1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. उत्तराखंड : बारिश के कारण ऋषिकेश में जन जीवन अस्त-व्यस्त, राफ्टिंग कंपनियों के संचालकों में मायूसी

उत्तराखंड : बारिश के कारण ऋषिकेश में जन जीवन अस्त-व्यस्त, राफ्टिंग कंपनियों के संचालकों में मायूसी

पर्यटकों की भारी आमद के कारण यातायात को संचालित करने के लिए शनिवार को पुलिस को काफी परेशानी से जूझना पड़ा था।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

ऋषिकेश, 17 अक्टूबर। ऋषिकेश में हुई भारी बारिश के चलते जहां जनजीवन पूरी तरह अस्त-व्यस्त हो गया है। वहीं देश के विभिन्न प्रांतों से आए राफ्टिंग करने वाले पर्यटकों को काफी असुविधाओं का सामना करना पड़ रहा है। इसके कारण राफ्टिंग कंपनियों के संचालकों में मायूसी छाई है।

पढ़ें :- Uttarakhand : चहुंमुखी विकास की ओर अग्रसर है उत्तराखंड, लोगों का हो रहा है री-वेरिफिकेशन- CM पुष्कर सिंह धामी

शनिवार और रविवार को ऋषिकेश में राफ्टिंग करने वालों का बहुत जमावड़ा लगा रहता है ,लेकिन रविवार की सुबह से हो रही बारिश के कारण राफ्टिंग पर आए पर्यटकों को आपदा प्रबंधन द्वारा गंगा में न उतरने की दी गई चेतावनी के चलते उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा है। इसके कारण राफ्टिंग कंपनियों के संचालकों में भी काफी मायूसी देखी जा रही है।

पर्यटकों की भारी आमद के कारण यातायात को संचालित करने के लिए शनिवार को पुलिस को काफी परेशानी से जूझना पड़ा था। रविवार को सुबह से हो रही बारिश ने राफ्टिंग करने आए पर्यटकों की आशाओं पर पानी फेर दिया। उधर बाजारों में भी बारिश के कारण ग्राहकों के ना आने से मायूसी का माहौल है। उल्लेखनीय है कि मौसम विभाग ने पहाड़ों में 3 दिन की बारिश का अलर्ट जारी किया है।

आपदा प्रबंधन विभाग ने इस चेतावनी को ध्यान में रखते हुए सभी स्थानीय निवासियों और यात्रियों से सतर्कता बरतने, नदी नालों से दूरी बनाने और सुरक्षित स्थानों पर रहने की अपील की है। उत्तराखंड की यात्रा पर आ रहे यात्रियों और यात्रा कर रहे यात्रियों से भी अनुरोध किया है कि बे मौसम की चेतावनी को देखते हुए अपनी यात्रा की योजना बनाएं। विशेष तौर पर इस अवधि में यात्रा करने से बचने का आग्रह किया गया है।

चेतावनी को लेकर एसडीआरफ अलर्ट

पढ़ें :- तीन घेरों की सुरक्षा में बंद हुईं ईवीएम

एसडीआरफ कमांडेंट नवनीत सिंह के आदेशानुसार राज्य के विभिन्न जनपदों में व्यवस्थापित एसडीआरएफ की सभी टीमें अलर्ट पर हैं। सभी टीमों को निर्देश दिया गया है कि वे किसी भी तरह की आपात कालीन परिस्थिति से निपटने के लिए लिए पहले से अलर्ट रहें और रेस्क्यू उपकरणों को भी कार्यशील दशा में रखें।

व्यवस्थापन टीम

देहरादून जनपद में सहस्त्रधारा, चकराता, टिहरी, ढालवाला (ऋषिकेश), कोटि कॉलोनी, ब्यासी (कौड़ियाला)। उत्तरकाशी – उजेली, भटवाड़ी, गंगोत्री, बड़कोट,जानकीचट्टी/यमुनोत्री।पौड़ी गढ़वाल, श्रीनगर, कोटद्वार, सतपुली, चमोली के मोली,गौचर, जोशीमठ, पांडुकेश्वर, बद्रीनाथ। रुद्रप्रयाग, सोनप्रयाग, अगस्तमुनि,लिनचोली, श्रीकेदारनाथ। पिथौरागढ़- पिथौरागढ़,धारचूला, अस्कोट,बागेश्वर में कपकोट, नैनीताल में नैनी झील, खैरना, अल्मोड़ा जिले में सरियापानी और ऊधमसिंहनगर जिले में रुद्रपुर तैनात की गई है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...