1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. राहुल गांधी ने मां वैष्णो देवी के दरबार में लगाई हाजिरी, संध्या आरती में हुए शामिल

राहुल गांधी ने मां वैष्णो देवी के दरबार में लगाई हाजिरी, संध्या आरती में हुए शामिल

मैं श्रद्धालु बन मां वैष्णो देवी के चरणों में हाजिरी लगाने आया हूं, मैं माता रानी की पावन धरती पर कोई राजनीतिक बयानबाजी नहीं करुंगा- राहुल गांधी

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

जम्मू, 09 सितम्बर। जम्मू के अपने दो दिवसीय दौरे के दौरान कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने गुरुवार शाम मां वैष्णो देवी के दरबार में हाजिरी लगाई। राहुल गांधी ने करीब 16 साल बाद माता वैष्णो देवी के दर्शन किए। इससे पहले राहुल गांधी 2005 में अपनी बहन प्रियंका गांधी के साथ माता वैष्णो देवी के दर्शनों के लिए आए थे।

पढ़ें :- Delhi : बीजेपी का राहुल गांधी पर पलटवार- विदेश में भारत की छवि धूमिल करने का काम करते हैं राहुल गांधी

पैदल यात्रा कर माता वेष्णो देवी के दरबार पहुंचे

राहुल गांधी ने पैदल यात्रा कर माता वेष्णो देवी के दरबार में माथा टेका और माता की संध्या आरती में शामिल हुए। राहुल गांधी ने माता वैष्णो देवी पहुंचने से पहले पत्रकारों से बातचीत में कहा कि‘मैं श्रद्धालु बन मां वैष्णो देवी के चरणों में हाजिरी लगाने आया हूं, मैं माता रानी की पावन धरती पर कोई राजनीतिक बयानबाजी नहीं करुंगा’।

वहीं राहुल गांधी के आगमन को लेकर कटड़ा-दोमेल मार्ग पर जगह-जगह कांग्रेस नेता और कार्यकर्ता स्वागत के लिए मौजूद रहे। दोपहर करीब 1.45 बजे गाड़ियों के काफिले के साथ राहुल गांधी आधार शिविर कटड़ा पहुंचे और कुछ देर के लिए एक निजी होटल में रुके, दोपहर करीब 2.45 बजे मां वैष्णो देवी के प्रवेश द्वार से पैदल मां वैष्णो देवी भवन के लिए रवाना हुए।

जिसके बाद राहुल गांधी मां वैष्णो देवी भवन पहुंचकर सायंकाल आयोजित होने वाली मां वैष्णों देवी की दिव्य आरती में शामिल होकर मां की आराधना की। उसके बाद मां वैष्णो देवी के चरणों में हाजिरी लगा कर विशेष पूजा-अर्चना की।

पढ़ें :- Nav Sankalp Shivir : देश के लिए जनता के बीच जाना होगा, सभी को अपना पसीना बहाना होगा- राहुल गांधी

राहुल गांधी की वैष्णो देवी यात्रा के दौरान उनके साथ जम्मू-कश्मीर के सभी वरिष्ठ कांग्रेसी नेता शामिल थे, जिनमें पीसीसीआई अध्यक्ष जीए मीर, पूर्व मंत्री रमन भल्ला, पूर्व मंत्री जुगल किशोर शर्मा, कांग्रेस जिला प्रधान राजेश सधोत्रा, अम्बरीश मगोत्रा, सोनू सिंह प्रमुख रहे।

बतादें कि साल 1975 में इंदिरा गांधी की ओर से देश में इमरजेंसी लगाई गई थी। जिसके बाद हुए चुनावों में कांग्रेस हार गई थी, इसके बाद पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी पार्टी की जीत की कामना को लेकर अपने योग गुरु स्वामी धीरेंद्र ब्रह्मचारी के साथ साल 1977 में कटड़ा से पैदल मां वैष्णों देवी के भवन पहुंची थीं। मां वैष्णों देवी के चरणों में कांग्रेस पार्टी की जीत की कामना की थी। जिसके बाद कांग्रेस पार्टी की जीत हुई थी और एक बार फिर प्रधानमंत्री बनने पर इंदिरा गांधी साल 1979 में अपने बेटे संजय गांधी और कांग्रेस नेता बलराम जाखड़ के साथ मां वैष्णों देवी के चरणों में हाजिरी लगाने पहुंचे थीं।

हिन्दुस्थान समाचार

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...