1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. रेल मंत्रालय ने की रेल कौशल विकास योजना की शुरुआत , पढ़े पूरी खबर !

रेल मंत्रालय ने की रेल कौशल विकास योजना की शुरुआत , पढ़े पूरी खबर !

रेल मंत्रालय ने स्किल डेवल्पमेंट को बढ़ावा देने के लिए रेल कौशल विकास योजना की शुरुआत की है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 17 सितंबर। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने गुरुवार को रेल कौशल विकास योजना का शुभारंभ किया. कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि इस योजना में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का विजन निहित है। साथ ही उन्होंने कहा कि इस योजना के माध्यम से देश के कुल 75 स्थानों पर 50 हजार युवाओं को उद्योग आधारित स्किल प्रदान किया जाएगा।

पढ़ें :- 'श्री रामायण यात्र' ट्रेन से कराएगी भगवान राम से जुड़े तीर्थ स्थलों के दर्शन, धार्मिक पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा

आपको बता दें कि रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने रेल भवन से वर्चुअली इस योजना का शुभारंभ किया. साथ ही इस योजना से जुड़े विभिन्न केंद्रों पर मौजूद रेल अधिकारियों और प्रशिक्षुओं को वर्चुअल माध्यम से संबोधित भी किया और सभी अधिकारीयों और प्रशिक्षुओं को बधाई भी दी। अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि विश्वकर्मा पूजा और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिन का यह विशिष्ट दिन है। उन्होंने कहा कि 50 हजार युवाओं को प्रशिक्षण का यह ट्रेनिंग प्रोग्राम भारतीय रेलवे की ओर से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को जन्मदिन का उपहार है। प्रधानमंत्री मोदी के विजन में कौशल विकास एक मुख्य अंग है। वह चाहते हैं कि समाज के अंतिम छोर तक लाभ पहुंचे। उन्होंने युवाओं से समाज की मौजूदा जरूरतों के हिसाब से स्किल आधारित प्रशिक्षण पर जोर दिया। इस दौरान उन्होंने अपना खुद का वेल्डिंग और सोल्डरिंग का अनुभव भी साझा किया।

रेल मंत्री ने योजना के संबंध में बताया कि रेल कौशल विकास योजना में इलेक्ट्रीशियन, फिटर, मशीनिस्ट और वेल्डर सहित चार क्षेत्रों में प्रशिक्षण दिया जाएगा। उन्होंने इसके अलावा इंस्ट्रूमेंटेशन, सिगनलिंग, कॉन्क्रीट सैटिंग, रॉड वेंडिंग और इलेक्ट्रॉनिक कार्ड रिप्लेसमेंट जैसी कुछ अन्य ट्रेड को भी इस योजना में शामिल करने का सुझाव दिया। रेलवे अधिकारियों के अनुसार रेल कौशल विकास योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए युवाओं की आयु 18 से 35 वर्ष के बीच होनी चाहिए एवं युवा हाईस्कूल पास होना चाहिए। युवाओं को हाई स्कूल के नंबरों के प्रतिशत से मेरिट के आधार पर ट्रेड के विकल्प अनुसार चयन किया जाएगा। सीजीपीए को प्रतिशत में बदलने के लिए 9.5 से गुणा किया जाएगा। इस योजना का लाभ उठा कर युवा अपने भविष्य को सुधार सकेगा.

प्रशिक्षण की कुल अवधि 3 सप्ताह निर्धारित की गई है। वहीं प्रशिक्षण पूरा होने के बाद अभ्यार्थी को एक लिखित परीक्षा देनी होगी जिसमें कम से कम 55 प्रतिशत अंक और प्रैक्टिकल परीक्षा में कम से कम 60 प्रतिशत अंक प्राप्त करने अनिवार्य होंगे। आपको बता दें कि इस योजना के अंतर्गत प्रदान किए जाने वाला प्रशिक्षण निशुल्क है। ट्रेनिंग पूरा करने के बाद युवाओं को सर्टिफिकेट प्रदान किए जायेंगे। यह ट्रेनिंग कई ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट के माध्यम से प्रदान किया जाएगा.

पढ़ें :- पश्चमी रेलवे : अगले कुछ दिनों विशेष ट्रेनें रहेंगी बाधित , निकलने से पहले जान लें अपने ट्रेन का हाल
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...