राष्ट्र को समर्पित करेंगे, जिनमें गेज परिवर्तित और विद्युतीकृत उज्जैन-फतेहाबाद चंद्रावतीगंज ब्रॉड गेज खंड, भोपाल-बरखेड़ा खंड में तीसरी लाइन, गुना-ग्वालियर खंड का विद्युतीकृरण, गेज परिवर्तन और विद्युतीकृत मथेला-निमाड़ खीरी खंड शामिल हैं। पीएम मोदी उज्जैन-इंदौर और इंदौर-उज्जैन के बीच 2 नई ट्रेनों को भी हरी झंडी दिखाएंगे।

भारतीय रेलवे स्टेशन विकास निगम लिमिटेड (IRSDC) और पश्चिम मध्य रेलवे के अधिकारियों ने रविवार को बताया कि PPP के तहत रेलवे ने 17,245 वर्ग मीटर भूमि अंसल समूह को 45 साल के लिए लीज पर दिया है। लगभग 100 करोड़ रुपए की लागत से स्टेशन को नया रूप दिया गया है।

Rani Kamalapati railway station

रानी कमलापति स्टेशन पर सभी सुविधाएं मौजूद

रेलवे स्टेशन में फूड कोर्ट, रेस्तरां, वातानुकूलित प्रतीक्षालय, VIP लाउंज हैं। प्लेटफॉर्म तक पहुंचने के लिए स्टेशन पर 12 एस्केलेटर और 8 लिफ्ट भी लगाए गए हैं। 24 घंटे निगरानी रखने के लिए स्टेशन पर करीब 176 CCTV लगाए गए हैं। स्टेशनों पर ट्रेनों की सूचना पर विभिन्न भाषाओं का डिस्प्ले बोर्ड होगा। स्टेशन में एक पर्यटक लाउंज के लिए भी जगह होगी, जहां मध्य प्रदेश के पर्यटन और संस्कृति के बारे में जानकारी देने के लिए एक बड़ी LED स्क्रीन लगाई गई है।

रेलवे स्टेशन की मुख्य विशेषता ये है कि आगमन और प्रस्थान के लिए अलग-अलग मार्ग बनाए गए हैं। यात्रियों को सभी 5 प्लेटफार्म पर प्रवेश के लिए एस्केलेटर का इस्तेमाल करना होगा, जबकि ट्रेन से उतरने वाले यात्रियों को बाहर जाने के लिए 2 भूमिगत पारपथ (सब-वे) का इस्तेमाल करना होगा। इससे स्टेशन पर यात्री आसानी से आ-जा सकेंगे। ये अपने आप में रेलवे का पहला स्टेशन होगा, जहां इस तरह की सुविधा मौजूद होंगी।

इसके अलावा स्टेशन की विशेषता विशाल एयर कौन कोर्स है, जो प्राकृतिक प्रकाश और हवा से युक्त है। यहां एक समय में 700 यात्री बैठ सकते हैं। यात्रियों को रेलगाड़ियों के आवागमन संबंधी सूचना के लिए LED और उद्घोषणा आदि की व्यवस्था है। वहीं भोजन आदि के लिए कई स्टॉल भी मौजूद होंगे।

स्टेशन को एकीकृत मल्टी-मॉडल परिवहन के हब के रूप में भी विकसित किया गया है। मुंसिपल रोड्स के साथ रेलवे स्टेशन पर यातायात के लिए समर्पित संपर्क मार्ग के अलावा स्काई वॉक के जरिए से भोपाल मेट्रो का सीधा कनेक्शन होगा।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
India Voice Ads
X