1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रक्षा क्षेत्र की कई पहलों का किया शुभारंभ, कहा देश का मंत्र (Make of India) ‘मेक इन इंडिया, मेक फॉर वर्ल्ड’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रक्षा क्षेत्र की कई पहलों का किया शुभारंभ, कहा देश का मंत्र (Make of India) ‘मेक इन इंडिया, मेक फॉर वर्ल्ड’

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश आज सैन्य ताकत में आगे बढ़ रहा है और भविष्य ताकतवर युवाओं के हाथों में सौंपने की भी तैयारी कर रहा है। उन्होंने कहा कि आज देश की सेनाओं की ताकत बढ़ रही है, साथ ही भविष्य में देश की रक्षा के लिए सक्षम युवाओं के लिए जमीन भी तैयार हो रही है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 19 नवंबर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को उत्तर प्रदेश में झांसी की अपनी यात्रा के दौरान ‘राष्ट्र रक्षा समर्पण पर्व’ में रक्षा क्षेत्र की कई पहलों का शुभारंभ किया और उन्हें राष्ट्र को समर्पित किया। कार्यक्रम झांसी में 17 से 19 नवंबर तक ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ समारोह के हिस्से के रूप में आयोजित किया जा रहा है।

इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि लंबे समय से भारत को दुनिया के सबसे बड़े हथियार खरीदार देशों में गिना जाता रहा है लेकिन आज देश का मंत्र है- ‘मेक इन इंडिया, मेक फॉर वर्ल्ड’। आज भारत अपनी सेनाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए काम कर रहा है।

इस दौरान आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि देश आज सैन्य ताकत में आगे बढ़ रहा है और भविष्य ताकतवर युवाओं के हाथों में सौंपने की भी तैयारी कर रहा है। उन्होंने कहा कि आज हमारी सेनाओं की ताकत बढ़ रही है, भविष्य में देश की रक्षा के लिए सक्षम युवाओं के लिए जमीन तैयार हो रही है। उन्होंने कहा कि 100 सैनिक स्कूल की शुरुआत से देश का भविष्य ताकतवर हाथों में देने का काम शुरू होगा। हमारी सरकार ने सैनिक स्कूलों में बेटियों के प्रवेश की शुरुआत की है। 33 सैनिक स्कूलों में इस सत्र से छात्राओं के प्रवेश शुरू भी हो गए हैं। सैनिक स्कूलों से रानी लक्ष्मीबाई जैसी बेटियां भी निकलेंगी जो देश की रक्षा-सुरक्षा, विकास की ज़िम्मेदारी अपने कंधों पर उठाएंगी।

उन्होंने कहा कि ‘राष्ट्र रक्षा समर्पण पर्व’ झांसी भारत में रक्षा के इतिहास में एक नए अध्याय की शुरुआत है। भारत डायनेमिक्स लिमिटेड के एक नए संयंत्र की आधारशिला यहां रखी गई है। ये यूपी डिफेंस कॉरिडोर के झांसी को नई पहचान देगा।

प्रधानमंत्री ने इस दौरान झांसी धरती, उसके वीरों और वीरांगनाओं को याद किया। उन्होंने रानी लक्ष्मी बाई और उनकी सहयोगी झलकारी बाई के सैन्य कौशल को याद किया। उन्होंने कहा कि रानी लक्ष्मी बाई के पास अगर अंग्रेजों जैसे सैन्य संसाधन होते तो देश का इतिहास अलग होता। उन्होंने कहा कि ये झांसी, रानी लक्ष्मीबाई की ये धरती बोल रही है- मैं तीर्थस्थली वीरों की, मैं क्रांतिकारियों की काशी, मैं हूं झांसी, मैं हूं झांसी, मैं हूं झांसी, मैं हूं झांसी।” इसके अलावा उन्होंने झांसी के मेजर ध्यानचंद को भी याद किया।

रक्षा क्षेत्र में आत्मानिर्भर भारत को बढ़ावा देने के लिए पीएम मोदी ने औपचारिक रूप से स्वदेशी रूप से डिजाइन और विकसित किए गए उपकरणों को सशस्त्र बलों के सेवा प्रमुखों को सौंपा। इनमें हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) को डिजाइन और विकसित लाइट कॉम्बैट हेलीकॉप्टर (LCH) को वायु सेना प्रमुख को; थल सेनाध्यक्ष को भारतीय स्टार्टअप द्वारा डिजाइन और विकसित किए गए ड्रोन/यूएवी; और DRDO द्वारा डिजाइन किया और भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (BEL) द्वारा नौसेना के जहाजों के लिए निर्मित उन्नत इलेक्ट्रॉनिक वारफेयर सूट को नौसेनाध्यक्ष को सौंपना शामिल रहा। LCH में प्रभावी लड़ाकू भूमिकाओं के लिए उन्नत तकनीकों और चालबाज़ सुविधाओं को शामिल किया गया है। भारतीय सशस्त्र बलों की ओर से भारतीय यूएवी की तैनाती भी भारतीय ड्रोन उद्योग इकोसिस्टम की बढ़ती परिपक्वता का प्रमाण है। उन्नत EW सूट का इस्तेमाल कई नौसैनिक जहाजों में किया जाएगा, जिनमें विध्वंसक, युद्धपोत शामिल हैं।

प्रधानमंत्री ने इस दौरान उत्तर प्रदेश रक्षा औद्योगिक गलियारे के झांसी खंड में 400 करोड़ रुपये की परियोजना का शिलान्यास किया। टैंक रोधी निर्देशित मिसाइलों के लिए प्रणोदन प्रणाली का उत्पादन करने के लिए एक संयंत्र स्थापित करने के लिए भारत डायनेमिक्स लिमिटेड की ओर से इस परियोजना को कार्यान्वित किया जा रहा है।

NCC के पूर्व छात्रों को एनसीसी के साथ फिर से जोड़ने में सक्षम बनाने के लिए एक औपचारिक मंच प्रदान करने के उद्देश्य से प्रधानमंत्री एनसीसी पूर्व छात्र संघ का शुभारंभ किया। ये संघ एनसीसी के उद्देश्यों को आगे बढ़ाएगा और राष्ट्र निर्माण में सहायता करेगा। इस दौरान संघ ने प्रधानमंत्री को एक पूर्व एनसीसी कैडेट के रूप में एसोसिएशन के पहले सदस्य के रूप में नामांकित किया।

प्रधानमंत्री ने NCC की तीनों इकाइयों के लिए सिमुलेशन प्रशिक्षण सुविधाओं को बढ़ाने के उद्देश्य से एनसीसी कैडेटों के लिए सिमुलेशन प्रशिक्षण के राष्ट्रीय कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इसमें NCC की सैन्य इकाई के लिए राइफल फायरिंग सिमुलेटर की स्थापना, एयर विंग के लिए माइक्रोलाइट फ्लाइंग सिमुलेटर और नेवल विंग के लिए रोइंग सिमुलेटर शामिल हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
India Voice Ads
X