1. हिन्दी समाचार
  2. तकनीक
  3. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फार्मा क्षेत्र के पहले वैश्विक नवाचार शिखर सम्मेलन का उद्घाटन किया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फार्मा क्षेत्र के पहले वैश्विक नवाचार शिखर सम्मेलन का उद्घाटन किया

2 दिवसीय शिखर सम्मेलन में 12 सत्र होंगे, 40 से अधिक राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय वक्ता नियामक वातावरण, नवाचार के लिए धन, उद्योग-अकादमिक सहयोग और नवाचार बुनियादी ढांचे सहित कई विषयों पर विचार-विमर्श करेंगे।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 18 नवंबर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए से फार्मा क्षेत्र के पहले वैश्विक नवाचार शिखर सम्मेलन का उद्घाटन किया।

इस पहल का उद्देश्य भारत में फार्मास्युटिकल्स उद्योग में एक संपन्न नवाचार पारिस्थितिकी तंत्र को बढ़ावा देने के लिए प्राथमिकताओं पर चर्चा और रणनीति बनाने के लिए सरकार, उद्योग, शिक्षाविदों, निवेशकों और शोधकर्ताओं के प्रमुख भारतीय और अंतरराष्ट्रीय हितधारकों को एक मंच पर लाना है। ये भारतीय फार्मा उद्योग में उन मौके को भी सामने लाएगा, जिनमें विकास की अपार संभावनाएं हैं।

2 दिवसीय शिखर सम्मेलन में 12 सत्र होंगे, 40 से अधिक राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय वक्ता नियामक वातावरण, नवाचार के लिए धन, उद्योग-अकादमिक सहयोग और नवाचार बुनियादी ढांचे सहित कई विषयों पर विचार-विमर्श करेंगे। इसमें घरेलू और वैश्विक फार्मा इंडस्ट्रीज के प्रमुख सदस्यों, मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, जॉन हॉपकिंस इंस्टीट्यूट, IIM अहमदाबाद और बाकी प्रतिष्ठित संस्थानों के अधिकारियों, निवेशकों और शोधकर्ताओं की भागीदारी देखी जाएगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कहा कि कोरोना काल में स्वास्थ्य क्षेत्र की महत्ता प्रदर्शित हुई। उन्होंने कहा कि भारतीय फार्मास्यूटिकल्स क्षेत्र ने इस सभी चुनौती का सफलतापूर्वक सामना किया है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जीवनशैली, दवाएं, चिकित्सा प्रौद्योगिकी, टीके और स्वास्थ्य सेवा के हर पहलू ने पिछले 2 सालों में वैश्विक ध्यान आकर्षित किया है।

इस दौरान भारतीय दवा उद्योग भी चुनौती के लिए तैयार हो गया है। भारतीय स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र की ओर से अर्जित वैश्विक विश्वास ने हाल के दिनों में भारत को “विश्व की फार्मेसी” कहा है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कल्याण की हमारी परिभाषा भौतिक सीमाओं तक सीमित नहीं है। हम पूरी मानव जाति की भलाई में विश्वास करते हैं और हमने इस भावना को पूरी दुनिया को कोविड-19 वैश्विक महामारी के दौरान दिखाया है। पीएम मोदी ने कहा कि हमने महामारी के शुरुआती चरण के दौरान 150 से अधिक देशों को जीवन रक्षक दवाएं और चिकित्सा उपकरण निर्यात किए। हमने इस साल लगभग 100 देशों को कोविड टीकों की 65 मिलियन से अधिक खुराक निर्यात भी की है।

पीएम मोदी ने कहा कि हमारा विजन इनोवेशन के लिए एक ऐसा इको-सिस्टम बनाना है जो भारत को ड्रग डिस्कवरी और इनोवेटिव मेडिकल डिवाइसेज में लीडर बनाए। सभी हितधारकों के साथ व्यापक परामर्श के आधार पर हमारे नीतिगत हस्तक्षेप किए जा रहे हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत में वैज्ञानिकों और प्रौद्योगिकीविदों का एक बड़ा पूल है, जिसमें उद्योग को नई ऊंचाइयों पर ले जाने की क्षमता है। इस ताकत को “डिस्कवर एंड मेक इन इंडिया” के लिए उपयोेग करने की जरूरत है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
India Voice Ads
X